बिहार में मंगलवार को विधानसभा चुनाव को लेकर दूसरे चरण का मतदान जारी है। इस बीच कई गणमान्य लोग भी लोकतंत्र के इस पर्व में भाग लेने के लिए मतदान केंद्र पहुंच रहे हैं और अपने मताधिकार का प्रयोग कर रहे हैं। वहीं दूसरी ओर मधुबनी(Madhubani) में रैली को संबोधित करने पहुंचे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार(Nitish Kumar) को विरोध का सामना करना पड़ा। नीतीश जब रैली में भाषण दे रहे थे तभी वहां मौजूद एक शख्स ने उनपर पत्थर और प्याज़ फेंक दिया। यह देख नीतीश कुमार के गार्डों ने उसे रोकने का प्रयास किया लेकिन नीतीश के दो दूक अंदाज में जवाब दिया।

फेंकने दो जितना फेंकना है- नीतीश

दरअसल पत्थर और प्याज़ फेंकने वाले शख्स ने रैली को संबोधित कर रहे सीएम पर सवाल करते हुए कहा कि बिहार में अभी भी खुले-आम शराब की बिक्री और तस्करी हो रही। तभी शख्स को रोकने गए गार्डों को रोकते हुए नीतीश ने कहा – फेंकने दो, जितना फेंकना है, फेंकने दो।

यह कहने के बाद नीतीश(Nitish Kumar) ने अपना भाषण जारी रखा और कहा ‘हम इसलिए कह रहे हैं कि सरकार आने के बाद रोजगार का अवसर पैदा होगा और किसी को बाहर नहीं जाना पड़ेगा।’ नीतीश बोले कि ‘जो आज सरकारी नौकरी की बात कर रहे हैं, जब वो सत्ता में थे तो कितने लोगों को रोजगार दिया तब तो काफी वक्त तक बिहार-झारखंड एक ही था।’

यह भी पढ़े

इससे पहले झेलना पड़ा है विरोध प्रदर्शन

आपको बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब नीतीश कुमार(Nitish Kumar) की रैली में इस प्रकार का विरोध प्रदर्शन देखने को मिला है। इससे पहले मुजफ्फरपुर की रैली में भी नीतीश को लोगों की नारेबाजी का सामना करना पड़ा था। इस रैली में कुछ लोगों ने लालू यादव जिंदाबाद के नारे लगाए थे, तब मंच से ही नीतीश ने कहा था कि जिसके जिंदाबाद के नारे लगा रहे हो उसे ही सुनने जाओ, यहां क्यों आए हो।

Facebook Comments