IRCTC: भारत में लगभग 70 प्रतिशत लोग ट्रेन से सफर करते हैं। देश में ट्रेन से सफर करने के लिए टिकट बुक कराने का सबसे सरल तरीका  IRCTC की ऐप है। IRCTC इसके लिए अतिरिक्त शुल्क भी लेती है, लेकिन आपको बता दें कि अक्टूबर-नवंबर और दिसंबर महीने में इंटरनेट ई-टिंकट बुकिंग से IRCTC ने तीन गुना बढ़कर आमदनी की थी। IRCTC ने ई-टिकट बुकिंग के जरिए 227 करोड़ रुपये कमाए थे। वहीं इस दौरान IRCTC ने 15 रुपए वाली पानी की बोतल यानी ‘रेल नीर’ को बेचकर करीब 58.6 करोड़ रुपए अपने खाते में जोड़े हैं। ये 42 फीसदी बढ़ी है।

जानिए IRCTC की आमदनी [Indian Railway Catering and Tourism Corporation]

IRCTC
News18

IRCTC ने अपने तिमाही परिणानों का ऐलान किया है। अक्टूबर, नवंबर और दिसंबर में IRCTC ने 435 करोड़ रुपए से बढ़कर 716 करोड़ रुपए की कमाई की है। वहीं मुनाफे की बात करें तो, Indian Railway Catering and Tourism Corporation ने 73.6 करोड़ रुपये से बढ़कर 206 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया है। यानी यह मुनाफा में 180 फीसदी की बढ़त हुई है। कंपनी ने अपने निवेशकों को इंप्रेस करने के लिए 10 रुपये प्रति शेयर का डिविडेंड देने का भी ऐलान किया हैं।

IRCTC को ट्रेन में खाना बेचने से यानी कैटरिंग से दिसंबर तिमाही में 269 करोड़ रुपए की इंकम हुई। यह पहले के मुकाबले 8.23 फीसदी बढ़ी है। इससे पहले वित्त वर्ष यानी साल 2018 की अक्टूबर-दिसंबर तिमाही से आमदनी 249 करोड़ रुपये रही थी।

IRCTC Eticketing System G3 Profits Jump 3 Fold To Rs 206 Cr On Strength In Ticketing Rail Business
News18 Hindi

वहीं आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर आप रेल यात्रा करते है और आप अपनी सीट कंफर्म को लेकर परेशान है तो आपको रेलवे ने बड़ी रहात दी है।

यह भी पढ़े: रेलवे ने किया यह बड़ा फैसला, यात्रा के दौरान बदल सकता है आपका अनुभव

आपको बता दें कि भारत की पहली दो प्राइवेट ट्रेन लखनऊ-दिल्ली तेजस एक्सप्रेस (Lucknow-Delhi Tejas Express) और अहमदाबाद-मुंबई तेजस एक्सप्रेस (Ahmedabad-Mumbai Tejas Express) का संचालन कर रही है। (Indian Railway Catering and Tourism Corporation) अब इंदौर-वाराणसी रूट पर तीसरी प्राइवेट ट्रेन चलाएगी। वहीं IRCTC की काशी महाकाल एक्सप्रेस (Kashi Mahakal Express) भी पटरियों पर दौड़ने को तैयार है। उम्मीद लगाई जा रही है कि इस ट्रेन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 16 फरवरी को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी से हरी झंडी दिखा सकते हैं। ट्रेन का उद्घाटन होने के बाद 20 फरवरी से आम आदमी इसकी सवारी कर पाएंगे।

Facebook Comments