(Gita Gopinath IMF Chief Economist) गीता गोपीनाथ का जन्म 8 दिसंबर 1971 में मैसूर में हुआ था, अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) के मुख्य अर्थशास्त्री का पद-भार संभालने वाली पहली महिला हैं उन्हें इस पद पर 1 अक्टूबर 2018 को नियुक्त किया गया है। गीता गोपीनाथ ने पिछले सप्ताह अपना यह नया कार्य-भार संभाला। उन्हें ऐसे समय इस वित्तीय संगठन के मुख्य आर्थिक सलाहकार की जिम्मेदारी दी गयी है जबकि आर्थिक वैश्वीकरण के सामने भी चुनौतियां खड़ी हो रही हैं।

भारत की गीता गोपीनाथ बनीं चीफ इकोनॉमिस्ट (Gita Gopinath IMF Chief Economist)

gita gopinath imf chief economist
ThePrint

गीता गोपीनाथ 47 वर्ष की हैं और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र की प्रोफेसर रही हैं। उन्होंने मिस्टर मौरिस आब्स्टफेल्ड की जगह  अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (IMF) में पदभार संभाला है।  गीता गोपीनाथ मुद्राकोष (IMF) में आर्थिक सलाहकार और अनुसंधान विभाग की निदेशक बनाया गया है, वह मुद्राकोष की 11वीं मुख्य अर्थशास्त्री हैं।

मुद्राकोष की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लेगार्ड ने उस समय गीता गोपीनाथ को दुनिया का एक विलक्षण और अनुभवी अर्थशास्त्री बताया था। उन्होंने कहा था कि गीता विश्व में महिलाओं के लिए एक आदर्श हैं।

गीता गोपीनाथ ने हाल ही में हार्वर्ड गजट के साथ अपने इंटरव्यू में अपनी नियुक्ति को एक बड़ा सम्मान बताया है। उन्होंने कहा कि वह जिन मुद्दों पर अनुसंधान करना चाहेंगी उनमें एक मुद्दा यह भी है कि अंतराष्ट्रीय व्यापार और वित्त में अमेरिकी डालर जैसी वर्चस्व वाली मुद्राओं की भूमिका असल में क्या है।

Facebook Comments