Total Lockdown 21 Days: कोरोना वायरस के भारत में भी तेजी से पांव पसारने के मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा देश भर के लिए कर दी गई है। प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में कहा है कि पिछले लॉकडाउन को गंभीरता से नहीं लेने की वजह से यह कड़ा फैसला लेना पड़ा है। प्रधानमंत्री के मुताबिक यह कर्फ्यू के ही समान होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस का संक्रमण देश में बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है। ऐसे में यह कदम उठाना जरूरी हो गया था।

लोगों की चिंता (Total Lockdown India)

प्रधानमंत्री की ओर से 21 दिनों के लंबे लॉकडाउन की घोषणा के बाद देश के अधिकतर नागरिक यह सोच कर परेशान हैं कि आखिर इन 21 दिनों में उन्हें जरूरत की चीजें कैसे उपलब्ध होंगी। ऐसे में आपको बता दें कि राष्ट्र के नाम संबोधन के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी है कि जरूरत की चीजें उपलब्ध होती रहेंगी। साथ ही जरूरी मेडिकल सेवाएं भी जारी रहेंगी। किसी को घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है।

ये करते रहेंगे काम (Total Lockdown 21 Days Essential Supply)

पुलिस स्टेशन अपना काम करते रहेंगे। पेट्रोल पंप खुले रहेंगे। इस दौरान राशन की दुकानें भी खुली रहेंगी। फल और सब्जियां मिलती रहेंगी। मेडिकल स्टोर्स खुले रहेंगे। गैस मिलती रहेगी। बिजली की सप्लाई होती रहेगी। नर्सिंग होम भी खुले रहेंगे। वैसे, प्रशासन की कोशिश इस दौरान यही रहेगी कि लोगों के घरों तक जरूरी सामान की डिलीवरी की जाए। प्राइवेट और सरकारी दफ्तरों को बंद कर दिया गया है। बैंक खुलेंगे जरूर, लेकिन सीमित कर्मचारी यहां काम करेंगे। लॉकडाउन से मीडिया को छूट मिली हुई है।

जरूरी था ये कदम

दूध, फल, सब्जी जैसी जरूरी चीजों और राशन की सप्लाई तो लोगों को होती रहेगी, लेकिन यह किस तरीके से होगी इसके संबंध में विभिन्न राज्य सरकारों की ओर से दिशा-निर्देश आने अभी भी बाकी हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि यह कदम उठाना इसलिए जरूरी था, क्योंकि यदि 21 दिनों के लॉकडाउन को गंभीरता से न लिया गया तो देश 21 साल पीछे चला जाएगा। अब तक के सीमित लॉकडाउन में जरूरी चीजों की आपूर्ति निर्बाध तरीके से हुई है। इसलिए लोगों को घबराने की आवश्यकता नहीं है। पीएम मोदी ने लोगों से अफवाहों से भी बचने की अपील की है।

Facebook Comments