Kader Khan and Amitabh Bachchan: भारतीय सिनेमा के इतिहास में झांक कर देखा जाए तो आपको बहुत से ऐसे कलाकार मिल जाएंगे जो अभिनेता के रूप में मुख्य भूमिका में तो शायद ही कभी दिखे हों मगर इसके बावजूद उनकी लोकप्रियता किसी भी मशहूर अभिनेता से ज्यादा रही है। ऐसे ही एक महान कलाकार थे कादर खान, जिन्होंने अपने फिल्मी करियर के दौरान ज्यादातर रोल विलेन, कॉमिक या फिर सपोर्टिंग एक्टर का निभाया है और इन सभी किरदार में वह हर बार हिट रहे। अपनी भारी भरकम कद काठी की तरह दमदार आवाज और बेमिसाल एक्टिंग की वजह से वह तकरीबन हर बार हिट रहे हैं।

कादर खान ने ज्यादातर कॉमेडी रोल ही निभाए हैं और साथ ही कई सीरियस और ड्रामेटिक रोल भी निभाए हैं, जिसका हर बार लोगों ने पूरे जोश के साथ स्वागत किया। हालांकि, इस बात से कम ही लोग वाकिफ़ होंगे कि कादर खान के अंदर अभिनय के अलावा भी एक और कला थी। दरअसल, वह एक बेहतरीन संवाद लेखक भी थे। बता दें कि उन्होंने अपने करियर की शुरुवात एक डायलॉग राइटर के रूप में ही की थी। अभी हाल ही में 22 अक्टूबर को इस महान अभिनेता का जन्मदिन था। हालांकि, आज की तारीख में कादर खान हमारे बीच नही हैं, ऐसे में आज हम आपको इस शानदार अभिनेता और बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन से जुड़ा एक बेहद रोचक मामला बताने जा रहे हैं।

पिछले साल हुआ था निधन [Kader Khan Death Date]

kadar khan
indiatimes

ये बात तो निश्चित रूप से पूरे सिनेमा जगत को और उनके सभी फैन्स को कचोटती है कि कादर खान अब हमारे बीच नहीं हैं। पिछले वर्ष दिसंबर माह में लंबी बीमारी के बाद उनका निधन हो गया था। खैर, आपको बता दें कि ऐसा माना जाता है आज बॉलीवुड के शहंशाह के रूप में जाने जाने वाले अमिताभ बच्चन को इस ऊंचाई तक पहुंचाने वाले कादर खान ही थे, मगर इसके ठीक उलट कादर खान के डूबते करियर की वजह अमिताभ बच्चन को बताया जाता है।

असल में कुछ वर्ष पहले जब अभिनेता कादर खान आपने कुछ पत्रकार मित्रों के साथ बैठ कर बातचीत कर रहे थे, तो उस दौरान बच्चन साहब का भी जिक्र हुआ। उनका नाम आते ही कादर खान एकदम से चुप हो गए और फिर जब उनके मुंह से जो बात निकली वो सुन कर वहां मौजूद हर कोई हतप्रभ रह गया। कादर खान ने कहा कि अपने करियर के अंतिम समय में यदि वह बच्चन जी को “सर जी” कह कर बुलाते तो अभी भी वह सिनेमा जगत में टिके होते।

ये है मामला

असल में ये मामला उस वक़्त का है जब दक्षिण भारत के एक प्रोड्यूसर अपनी फ़िल्म में कादर खान को लेखक के तौर पर लेने वाले थे। प्रोड्यूसर ने उनसे कहा कि आप एक बार “सर जी” से बात कर लें, तो कादर खान ने पूछा ये “सर जी” कौन हैं? प्रोड्यूसर ने आश्चर्य प्रकट करते हुए कहा आप “सर जी” को नहीं जानते, अमिताभ बच्चन साहब। तो इस पर कादर खान ने कहा कि ये सर जी कब से हो गये।

बताना चाहेंगे कि उन दिनों अमिताभ बच्चन का स्टारडम काफी ऊंचा था और इंडस्ट्री में उनकी ख्याति चरम पर थी। उनकी इसी लोकप्रियता के चलते लोगों ने उन्हें “सर जी” कह कर बुलाना शुरू कर दिया था, मगर कादर खान ने यह कह कर कि वो अपने दोस्तों और परिवार वालों को “जी” नहीं बोलते और इसी वजह से उन्होंने अमिताभ बच्चन को “सर जी” कहकर बुलाने से साफ इंकार कर दिया। नतीजा, वह फ़िल्म उनके हाथ से निकल गयी या कह लीजिए कि उन्हें निकाल दिया गया।

सिर्फ वो एक फ़िल्म ही नहीं बल्कि इस कारण से कादर खान के हाथ से और भी बहुत सारी मशहूर और हिट फिल्में जैसे कि “खुदा गवाह” और “गंगा यमुना सरस्वती” भी निकल गयी। बताते चलें कि इस घटना से पहले कादर खान ने अमिताभ बच्चन के लिए एक से बढ़कर एक दमदार डाइलॉग भी लिखे हैं मगर किस्मत का खेल देखिए जिसके लिए उन्होंने इतने शानदार लाइन्स दिए उसी की वजह से इनका करियर ही खत्म हो गया। ये कहना गलत नही होगा कि कादर खान हिंदी सिनेमा का वो कोहिनूर थे जिनकी जगह शायद ही कभी कोई ले पायेगा।

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें।

Facebook Comments