Government Teacher kaise Bane: आज भी हमारे देश में हर कोई प्राइवेट जॉब के मुकाबले सरकारी नौकरी (Sarkari Naukri) को ही प्राथमिकता देता है। प्राइवेट नौकरी की बजाय लोगों का झुकाव सरकारी नौकरी की तरफ ज्यादा है। कोई एसएससी एग्ज़ाम (SSC Exam) क्रैक कर किसी सरकारी ऑफिस में नौकरी पाना चाहता है तो कोई पुलिस इंस्पेक्टर, कोई डॉक्टर, कोई आईपीएस तो कोई आईएएस। लेकिन इन सबसे अलग एक और फील्ड ऐसी है जो सबका ध्यान अपनी ओर खींचती है। ये है टीचर की जॉब। टीचर बनने की ख्वाहिश ज्यादातर लोगों की होती है, खासतौर से लड़कियों की। वहीं अगर टीचर बनने का मौका किसी सरकारी स्कूल में मिल जाए तो फिर कहने ही क्या। लेकिन आमतौर पर ये देखा जाता है कि ज्यादातर लोगों को ये पता ही नहीं होता कि टीचर बनने के लिए उन्हे करना क्या चाहिए। 12वीं के बाद उन्हे कौन सा कोर्स करना होगा। किस दिशा में आगे बढ़ना होगा…वगैरह-वगैरह सवाल उनके दिमाग में घूमते ही रहते हैं जिनके जवाब उन्हे नहीं मिल पाते हैं। तो हम अपने इस आर्टिकल में आपको उन सभी सवालों के जवाब दे रहे हैं।

देखिए, किसी भी फील्ड या लाइन में सक्सेस होने के लिए ज़रूरी है कि जो तभी लाइन आप चुनें, उसमें आपकी दिलचस्पी जरूर हो। बिना रूचि के आप सफलता हासिल नहीं कर सकते। अगर आप वाकई टीचिंग लाइन में जाना चाहते हैं तो ये आर्टिकल आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। चलिए हम आपको बताते हैं कि सरकारी टीचर व शिक्षक बनने के लिए आपके पास क्या कुछ विकल्प है और आप कौन सा कोर्स अपने लिए चुन सकते हैं।

बीएड (B.Ed – Bachelor Of Education)

मौजूदा दौर में अधिकतर युवा यही कोर्स चुनते हैं। अगर आप ग्रेजुएट हैं तो आप बी.एड. के लिए एलिजिबल है। आप इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं। बी.एड. में एडमिशन के लिए अभ्यर्थी का Entrance Exam होता है। जिसे पास करने के बाद ही अभ्यर्थी बी.एड. में प्रवेश मिलता है। ये कोर्स 2 साल का होता है। जिसे करने के बाद आप टीचर के लिए एलिजिबल माने जाते हैं।

बीटीसी (B.T.C – बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट)

बीटीसी का ये कोर्स उत्तर प्रदेश के अभ्यर्थियो के लिए होता है जिसमें  केवल उत्तर प्रदेश के युवा ही एडमिशन ले सकते हैं। ये 2 साल का कोर्स है जिसमें मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलता है। स्नातक यानि ग्रेजुएशन के बाद इस कोर्स के लिए आवेदन किया जा सकता है। लेकिन आवेदन के लिए न्यूनतम आयु सीमा 18 साल व अधिकतम आयु सीमा 30 साल निर्धारित की गई है। अगर आप ये कोर्स पूरा कर लेते हैं तो आप Primary और Middle स्कूल में पढ़ाने के योग्य हो जाते हैं।

बीपीएड (BP.Ed – बैचलर ऑफ़ फिजिकल एजुकेशन)

ये कोर्स युवाओं के बीच सबसे ज्यादा पॉपुलर है। इस कोर्स को करने के बाद प्राइवेट और सरकरी स्कूलों में फिजिकल एजुकेशन के हजारो पदों पर भर्ती के लिए आप आवेदन कर सकेंगे।

वहीं आपको ये भी बता दें कि फिजिकल एजुकेशन भी दो तरह की होती है. एक ग्रेजुएशन पास के लिए और दूसरी 12वीं पास के लिए। दोनों में फर्क केवल ये है कि ग्रेजुएट अभ्यर्थियों को केवल 1 साल का बीपीएड करना होता है जबकि 12वीं पास वालों को 3 साल के लिए। इस कोर्स को करने के बाद आप किसी भी सरकारी स्कूल में सरकारी टीचर बन सकते हैं।

एनटीटी (N.T.T. – नर्सरी टीचर ट्रेनिंग )

12वीं पास करते ही आप एनटीटी का ये कोर्स आसानी से कर सकते हैं। बड़े शहरों में ये कोर्स किसी प्राइवेट संस्थान से भी किया जा सकता है। इस कोर्स की अवधि 2 साल है। जिसे करने के बाद आप किसी स्कूल में नर्सरी टीचर की नौकरी हासिल कर सकते हैं।

डीएड (D.Ed. – डिप्लोमा इन एजुकेशन)

डीएड का कोर्स भी 12वीं पास करने के बाद किया जा सकता गहगै। ये कोर्स बिहार , छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में करवाया जाता है। जिसे करने के बाद प्राइमरी स्कूल में सरकारी टीचर की जॉब हासिल की जा सकती है।

जेबीटी (JBT – जूनियर टीचर ट्रेनिंग)

जेबीटी यानि जूनियर टीचर ट्रेनिंग कोर्स प्राइमरी टीचर ट्रेनिंग के लिए होता है। जिसके लिए न्यूनतम शैक्षिक योग्यता 12वीं पास है।

Facebook Comments