एक मनुष्य के शरीर में  सात चक्र मौजूद होते हैं। मूलाधार, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विशुद्धि, आज्ञा और सहस्रार…ये सभी उन सात चक्रों के ही नाम है। कहा जाता है कि कुंडलिनी योग के ज़रिए ही शरीर में मौजूद इन सात चक्रों को जागृत किया जाता है। कुण्डलिनी योग(Kundalini Yoga) को लय योग भी कहा जाता है। योग (Yoga) का ये वो महत्वपूर्ण प्रकार है जिसके ज़रिए व्यक्ति अपने भीतर मौजूद कुंडलिनी शक्तियों को जागृत कर सकता है और ब्रह्म शक्ति को पा सकता है। इस योग में पूरी ताकत के साथ मन को पूरी तरह से ब्रह्म में लीन करना होता है। अंग्रेज़ी में इस क्रिया को सरपेंट पावर” के नाम से जाना जाता है। आज अपने इस लेख में हम आपको कुंडलिनी योग(Kundalini Yoga) के अभ्यासों, उन्हे करने के तरीके और इसे करने के लाभ के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं। सबसे पहले बात करेंगे कुंडलिनी योग के अभ्यास के बारे में 

कुंडलिनी योग अभ्यास [Kundalini Yoga Practice]

Kundalini Yoga For Beginners
Riadyaljot

अगर आप कुंडलिनी योग के ज़रिए अपने भीतर मौजूद शक्तियों को जगाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अलग-अलग सांस लेने के व्यायाम, शारीरिक कसरत, कुंडलिनी योग से संबंधित मंत्रों के जप व ध्यान लगाने की बेहद ज़रूरत होती है। दरअसल, इन सभी माध्यम से हमारे शरीर में मौजूद सभी सात चक्रों को क्रियाशील किया जा सकता है। इन चक्रों के जाग्रत होने का सीधा असर हमारे शरीर के साथ-साथ हमारे विचारों पर भी पड़ता है और हमारे भीतर नकारात्मकता का अंत होकर सकारात्मकता का संचार होता है। 

ये तो थी कुंडलिनी योग अभ्यास की जानकारी। लेकिन सवाल ये भी अहम है कि कुंडलिनी योग अभ्यास को करें कैसे…तो चलिए आपको इसे करने का सही तरीका बताते हैं।

कुंडलिनी योग अभ्यास कैसे करें [How To Do Kundalini Yoga]

Kundalini Yoga Benifits
Yogajournal

कोई भी योग बिना पवित्रता के नहीं किया जा सकता है लिहाज़ा इस योग के लिए भी साधक को अपने मन व तन को पवित्र करना सबसे ज्यादा ज़रूरी है। इसके लिए साधक व्रत रखें, संयम रखें, अपने व्यवहार में उदारता लाएं और सबसे मीठा बोलें। कुंडलिनी योग के लिए दिनचर्या में भी सुधार ज़रूरी है यानि जल्दी उठें और जल्दी सोएं। वहीं सुबह और शाम को नियमित रूप से प्राणायाम, धारणा और ध्यान का अभ्यास करना चाहिए। अगर आप अपनी जीवनशैली में इस तरह से सुधार कर इस दिनचर्या को अपनाते हैं तो छह महीने से लेकर एक साल के भीतर कुंडलिनी जागरण किया जा सकता है। चलिए अब आपको कुंडलिनी योग के जागरण से होने वाले फायदों के बारे में बताते हैं। 

कुंडलिनी योग के लाभ [Kundalini Yoga Benefits]

How To Do Kundalini Yoga
Verywellfit

कुंडलिनी योग एक बार जाग्रत हो जाए तो इससे असीमित सिद्धियों को हासिल किया जा सकता है। और सबसे बड़ी सिद्धि है नकारात्मकता का अंत और सकारात्मकता का संचार। लेकिन इसके अलावा आप अपने भीतर किन शक्तियों की अनुभूति कर सकते हैं वो भी आपको बता देते हैं। कुंडलिनी शक्ति के जागरण से 

  • रोग प्रतिरोधक तंत्र यानि इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।
  • रक्त शुद्ध यानि ब्लड प्यूरीफायर में मदद मिलती है।
  • यह मनुष्य को तनाव से दूर रखता है और डिप्रेशन में जाने से बचाता है
  • यौन स्वास्थ्य विकसित होता है।
  • वज़न घटाने में भी ये योग काफी फायदेमंद है।
  • मन, शरीर और आत्मा का मेल कराता है।
  • धूम्रपान और शराब की लत से छुटकारा पाया जा सकता है। 
  • शक्ति और सिद्धि हासिल होती है।
  • ज्ञानेन्द्रियां मजबूत बनती हैं।
  • नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है और सकारात्मक ऊर्जा का विकास होता है।
Facebook Comments