Corona: कोरोना वायरस का कहर पूरी दुनिया में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। इसकी वजह से मरने वालों की तादाद में भी लगातार इजाफा हो रहा है। भारत में भी कोरोना का संक्रमण तेजी से अपने पांव पसारता जा रहा है। कोरोना के कारण अब तक भारत में मरीजों की तादाद 10 हजार को भी पार कर गई है। यही नहीं अब कोरोना की वजह से मरने वालों की तादाद भी लगभग 400 तक पहुंच गई है।

Corona – विशाखापत्तनम की श्रीजना

ऐसे में यहां हम आपको एक कोरोना योद्धा के बारे में बता रहे हैं, जिनकी कहानी जानकर आपको इन पर गर्व होगा। इस Corona योद्धा का नाम श्रीजना है। श्रीजना विशाखापत्तनम नगर निगम की आयुक्त के तौर पर सेवा दे रही हैं। आपको बता दें कि अभी 22 दिन पहले ही श्रीजना ने एक बच्चे को जन्म दिया है। फिर भी कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में जब उनकी जरूरत ऑफिस में पड़ी तो उन्होंने बिना एक पल सोचे ऑफिस जाने का फैसला ले लिया। डिलीवरी के केवल 22 दिनों के बाद वे हिम्मत करके ऑफिस पहुंच गईं। उनके मन में बस यही जज्बा था कि चाहे कुछ भी हो जाए इस वक्त उन्हें अपनी ड्यूटी निभानी है और लोगों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाना है।

पहुंच गईं दफ्तर

इस बारे में श्रीजना का यह कहना है कि इस वक्त पूरा देश Corona संक्रमण के खिलाफ एक युद्ध लड़ रहा है। स्थिति बहुत ही विकट है। कोरोना के संक्रमण को और फैलने से हर हाल में रोकना है। ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि इस देश का हर नागरिक अपनी जिम्मेदारियों का इस वक्त पूरी गंभीरता के साथ पालन करे। श्रीजना के मुताबिक कोरोना के खिलाफ जंग में इस वक्त परिवार से ज्यादा देश को उनकी जरूरत है। ऐसे में उनके लिए यह बहुत ही जरूरी है कि चाहे कैसी भी परिस्थिति हो वे अपनी ड्यूटी से बिल्कुल भी पीछे न हटें। यही वजह है कि बच्चे को जन्म देने के 22 दिनों के बाद ही वे ऑफिस में काम करने के लिए पहुंच गई हैं, ताकि कोरोना के खिलाफ जंग में उन्हें जो जिम्मेदारियां दी गई हैं, उन्हें वे भली-भांति निभा सकें।

यह भी पढ़े कोरोना वॉरियर: खुद नौ माह की गर्भवती होकर भी दर्द सहते हुए 177 को किया होम आइसोलेट

बच्चे के जन्म के समय Corona Lockdown

जब श्रीजना के बच्चे का जन्म हुआ, उसी समय से देश में कोरोना वायरस के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से देशभर में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई थी। ऐसे में श्रीजना का कहना है कि बच्चे के जन्म के 22 दिन बीत जाने के बाद उन्हें यह महसूस हुआ कि अब उन्हें ऑफिस चले जाना चाहिए। श्रीजना का कहना है कि इस वक्त देश पर एक बड़ा संकट आया हुआ है। कोरोना की वजह से यहां सबकुछ तहस-नहस हो गया है। ऐसे में ड्यूटी पर लौट कर उन्हें अपनी जिम्मेदारियों को निभाना जरूरी है, क्योंकि हर एक के योगदान से ही कोरोना के खिलाफ इस जंग में विजय हासिल की जा सकती है।

मां और पति का सपोर्ट

एक इंटरव्यू में श्रीजना की ओर से यह बताया गया है कि उनके पति वकील हैं और इस मुश्किल घड़ी में वे उन्हें पूरा समर्थन दे रहे हैं। साथ में मां की ओर से भी उन्हें इस वक्त पूरा समर्थन मिल रहा है। यही वजह है कि वे अपने ऑफिस के काम को अच्छी तरीके से कर पा रही हैं। अभी उन्हें हर 4 घंटे के बाद घर जाना पड़ता है। बच्चे को दूध पिलाने के लिए। इसके बाद वे अपने ऑफिस में लौट आती हैं। उनके पति और उनकी मां इस दौरान घर में बच्चे को संभाल लेती हैं। फिर भी कई बार ऐसा भी होता है कि वे अपने बच्चे को लेकर ऑफिस आ जाती हैं और बच्चे को गोद में लेकर अपना काम भी करती हैं।

Facebook Comments