भारत हिंदू प्रधान देश है और यहां पर त्यौहारों का सिलसिला थमने का नाम नहीं लेता है। आजकल देशभर में लोग गणेश चतुर्थी मनाया जा रहा है और अब जब ये खत्म होने वाला है तब पितरपक्ष शुरु होगा। इसके बाद आता है नवरात्रि का त्यौहार और navratri puja samagri अगर सही से पता हो तो नवरात्रि पूजा का फल आपको बहुत ही अच्छे से मिल सकता है। नवरात्रि के समय सभी देवी मां की पूजा करते हैं और इनमें 9 देवियां शामिल हैं जिनकी पूजा का अपना ही महत्व है।

कई बड़े ज्योतिष और पंडितों के अनुसार इस बार 29 सितंबर से नवरात्रि का त्यौहार शुरु हो रहा है। इस साल भी 9 दिनों का नवरात्र पड़ने वाला है जो 7 अक्टूबर को खत्म हो जाएगा। जिन लोगों को देवी मां की पूजा करनी है वे पूरे 9 दिनों तक इस व्रत को करते हैं और फिर दसवें दिन पूजा करके अपना व्रत तोड़ देते हैं। दसवें दिन ही दशहरा का त्यौहार मनाया जाता है जिसमें पूरा देश उत्साहित रहता है।

नवरात्रि पूजा सामग्री याद है आपको ?

नवरात्रि शुरु होने में अभी कई दिन हैं और दुर्गा मां की स्थापना और पूजा की तैयारी बहुत खास होती है। अगर आप भी 9 दिन के व्रत रखती हैं तो आपको तैयारी करनी चाहिए और जरूरी चीजों का इंतेजाम रखना चाहिए। मां दुर्गा की स्थापना और पूजा में जिन चीजों की आपको जरूरत होगी उसकी खरीददारी जरूर पहले से ही कर लें।

navratri puja samagri

इससे आप 29 तारिख को शुरु होने वाले नवरात्रि को अच्छे से मना सकें और आपकी पूजा सही समय पर शुरु हो सके। कुछ विद्वानों के अनुसार, नौ दिन मां की पूजा करते समय बहुत सी बातों का ध्यान रखना चाहिए उनमें से एक ये है कि भक्त हर दिन मां की ये चीजें उनके सामने रखें जिससे पूजा में कोई अड़चन नहीं आए। कुछ चीजों के बिना मां भगवती की अराधना अधूरी नहीं रहे। इसलिए हम आपको पहले ही नवरात्रि पूजा का सामान बता रहे हैं..

लाल रंग का आसन है जरूरी

लाल रंग मां दुर्गा का सबसे खास और पसंदीदा रंग माना जाता है. इसलिए पूजा शुरू करने से पहले आसन के तौर पर कोई भी वस्त्र बिछाने से अच्छा है कि आप लाल रंग के कपड़े का इस्तेमाल करें। फिर मां को लाल चुनरी और कुमकुम का टीका लगाना भी शुभ है. इन चीजों के अलावा जो चीजें जरूरी हैं जैसे- मिट्टी का पात्र और जौ, साफ की हुई मिट्टी, जल से भरा हुआ सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का कलश, लाल सूत्र, मौली, इलाइची, लौंग, कपूर, रोली, साबुत सुपारी, साबुत चावल और सिक्के, अशोक या आम के पांच पत्ते, मिट्टी का ढक्कन, पानी वाला नारियल, लाल कपड़ा या चुनरी, सिंदूर, फूल और फूल माला, नवरात्र कलश इत्यादि।

खाली ना चढ़ाएं लाल चुनरी

मां दुर्गा को खाली चुनरी कभी भी नहीं चढ़ाएं और इस बात का आपको खास ख्याल रखना चाहिए। चुनरी के साथ सिंदूर, नारियल, पंचमेवा, मिष्ठान, फल, सुहाग का सामान जरूर चढ़ाएं इससे मां बहुत प्रसन्न होती हैं। इसके साथ ही आपको उनका आर्शीवाद मिलता है। आपको मां दुर्गा को की चूड़ी, बिछिया, सिंदूर, महावर, बिंदी, काजल चढ़ाना चाहिए।

अखंड ज्योति के लिए

अगर आप नवरात्र‍ि में अखंड ज्योति जलाने की सोच रहे हैं तो आपको पीतल या मिट्टी का दीया रखना होगा। जोत के लिए रूई की बत्ती, रोली या सिंदूर, चावल जरूर रखें। सबसे जरूरी कि अगर आपने अखंड ज्योति जलायी है तो आपको अपने घर में 24 घंटे रहना होगा और अगर किसी कारणवश कहीं जाना पड़ जाए तो रात कहीं नहीं बितानी चाहिए।

हवन है बहुत जरूरी

ऐसा कहा जाता है कि नवरात्रि पूजा में हवन करना बहुत जरूरी होता है। वैसे तो इसे हर दिन करना चाहिए लेकिन अगर आपके पास समय नहीं है तो आप नवरात्रि की शुरुआत और आखिरी दिन घर में हवन कर सकते हैं। हवन करने के लिए आपको हवन कुंड, लौंग का जोड़ा, कपूर, सुपारी, गुग्ल, लोबान, घी, पांच मेवा, चावल की जरूरत होगी।

Facebook Comments