Coronavirus India: भारत में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की ओर से तमाम प्रयास किए जा रहे हैं। साथ में जो डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मी मरीजों के इलाज में लगे हुए हैं, उन्हें भी आवश्यक संसाधन मुहैया कराने की हरसंभव कोशिश की जा रही है। इसी क्रम में चीन से भारत को लगभग 1.70 लाख पर्सनल प्रोटेक्‍शन एक्विपमेंट (PPE) के सुरक्षा सूट (PPE Suit) प्राप्त हुए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसके बारे में जानकारी देते हुए बताया है कि बीते सोमवार को भारत को ये सभी PPE सूट हासिल हो गए हैं।

Coronavirus India – अब तक इतने हुए उपलब्ध

China gives 1 lakh PPE suits to India coronavirus
News18

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह भी बताया गया है कि भारत में घरेलू स्तर पर भी 20 हजार पीपीई सुरक्षा सूट प्राप्त हुए हैं। ऐसे में बहुत जल्द देशभर में डॉक्टरों को 1.90 लाख पीपीई सूट उपलब्ध करा दिए जाएंगे। साथ ही देश में पहले से ही 3 लाख 87 हजार 473 पीपीई सुरक्षा सूट उपलब्ध होने की जानकारी स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई है।

यह भी पढ़े स्वास्थ्य मंत्रालय का बयान- कोरोना संक्रमण के दूसरे और तीसरे चरण के बीच में भारत

पहले इन राज्यों को

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से यह भी बताया गया है कि अब तक राज्यों को 2 लाख 94 हजार पीपीई सूट भेजे जा चुके हैं। साथ में राज्यों को केंद्र सरकार की ओर से 2 लाख एन-95 मस्क भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इन सभी को मिला दिया जाए तो केंद्र सरकार की ओर से अब तक लगभग 20 लाख एन-95 मास्क उपलब्ध कराए जा चुके हैं। सबसे पहले तमिलनाडु, महाराष्‍ट्र, दिल्‍ली, केरल, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और राजस्‍थान जैसे राज्यों को ये चीजें उपलब्ध कराई जा रही है, क्योंकि केंद्र सरकार के मुताबिक ये राज्य इस वक्त सबसे ज्यादा प्रभावित हैं।

इन्हें भी दी जा रही सप्लाई

China gives 1 lakh PPE suits to India coronavirus
Economictimes

एम्‍स, सफदरजंग अस्‍पताल, राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल, रिम्‍स, बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी जैसे बड़े संस्थानों में भी ये जरूरी चीजें केंद्र सरकार की ओर से बड़े पैमाने पर सबसे पहले भेजी जा रही हैं। एन-95 मास्क के साथ 80 लाख पूर्ण पीपीई किट के लिए भारत सरकार की ओर से सिंगापुर की एक कंपनी को ऑर्डर भी दे दिया गया है।  बताया जा रहा है कि 11 अप्रैल से इसकी सप्लाई शुरू हो जाएगी। 60 लाख पूर्ण पीपीई किट का ऑर्डर देने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक एक चीनी कंपनी के साथ बातचीत अब अपने अंतिम चरण में है।

Facebook Comments