करवा चौथ की पौराणिक व्रत कथा (Karwa Chauth Vrat Katha)

करवा चौथ (Karwa Chauth) हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है। यह कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। इस दिन सभी सुहागिन अपने पति की लम्बी उम्र के लिए कामना करती है और एक दिन का…

करवा चौथ पर सुहागने करें ये सोलह श्रृंगार (Karwa Chauth Shringar)

Karwa Chauth Shringar: पति की लंबी उम्र के लिए चांद निकलने का इंतजार, और पति का प्यार पाने के लिए चांद सा निखरने का इंतजार…करवाचाैथ पर हर सुहागन को होता है। हो भी क्यों न, पति के मन पर राज करने…

करवा चौथ एक आकर्षक और अनूठी लोककला का पर्व (Karwa Chauth Story)

(Karwa Chauth Story) करवा चौथ का पर्व अखिल भारतीय नहीं है। यह अवध से लेकर पश्चिमी उत्तरप्रदेश, हिमाचलप्रदेश, पंजाब, राजस्थान और हरियाणा में मनाया जाता है, करवा चौथ से जुड़ी हुई परंपराओं में एक अनूठी परंपरा है करवा कला। करवा कला…

रावण एक महापंडित: रावण के द्वारा रचे शास्त्र (Ravana History)

Ravana History in Hindi: आयुर्वेद, तंत्र और ज्योतिष का ज्ञाता : रावण अपने युग का प्रकांड पंडित ही नहीं, वैज्ञानिक भी था। आयुर्वेद, तंत्र और ज्योतिष के क्षेत्र में उसका योगदान महत्वपूर्ण है। इंद्रजाल जैसी अथर्ववेदमूलक विद्या का रावण ने ही…

रावण से जुडी कई रोचक बाते है। जो कई लोगो को अभी भी नहीं पता

Ravana Facts : रावण जितना बुरा था, उसमे उतनी खुबिया भी थी। इसलिए रावण को महाविद्वान और प्रकांड पंडित माना जाता था। विभिन्न विभिन्न ग्रंथो में रावण के बारे में कई बाते लिखी गई है। रावण से जुडी कई रोचक…

नवरात्रि 2020: चौथा दिन माँ कुष्मांडा की पूजा करने की विधि, भोग, मंत्र और आरती

Maa Kushmanda Mantra नवरात्रि के चौथे दिन पूजी जाने वाली देवी कुष्मांडा कही जाती हैं पुराणों में वर्णित है कि ये तापयुक्त संसार को अपने उदर में धारण करती हैं वहीँ दूसरी मान्यता यह भी है कि अपनी मुस्कान से…

नवरात्रि 2020: देवी चंद्रघंटा की पूजा करने की विधि, भोग, मंत्र और आरती

वैसे तो माँ शक्ति के नौ स्वरुप है, और हर एक रुप की अपनी एक अलग कथा है। लेकिन जानिए की क्यों है, माता ये स्वरुप सबसे अद्भुत है और उनके पूजन की कैसे विधिवत कर के सफल बनाये। जानिए क्यों…

नवरात्रि 2019 : आज माँ ब्रह्मचारिणी का दिन हैं उन्हें खुश करने के लिए ऐसे करे पूजा

माँ ब्रह्मचारिणी की पूजा करने की विधि और भोग नवदुर्गा के रूप में दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी को पूजा जाता हैं। इनकी पूजा करने से ज्ञान और वैराग्य की प्राप्ति होती है। माँ ब्रह्मचारिणी की कथा करने से जीवन की अनेक…