नेल्सन मंडेला एक महान व्यक्ति थे। उन्हें बहुत से पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था। इनका जन्म बासा नदी के किनारे ट्रांस्की के मवेंजो गाँव में 18 जुलाई, 1918 को हुआ था। उनके पिता का नाम गेडला हेनरी और माता का नाम नोमजामो विनी मेडीकिजाला था। उन्होने  प्रारंभिक शिक्षा क्लार्कबेरी मिशनरी स्कूल से प्राप्त की और स्नातक शिक्षा हेल्डटाउन से प्राप्त की थी। ‘हेल्डटाउन’ अश्वेतों के लिए विशेष कॉलेज था। 1940 में नेल्सन मंडेला और ऑलिवर ने कॉलेज कैंपस में अपने राजनैतिक विचारों और क्रियाकलापों से लोकप्रियता प्राप्त कर ली थी। इसके कारण इन दोनों को कॉलेज से निकाल दिया गया था। नेल्सन मंडेला की इस क्रांति से उनका परिवार बहुत ज्यादा चिंतित था।

इसके बाद उनके परिवार ने उनकी शादी करवानी चाही, लेकिन वो घर छोड़ कर जोहान्सबर्ग चले गए। वहा पर उन्होंने सोने की खदान में चौकीदार की नौकरी की। वहा पर उन्होंने वाटर सिसलु’ और ‘वाटर एल्बरटाइन’ को अपना दोस्त बनाया। उन तीनो ने अपने कुछ साथियो के साथ मिलकर अफ्रिकन नेशनल कांग्रेस यूथ लीग का गठन किया। 1947 में मंडेला को इस संगठन के सचिव के रूप में चुना गया। नेल्सन ने 1952 में कानूनी लङाई लङने के लिए एक कानूनी फर्म की स्थापना की। उनकी बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए उन पर प्रतिबंध लगा दिया गया।

अगस्त 1962 में मजदूरों को हड़ताल के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया। इसके उनको उम्रकैद की सज़ा सुनाई गयी । रंगभेद विरोधी संघर्ष के कारण उन्होंने 27 वर्ष जेल में बिताए थे। 1994 में दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद रहित चुनाव हुए। उस समय कांग्रेस ने 62 प्रतिशत मत प्राप्त हुए थे और पूर्ण बहुमत से उनकी सर्कार बनी इस प्रकार 10 मई 1994 को मंडेला अपने देश के प्रथम अश्वेत राष्ट्रपति बने थे। दक्षिण अफ्रीका के लोग नेल्सन मंडेला को राष्ट्रपिता के रूप में मानते थे। 2009 में सयुक्त राष्ट्र महासभा ने रंगभेद विरोधी संघर्ष में उनके जन्मदिन को मंडेला दिवस के रूप घोषित कर दिया।

नेल्सन मंडेला को मिले पुरस्कार और सम्मान

  • 1993 में सयुक्त रूप से नोबेल शांति पुरुष्कार
  • आर्डर ऑफ़ लेनिन
  • भारत रत्न
  • प्रेसिडेंट मैडल ऑफ़ फ्रीडम
  • निशान ऐ पाकिस्तान
  • गांधी शांति पुरस्कार

     

नेल्सन मंडेला के प्रेरणादायक विचार (Nelson Mandela Quotes)

  • जब तक कोई काम नहीं किया वो बहुत कठिन लगता है।
  • अगर आप कुछ भी करने की ठान लेते है तो आप उस चीज आप काबू पा सकते है।
  • मेरी सफलता को देख कर कोई भी राय या बात मत बनाइए बल्कि ये देखिये कि मै कितनी बार गिरा हु और फिर दोबारा से अपने पैरो पर कैसे खड़ा हुआ हु।
  • शिक्षा सबसे बड़ा हथियार है इसका इस्तेमाल दुनिया को बदलने के लिए किया जा सकता है।
  • मुसीबते किसी को तोड़ती है तो किसी को मजबूत बनती है कोई भी ऐसी चीज नहीं है कि वो लगातार प्रयास करने वालो के हौसलों को तोड़ सके।
  • मनुष्य की अच्छाई दीपक के समान है जिसे छुपाया तो जा सकता है लेकिन बुझाया नहीं जा सकता।
  • किसी भी काम करने का  कोई भी गलत समय नहीं होता इसलिए समय पर सब काम कर देना चाहिए।

5 दिसंबर 2013 नेल्सन मंडेला को देहांत हो गया। उनका देहांत फेफड़ो में संक्रमण हो जाने की वजह से हुई थी। उनके देहांत के समय वो 95 वर्ष के थे, और उनका परिवार उनके साथ था। उनकी मृत्यु की घोषणा राष्ट्रपति जेकब जूमा ने की थी। आज भले ही नेल्सन मंडेला हमारे बीच नहीं है, लेकिन उनके संघर्ष की महागाथा पूरी दुनिया को प्रेरणा देने के लिए जीवित है। उन्होने एक स्वतंत्र समाज की कल्पना की जहाँ सभी लोग शांती से मिलजुल कर रहें ।

ये भी पढ़े: सी वी रमन का जीवन परिचय 

प्रशांत यादव

Facebook Comments