आज के समय में व्यवसाय बढ़ाने के बहुत से तरीके है। यह लेख विशेष रूप से उन सभी व्यक्तियों के लिए है जो एक व्यवसाय शुरू करने की सोच रहे है या फिर पहले से ही कोई व्यवसाय चला रहे है।

  
जो व्यापारी अपने व्यवसाय के लिए अभी अपनी वेबसाइट बनाना शुरू कर रहे हैं उनके दिमाग में ये सवाल अवश्य होंगे की SEO क्या है?

SEO कैसे करते है? (SEO Kya Hai । SEO Kaise Kare)

SEO Kya Hai
Freerange Stock

 

SEO क्या है? (SEO Kaise Kare?)

SEO Kaise Kare
Moss Technologies

SEO का पूरा नाम है “Search Engine Optimization” सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन। SEO एक औसत दर्जे की, दोहराई जाने वाली प्रक्रिया है जिसका उपयोग सर्च इंजनों को संकेत भेजने के लिए किया जाता है ताकि Google गूगल, Bing बिंग, Yahoo याहू, जैसे सर्च इंजनों को पता लग सकें कि आपकी वेबसाइट सर्च इंजन के सूचकांक में दिखाने लायक है। आसान शब्दों में कहें तो, SEO किसी भी प्रकार के महंगे विज्ञापनो का सहारा लिए बगैर गूगल की नज़रो में आपकी वेबसाइट की अहमियत बढ़ाता है।

SEO कैसे करते है? (SEO Kaise Kare)

SEO Kaise Kare
Search Engine Journal

मूल रूप से गूगल एक जटिल गणितीय सूत्र का उपयोग करता है, जिसे “एल्गोरिथम”(Algorithm) कहते है, जो प्रत्येक वेबसाइट को एक अंक प्रदान करता है ताकि यह पता लगाया जा सकें कि कौन सी वेबसाइट लोगों के लिए सर्वश्रेष्ठ रैंक होनी चाहिए।

एल्गोरिथम को समझने के लिए इस उदहारण को समझने के कोशिश करें। एल्गोरिथम कई सारी खाली बाल्टियों का एक समूह है। एक बाल्टी आपको आपकी साइट की गुणवत्ता के आधार पर अंक देती है, एक बाल्टी आपको दूसरी वेबसाइटो के लिंक के आधार पर अंक देती है, एक बाल्टी आपको एक स्कोर देती है कि लोग आप पर कैसे भरोसा करते हैं। आपका काम किसी भी अन्य वेबसाइट की तुलना में अधिक बाल्टी भरना है। अच्छी रैंकिंग के ऐसी 200 से ज्यादा बाल्टियां हैं, और इनमें से प्रत्येक बाल्टी के लिए इन अंकों को एल्गोरिथम में एक साथ जोड़ा जाता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि आपके पास यह रैंक है और आपके पास इसे भरने और बेहतर रैंक करने का एक अवसर है।

अब, कुछ बाल्टियाँ दूसरों की तुलना में अधिक महत्वपूर्ण हैं, और सर्च रैंकिंग के लिए आपको जिन तीन मुख्य बाल्टियों की जानकारी होनी चाहिए, वे हैं गुणवत्ता(Quality), विश्वास(Trust) और अधिकार(Authority)।

गुणवत्ता(Quality): गूगल उन साइटों को रैंक करता है, जो खोजकर्ताओं को कुछ मूल्यवान(Valuable) या अनोखा(Unique) या दिलचस्प(Interesting) प्रदान कर रहा है। उदाहरण के लिए: अच्छी सामग्री(content)-यदि आप टी-शर्ट बेच रहे हैं और आप भी अन्य टी-शर्ट विक्रेताओं की तरह एक ही विवरण(Description) का उपयोग कर रहे हैं तो आप गूगल के खोजकर्ताओं को कुछ भी अनोखा या नया नहीं पेश कर रहें। भले ही आपकी टी-शर्ट बहुत अच्छी हो, लेकिन उसका विवरण आपने सही से नहीं किया हुआ, तो गूगल के पास यह बताने का कोई तरीका नहीं है कि आपकी टी-शर्ट या आपकी टी-शर्ट की साइट किसी और की तुलना में बेहतर है।
इसीलिए लोगों को दिलचस्प विवरण और सामग्री पेश करें। उदाहरण: उन्हें अपनी टी-शर्ट के बारे में जानकारी दें। टी-शर्ट को कैसे धोना है?टी-शर्ट में कोनसा कपडा इस्तेमाल किया गया है? क्या यह दाग प्रतिरोधी है? क्या यह कुछ ऐसा है जिसे आपको गर्मियों या सर्दियों में पहनना चाहिए? गूगल को दिखाएँ कि आप अन्य खोज परिणामों से अलग और बेहतर हैं।

विश्वास(Trust): गूगल किसी भी वेबसाइट को सबसे ऊपर दिखाना नहीं चाहता है, वह अपने खोजकर्ताओं को सर्वश्रेष्ठ वेबसाइट दिखाना चाहता है, और इसलिए वह उन साइटों को दिखाता है जो भरोसेमंद हैं। एक चीज़ जो गूगल ने सूचित की है कि वह ऐसी साइटों या स्टोरों या कंपनियों को दंडित करना पसंद करती है जिनको लोगो द्वारा लगातार खराब रिव्यु मिलते है। इसलिए गूगल के एल्गोरिथम को साबित करें कि आप भरोसेमंद हैं। उद्योग लिंक प्राप्त करें, अन्य विश्वसनीय साइटों को आप से लिंक करें, अखबार के लेख प्राप्त करें, भागीदारों, विक्रेताओं, खुश ग्राहकों-उन्हें अपनी वेबसाइट से लिंक करें कि ताकि गूगल को पता लगे कि आप अत्यधिक विश्वसनीय हैं।

