Signs of Negative Energy: किसी भी इंसान के जीवन में बहुत सी ऐसी बातें होती हैं जिससे वह हमेशा जूझता रहता है और जो उनसे लड़कर आगे बढ़ जाता है वो ही सफल इंसान बन पाता है। खैर, आपको बता दें कि इस दुनिया में दो तरीके की उर्जा होती है- एक सकारात्मक उर्जा और दूसरी नकारात्मक उर्जा। कहा जाता है कि जिस इंसान के अंदर सकारात्मक उर्जा होती है वह बहुत ही तेजी से दुनिया में तरक्की करता है और अपना साम्राज्य बनाता है। वहीं, दूसरी तरफ जिसके अंदर नकारात्मक उर्जा होती है वह उतनी ही तेजी से अपना और समाज का विनाश करता है। इसे आप इस तरह से समझ सकते हैं कि जब किसी भी व्यक्ति के जीवन में एक के बाद एक छोटी-छोटी समस्याएं आने लगती हैं और वह उन सभी समस्याओं का सामना करने की बजाय उनमें फंसने लगता है और अपने आस-पास मौजूद सभी लोगों को उस जाल में फंसाते जाता है तो यक़ीनन उसके अंदर नकारात्मकता भरी हुई है।
signs of negative energy
consciousreminder

ऐसे में हमें यह समझना होगा कि आखिर किस तरह से आप इसका पता लगा पाएंगे कि आपके अंदर नकारात्मकता भरी पड़ी है या फिर आप सकारात्मक भी हैं। तो चलिए आज हम आपको कुछ ऐसी ही बातों से रूबरू कराते हैं जिससे इस बात का पता आप आसानी से लगा सकते हैं। सबसे पहले तो बता दें कि नकारात्मक उर्जा कोई शैतानी शक्ति या फिर जादू टोना जैसी कोई चीज नहीं है बल्कि यह आपके साथ हुए किसी हादसे की याद या फिर बचपन का कोई बुरा हादसा हो सकता है, जो अक्सर ही आपके मन में उलटे विचार डालता है और आपको हर वक़्त वहीं सब बातें याद दिला कर कमजोर बनाता है।

ये बातें इशारा करती हैं नकारात्मक ऊर्जा से घिरे हैं आप

मन में बुरे विचार आना

मान लीजिये आपको किसी एक खास जगह पर जाकर वक़्त बिताना या उस जगह को निहारना अच्छा लगता है। लेकिन नकारात्मकता इस तरह से आती है जब आप किसी जानी पहचानी जगह जैसे अपने कार्यक्षेत्र में आते ही दुखी हो जाते हैं या फिर आपके मन में बुरे विचार आने लगते हैं।

आस-पास नकारात्मक सोच वाले लोग मौजूद होना

इसके अलावा कभी-कभी ऐसा भी होता है जब सुबह आते ही आपका सिर दर्द देने होने लगता है और आपको ऐसे विचार आने लगते हैं जैसे कि यहां पर कोई है। इसके अलावा कई बार ऐसा भी होता है जब आपके आस पास मौजूद कोई व्यक्ति हर समय आपको पूरी तरह से नकारात्मकता से भरता है। ऐसे में लाजमी है कि आप भी उसी दिशा में सोचने लगेंगे।

बार-बार बीमार पड़ना

कई बार ऐसा भी होता है कि घर में किसी खास तरह की वस्तु, शोपीस या तस्वीर आदि भी नकारात्मकता को बढ़ावा देते हैं। ऐसे में इस तरह की तस्वीरों आदि को अपने घर से तत्काल रूप से बाहर कर दें। ये लोग बहुत जल्दी-जल्दी बीमार पड़ते हैं और हमेशा किसी ना किसी परेशानी से घिरे रहते हैं। इन पर नकारात्मकता का प्रभाव इतना ज्यादा रहता है कि इस वजह से परिवार में कलह होते हैं और फालतू के खर्च बढ़ते हैं। देखा गया है कि कई बार लोग खुद को असहाय समझ कर खुद से ही नकारात्मकता की तरफ बढ़े चले जाते हैं।

नकारात्मकता को नहीं होने दें खुद पर हावी

बताते चलें कि जिस तरह से किसी भी सिक्के के दो पहलू होते हैं ठीक उसी तरह से किसी के भी जीवन में एक नकारात्मक तथा दूसरा सकारात्मक पहलू होता है और जो व्यक्ति उन्हीं बातों में से सकारात्मक पहलू समझकर अपना काम कर लेता है वही जिंदगी की रेस को जीत पाता है और जो जीवनभर हर चीज में नकारात्मकता ढूंढता रहता है वह कभी आगे नहीं बढ़ पाता। नकारात्मकता व्यक्ति पर इतनी ज्यादा हावी हो जाती है जिसकी कल्पना तक नहीं की जा सकती है।

आमतौर पर नकारात्मक उर्जा उन जगहों पर ज्यादा हावी रहती है जहां आमतौर पर लोग आया ही नहीं करते हैं या वो घर जिसमें आप अकेले ही रहने को मजबूर हो जाते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि ऐसा खान-पान के साथ भी होता है। अगर आप तामसी भोजन करते हैं तो आपके विचारो में शुद्धता नहीं होगी।

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें।

Facebook Comments