Pradeep Singh UPSC All India Rank 93

इंसान अगर कुछ करने की ठाने और उसके लिए पूरी शिद्धत के साथ मेहनत करे तो हर काम मुमकिन है। इसी बात को साबित कर दिखाया है मध्य्प्रदेश के इंदौर के रहने वाले 22 वर्षीय प्रदीप सिंह ने। सभी बाधाओं को पार करते हुए, इन्होने 2018 के संघ लोक सेवा आयोग परीक्षा (UPSC) के अंतिम परिणाम में 93वां स्थान हासिल किया है। प्रदीप के पिता मनोज सिंह एक पेट्रोल पंप अटेंडेंट के रूप में काम करते है। मनोज सिंह लगभग 20 वर्ष पहले बिहार से इंदौर आये थे।

प्रदीप के परिवार ने बहुत संघर्ष किये है। प्रदीप के पिता ने प्रदीप को दिल्ली में यू.पी.एस.सी की तैयारी करवाने के लिए अपना घर तक बेच दिया था। प्रदीप ने IIPS इंदौर से बीकॉम (ऑनर्स) किया और बाद में यू.पी.एस.सी की तैयारी के लिए दिल्ली चले गए।

परीक्षा का परिणाम आने के बाद प्रदीप अपने परिवार के साथ अपनी सफलता की खुशी साझा करने के लिए इंदौर लौट आये और मीडिया को अपने संघर्ष भरे सफर के बारे में बताया।

Pradeep Singh UPSC interview
Navbharat

प्रदीप ने मीडिया को बताया “मैं कॉमर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद अपने बड़े भाई की तरह एक निजी नौकरी करना चाहता था, लेकिन मेरे पिता और बड़े भाई ने मुझे केवल अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने के लिए कहा। उन्होंने मुझे यू.पी.एस.सी की तैयारी के लिए दिल्ली भेजा।”

“मेरे पिता ने दो साल पहले अपना घर बेच दिया और किराए के मकान में रहने लगे ताकि वह मुझे दिल्ली में मेरी कोचिंग क्लास के लिए पैसे भेज सकें। पिछले दो साल हमारे लिए बहुत कठिन थे लेकिन मुझे खुशी है कि मैंने अपने परिवार को गौरवान्वित किया।”

Manoj SIngh Father of Pradeep Singh UPSC
IndiaToday

प्रदीप के पिता मनोज सिंह ने भी अपनी भावनायें मीडिया को बताई “मैं अपने परिवार को एक नया जीवन देने की उम्मीद में बिहार से इंदौर आ गया था। हमने बहुत संघर्ष किया और मुझे खुशी है कि यू.पी.एस.सी की परीक्षा में मेरे बेटे का चयन हो गया।”

Pradeep Singh UPSC

यह भी पढ़े: लेफ्टिनेंट गरिमा यादव: पूर्व सौंदर्य प्रतियोगिता विजेता भारतीय सेना में बनी अफसर। (Lieutenant Garima Yadav)

Facebook Comments