अधिकार(Authority): गूगल उन साइटों को दिखाना चाहता है जो लोकप्रिय हैं। यदि गूगल टी-शर्ट ऑनलाइन खरीदने के इच्छुक लोगों को सबसे लोकप्रिय टी-शर्ट विक्रेता दिखा सकता हैं, तो गूगल उस साइट को दिखायेगा जो सबसे लोकप्रिय होगी। इसलिए आपको गूगल को संकेत भेजें कि आपकी साइट उस तरह की टी-शर्ट के लिए सबसे लोकप्रिय साइट है जिसे आप बेचते हैं। गूगल एल्गोरिथम की इस बाल्टी को भरने के लिए एक फैन बेस बनाये। सोशल नेटवर्क का निर्माण करें, लोगों को अपने साथ जोड़े, लोगों में अपना भरोसा बनाएं ताकि वह आपकी टी-शर्ट की वेबसाइट को अपने सोशल नेटवर्क पर शेयर करें, प्रशंसापत्र दिखाएं, आपकी टी-शर्ट पहने हुए लोगो की तस्वीरें दिखाएं। इस तरह से एक फैन बेस बनाएं। इसी प्रकार से आप गूगल को यह साबित करेंगे कि आप भरोसेमंद और आधिकारिक हैं।

SEO के मुख्य कारक (SEO Factors In Hindi)

अब जब आप जान गए है कि SEO क्या है और यह कैसे काम करता है, तो आइए कुछ ऐसे कारकों पर एक नज़र डालें जो आपकी सर्च इंजन रिजल्ट्स पेज (SERP) रैंकिंग्स को प्रभावित कर सकते हैं।

ओन-पेज SEO (On-Page SEO Kya Hai?)

ऑन-पेज SEO कारक वे तत्व हैं जो आपकी वेबसाइट पर होते हैं। ये ऐसी तत्व हैं, जिन पर आपका पूरा नियंत्रण है, जिसका अर्थ है कि आप SEO के इन कारकों को समय पर सुधारने के लिए काम कर सकते हैं। यह आपकी वेबसाइट के विवरण या सामग्री से आगे बढ़कर आपकी साइट के HTML के गहरे स्तरों तक है।

ओन-पेज SEO के मुख्य कारक:

टाइटल टैग (Title Tag): प्रत्येक पेज पर शीर्षक टैग सर्च इंजन को बताता है कि आपका पेज किस बारे में है। यह 70 अक्षर या उससे कम का होना चाहिए।

मेटा डिस्क्रिप्शन (Meta Description): आपकी वेबसाइट पर मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च इंजन को प्रत्येक पेज के बारे में थोड़ा और अधिक बताता है। इसका उपयोग आपके ग्राहकों को बेहतर ढंग से यह समझाने के लिए किया जाता है कि यह पेज उचित रूप से सही है।

सब-हैडिंग (Sub-headings): ना केवल सब-हैडिंग आपके पेज पर लिखे हुए लेख को ग्राहकों के लिए पढ़ना आसान बनाते हैं, बल्कि यह आपके SEO को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकते हैं। आप H1, H2 और H3 टैग का उपयोग करके सर्च इंजन को बेहतर ढंग से समझाने में मदद कर सकते हैं।

इंटरनल लिंक (Internal Links): अपनी साइट पर अन्य पेज के लिए इंटरनल लिंक, या हाइपरलिंक का निर्माण कर सकते है जिससे सर्च इंजन को आपकी साइट के बारे में अधिक जानने में मदद मिल सकती है।

इमेज का नाम और ऑल्ट टैग (Image Name and ALT Tags): यदि आप अपनी वेबसाइट पर पिक्चर का उपयोग कर रहे हैं, तो आप पिक्चर का नाम और ऑल्ट टैग में अपने कीवर्ड (Keyword) को भी शामिल करें।

ऑफ-पेज SEO (Off-Page SEO Kya Hai?)

ऑफ-पेज SEO कारक भी हैं जो आपकी रैंकिंग को प्रभावित कर सकते हैं। हालांकि इन ऑफ-पेज कारकों पर आपका सीधा नियंत्रण नहीं है, लेकिन ऐसे तरीके हैं जिनसे आप इन कारकों को अपने पक्ष में कर सकते हैं।

ऑफ-पेज SEO के मुख्य कारक:

लिंक(Links): ऑफ-पेज SEO के सबसे लोकप्रिय तरीकों में से एक बैकलिंक बनाना है। पर सावधान रहें क्योंकि आपके लिंक के साथ स्पैमिंग साइटें आपकी साइट को सर्च इंजन से प्रतिबंधित करने का एक कारण बन सकती है। इसके लिए सबसे बेहतर तरीका है कि प्रभावशाली लोगों और प्रशंसकों के साथ संबंध बनाने के लिए समय निकालें, जिनके पास गुणवत्ता वाली वेबसाइट हैं और अपनी साइट के
लिंक उनकी वेबसाइट पर बनाएं।

सोशल सिग्नल (Social Signals): एक अन्य ऑफ-पेज SEO कारक सोशल सिग्नल हैं, जैसे लाइक, कमेंट और शेयर। जब ऑफ-पेज SEO बात आती है, तो आप प्रभावशाली लोगों से गुणवत्ता वाले शेयरों की तलाश करना चाहते हैं। जितनी अधिक गुणवत्ता वाली पोस्ट आप करते हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि आप लोगों को अपनी पोस्ट दूसरों के साथ शेयर करने के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी पढ़े: DSLR कैमरा क्या है? DSLR कैमरा कैसे काम करता है? (DSLR Information In Hindi)

Facebook Comments