Rajasthan Lockdown: रामनवमी के अवसर पर नवमी/ दशमी के दिवस पर राजस्थान के बूंदी जिले में स्थित रामनगर कस्बे में अंधविश्वास का खेल देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। बड़ी संख्या में लोग इन खेलों को देखने के लिए रामनवमी पर लगे इस मेले में शामिल हुए। आज जहां पूरा देश कोरोना वायरस जैसे जानलेवा संकट से जूझ रहा है वहीं राजस्थान के बूंदी जिले के रामनगर कस्बे में अंधविश्वास का खेल लोगों को आकर्षित करता दिखाई दिया।

लोग इस अंधविश्वास के खेल को देखने के लिये सैकड़ों की संख्या में एकत्रित हो गए। प्रत्येक वर्ष नवरात्रि व रामनवमी के अवसर पर यहां मेले का आयोजन किया जाता है जिसमें लोग बड़ी तादात में इसके भागीदार बनते हैं।

Rajasthan Lockdown- घर की छतों और सड़कों पर इक्कठा हुए लोग

rajasthan lockdown people navratri function coronavirus
AajTak

रामनवमी के इस आयोजन पर इस साल कोरोना जैसी गंभीर महामारी के चलते रोक लगाई गई थी जिससे कि लोगों को बड़ी संख्या में इकट्ठा होने पर लगाम लगायी जा सके। आप को बता दें कि, पूरे राष्ट्र के साथ-साथ राजस्थान में भी इस वक़्त लॉकडाउन घोषित किया गया है और साथ ही धारा 144 को भी लागू किया गया है। धारा 144 के मायने हैं कि लोगों को किसी भी स्थान पर सामूहिक रूह से एकत्रित होने पर पाबंदी होती है। सरकार ने ये क़दम लोगों में कोरोना वायरस से फैल रही घातक महामारी की रोकथाम करने के लिए ऐसे कड़े कदम उठाए हैं। मगर शुक्रवार यानी दशमी के दिन बूंदी के रामनगर व लाखेरी कस्बे में मेले के दौरान सैकड़ों लोग यहां अंधविश्वास का खेल देखने के लिए घर की छतों और सड़कों पर जमा हो गए।

यह भी पढ़े बढ़ते कोरोना वायरस के केस को देखते हुए मोदी सरकार ने बनाया नया प्लान !

पांच लोग हुए गिरफ्तार

रामनगर और लाखेरी कस्बे में आयोजित मेले और अंधविश्वास का खेल दिखाए जाने के मामले में सदर थाना पुलिस ने अब तक पांच लोगों की गिरफ़्तारी कर ली है और मामले की जांच में जुटी हुई है। मेले के आयोजन के दौरान कस्बे के ज़्यादातर गली मौहल्लों में अंधविश्वास का खेल दिखाया जा रहा था। लोगों की भारी भीड़ होने के कारण, लोग अपने अपने घरों की छतों और गली की सड़कों व चौराहों पर बहुतायत में अंधविश्वास का खेल को देखने के लिए इकट्ठे हो गए।

बूंदी जिले के रामनगर और लाखेरी कस्बे में ये परिस्थियां अलग अलग रूप में देखने को मिलीं। रामनगर में ये हालात तब दिखायी दिए जब झंडा निकालने के दौरान लोगों के एक बड़े समूह ने उस जगह को घेर लिया। वहीं लाखेरी कस्बे में यह दृश्य माता रानी के मंदिर में जुटे अनेक भक्तों के बीच देखने को मिला। मौके पर पहुंची पुलिस ने सैकड़ो लोगों की लगी भीड़ को तितर-बितर किया और लोगों से तत्काल घर जाने की अपील की।

पुलिस को करनी पड़ी मशक्क़त

आपकी जानकारी के लिए बता दें की, इस प्रक्रिया में पुलिस को काफ़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। साथ ही पुलिस ने मंदिर में अंधविश्वास का खेल चल रहे पंडित को भी समझाया। रामनगर कस्बे में इस माहौल का नज़ारा लाखेरी कस्बे से थोड़ा अलग देखने को मिला। यहां पर लोग अंधविश्वास के खेल को देखने के लिए घर की छतों से लेकर सड़कों चौराहों तक पटे पड़े थे।

पुलिस ने काफ़ी मशक्क़त के बाद सड़कों पर जमा लोगों को घर वापस भेजा और चल रहे आयोजन पर रोक लगायी। हालांकि इस पूरे मामले पर पुलिस ने अब तक इस मेले का आयोजन करने वाले 5 लोगों को अपनी गिरफ़्त में ले।लिया है और मामले की तफ़्तीश में लगी हई है।

Facebook Comments