Aarogya Setu App: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की गई है। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने जिन 7 बड़ी बातों का जिक्र किया है, उनमें से एक केंद्र सरकार की ओर से जारी आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करना भी है। उन्होंने लोगों से दूसरों को भी Aarogya Setu App को डाउनलोड करने के लिए प्रेरित करने की अपील की। यहां हम आपको बता रहे हैं कि Aarogya Setu App क्या है और किस तरीके से यह काम करता है।

क्या है Aarogya Setu App?

GPS सिस्टम एवं ब्लूटूथ के माध्यम से कोरोना वायरस के संक्रमण से होने वाली महामारी COVID-19 से संबंधित मामलों का पता इस ऐप से लगाया जा सकता है। वर्तमान में GPS सिस्टम के साथ ब्लूटूथ सिस्टम तो लगभग हर सभी स्मार्टफोन में होता ही है। ऐसे में केंद्र सरकार की ओर से इन्हीं फीचर्स के जरिये यह पता लगाना संभव है कि क्या COVID-19 के मरीज के नजदीक कोई व्यक्ति रह रहा है।

कैसे अपने फोन में करें डाउनलोड?

एंड्रॉयड व आइफोन दोनों ही तरह के स्‍मार्टफोन में इस ऐप को डाउनलोड किया जाना मुमकिन है। इसके लिए आपको प्ले स्टोर में ‘AarogyaSetu’ टाइप करना है। 11 भाषाओं को यह ऐप सपोर्ट करता है। आप अपनी सुविधानुसार अपनी भाषा का चुनाव कर सकते हैं। अब इनफॉर्मेशन पेज पर निर्देशों को अच्छी तरह से आप पढ़ लें और ‘Register Now’ बटन को दबा दें। ब्‍लूटूथ और जीपीएस डेटा को ऑन रखना है आपको। ऐसे में इसे allow करके आगे बढ़ना है। आपके मोबाइल नंबर के साथ ब्लूटूथ और लोकेशन डेटा का इस्तेमाल करके ऐप किस व्यक्ति के COVID-19 के जोखिम के नजदीक होने या नहीं होने का पता लगा लेता है। OTP के ज़रिए अब आप अपने मोबाइल नंबर को वेरिफाई कर लें।

दिखाता है जोखिम का स्तर

ग्रीन व येलो कलर के कोड में इस ऐप में आपके जोखिम का स्‍तर नजर आ जाता है। आपको यह बचाव के तरीके भी बताता है। ग्रीन होने पर ऐप दिखाता है कि ‘आप सुरक्षित हैं।’ येलो कलर में यह प्रदर्शित करता है कि ‘आपको बहुत जोखिम है।’  ऐसे में आप तुरंत हेल्‍पलाइन पर संपर्क करें। ऐप में एक चैटबॉट से आपको कोरोनो वायरस से संबंधित मूल सवालों के जवाब भी मिलते हैं। आपमें लक्षण हैं या नहीं, यह भी इससे पता चलता है। हर राज्य का हेल्पलाइन नंबर भी यह ऐप देता है।

Facebook Comments