शादियों का सीजन जब आता है तो लोगों के घरों में धूम मच जाती है। जब घर में किसी की भी शादी होती है तो लोग उसमें खूब मजे करते हैं। दूर-दूर से सारे रिश्तेदार एक जगह पर आकर मिलते हैं, जिस वजह से लोगों के मन में शादियों में शरीक होने को लेकर एक अलग ही एक्साइटमेंट देखने को मिलता है।

दुल्हन ने वापस लौटाई बारात

वहीं इन शादी ब्याह में बहुत तरह की रस्मों की भी अदायगी होती है। लेकिन इन शादियों के दौरान बहुत से ऐसे किस्से हो जाते हैं जिन्हें जानकर आपको गुस्सा भी आएगा और हंसी भी। आज हम आपको एक ऐसी ही खबर के बारे में बताएंगे जिसे सुनकर आप अपनी हंसी कंट्रोल नहीं कर पाएंगे। हम जिस बारे में बात कर रहे हैं और जिस वाक्ये की बात आपको बताने जा रहे हैं वो एक शादी का है। शादी के दौरान कुछ ऐसा हुआ और दुल्हन ने ऐसा कदम उठाया जो हर किसी के बस की बात नहीं है।

muzaffarpur married incident
uttaravani

बता दें कि ये घटना घटी शादी की एक रस्म के दौरान जहां पर दूल्हे ने रस्म के चलते गाली दे दी, जिसके बाद दुल्हन ने जो किया वो आप सोच भी नहीं सकते हैं। ये पूरा मामला है यूपी के मुजफ्फरनगर का जहां पर शादी हुई, सारी रस्में बहुत अच्छे से हुई। लेकिन जब बारी आई जूता चुराई रस्म की तो उस वक्त दूल्हे ने दुल्हन के घर की महिलाओं के साथ गाली-गलौज कर दी। बस फिर क्या था दुल्हन को ये बात पसंद नहीं आई और उसने उसी वक्त उसको घर से बाहर निकालकर पूरी की पूरी बारात को ही वापस लौटा दिया।

वापस मांगा दहेज का पैसा

यह घटना मुजफ्फरपुर जिले के भोराकलां थाने के सिसौली गांव की हैं। यहां पर विवेक दिल्ली से अपनी बारात लेकर के आए थे। लेकिन एक गलती की वजह से वो बिना दुल्हन लिए ही वापस लौटा दिए गए। जूता चुराई की रस्म के दौरान विवेक के मुंह से गाली निकली और पूरा मामला वहीं खराब हो गया। जब गाली वाली बात दुल्हन को पता लगी तो उसने इस शादी से इंकार कर दिया। इतना ही नहीं इस वाक्ये के बाद दुल्हन पक्ष ने लड़के और उसके पिता को बंधक बना लिया। वहीं दुल्हन ने दूल्हे को जाने देने से पहले दहेज में दिए गए 10 लाख रुपये भी वापस मांग लिए।

वधू पक्ष ने दूल्हे और उसके पिता के अलावा दो रिश्तेदारों को भी बंधक बना लिया और पूरी बारात को वापस लौटा दिया। मामला ज्यादा बढ़ते देख वहां पर पुलिस को भी बुलाया गया। पुलिस के बीच में आने के बाद मामला थोड़ा शांत हुआ। भोराकलां थाने के थानेदार ने बताया, दोनों पक्षों में से किसी भी रिपोर्ट दर्ज नहीं कराई तो दोनों पक्षों को समझौता करवाकर हमने सबको छोड़ दिया’।

गांव के मुखिया ने कराया समझौता

भारतीय किसान यूनियन के मुखिया नरेश टिकैत ने इस मामले को शांत करने में मदद की। बता दें कि नरेश गांव के मुखिया हैं और उन्होंने बताया कि काफी समझाने के बाद भी दुल्हन ने शादी नहीं की। उसने उससे शादी करने से इंकार ये कहकर किया कि, ‘जिसे लड़कियों की इज्जत करनी नहीं आती वो उससे शादी नहीं कर सकती’।

इस दुल्हन के द्वारा उठाए गए इस कदम की हर तरफ काफी तारीफ हो रही है। क्योंकि ये बात तो बिल्कुल सच है कि जो महिलाओं की इज्जत नहीं करता है उसके साथ कोई महिला अपनी पूरी जिंदगी कैसे बिता सकती है। गुस्सा आना एक आम बात है, लेकिन ऐसे मौकों पर जब हंसी-ठिठोली का माहौल चल रहा हो तब इस तरह से व्यवहार करना वाकई गलत है।

Facebook Comments