Mehmood Ali: एक वक्त था जब हिंदी सिनेमा में कॉमेडी के लिए कोई भी जगह नहीं थी। कॉमेडी को जगह दिलाने में कुछ कॉमेडियंस की बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका रही है। उन्होंने इस तरह से कॉमेडी करके दिखाई कि हिंदी सिनेमा में धीरे-धीरे कॉमेडी के लिए जगह बनती चली गई। हिंदी सिनेमा के सबसे बेहतरीन कॉमेडियंस की बात की जाए तो निश्चित तौर पर इसमें सबसे ऊपर महमूद का नाम आता है। आपको शायद नहीं मालूम हो, लेकिन महमूद अली को किंग ऑफ कॉमेडी का खिताब देकर भी सम्मानित किया गया था।

300 से भी अधिक फिल्में

महमूद अली हमारे बीच आज नहीं हैं, लेकिन अपनी फिल्मों की वजह से वे आज भी अपने प्रशंसकों के दिलों में जिंदा हैं। महमूद ने 300 से अधिक हिंदी फिल्मों में काम किया था। फिल्म सीआईडी से महमूद में हिंदी सिनेमा में कदम रखा था। अपनी बेहतरीन कॉमेडी की वजह से उन्होंने अपने प्रशंसकों के दिलों में अपने लिए खास जगह बना ली थी। फिल्मों में काम करने से पहले महमूद मीना कुमारी के टेनिस कोच के तौर पर काम कर रहे थे। यही नहीं, फ़िल्म निर्देशक पीएल संतोषी के ड्राइवर के तौर पर भी वे काम करते थे।

ज्यादा दिन नहीं चली शादी

मीना कुमारी की बड़ी बहन मधु से महमूद ने बाद में शादी कर ली थी। हालांकि, इन दोनों का रिश्ता बहुत समय तक नहीं चल पाया था। इन दोनों का कुछ ही समय के बाद तलाक हो गया था। ऐसा बताया जाता है कि मधु से अलग होने के बाद महमूद का अरुणा ईरानी के साथ अफेयर चलने लगा था। हालांकि, न तो कभी महमूद और न ही कभी अरुणा ईरानी ने अपने रिश्ते को स्वीकार किया। उन्होंने हमेशा लोगों के सामने इस रिश्ते को स्वीकारने से मना कर दिया।

बजने लगती थीं तालियां

महमूद वास्तव में एक मंजे हुए कलाकार थे। उनका अभिनय ही ऐसा होता था कि शूटिंग के वक्त उनके डायलॉग्स खत्म होने के साथ ही सेट पर तालियां बजनी शुरू हो जाती थीं। कॉमेडियन के तौर पर महमूद ने खुद को इस तरह से फिल्मों में स्थापित कर लिया था और इस तरह से उनकी लोकप्रियता फैल गई थी कि उस जमाने में जो फिल्मों के पोस्टर छपते थे, उनमें हीरो के साथ महमूद की भी फोटो छपा करती थी। इस तरह से महमूद का जलवा उस समय की फिल्मों में ऐसे छा गया था कि फिल्म में चाहे कितना भी बड़ा हीरो क्यों ना मौजूद हो, लेकिन उनके चाहने वाले उनकी एक झलक पाने के लिए सिनेमाघरों में पहुंच जाते थे।

रिहर्सल की जरूरत ही नहीं

महमूद को देखकर ऐसा लगता था जैसे उन्होंने एक्टिंग की प्रतिभा के साथ ही जन्म लिया है। कभी उन्हें किसी ने रिहर्सल करते हुए देखा ही नहीं था। जब भी रोल करना होता था, वे सीधे सेट पर पहुंच जाते थे और कैमरे के सामने आराम से अपनी भूमिका निभा लेते थे। महमूद का कद बहुत ही बड़ा था। पर्सनालिटी उनकी कुछ इस तरह की थी कि यदि किसी हीरो के सामने वे उस समय खड़े हो जाते थे तो वे अपने शर्ट की बटन बंद कर लिया करते थे। आपको शायद यह जानकर हैरानी होगी कि उस दौर में हीरो से भी ज्यादा पैसे महमूद को मिला करते थे। यही वजह थी कि बहुत से हीरो को उनसे काफी चढ़ गई थी।

इनसे डरते थे महमूद

फिल्मी दुनिया में महमूद को यदि किसी से डर लगता था तो वे थे किशोर कुमार। खुद महमूद में एक बार इसके बारे में बताया था। महमूद ने किशोर कुमार को लेकर कहा था कि उन्हें सभी अभिनेताओं के बारे में यह मालूम है कि उनकी क्या सीमा है और वे कितने पानी में हैं, लेकिन किशोर कुमार को देखकर यह अंदाजा लगाना वाकई बहुत ही कठिन है कि वे क्या हैं? महमूद ने किशोर कुमार के बारे में कहा था कि अपने किरदार के साथ वे कभी भी कुछ भी बहुत ही आसानी से कर जाते हैं और सभी को हैरान कर देते हैं। महमूद की फिल्म पड़ोसन बहुत ही पसंद आज भी की जाती है। इस फिल्म में महमूद खुद प्रोड्यूसर के तौर पर भी काम कर रहे थे। इस फिल्म में किशोर कुमार और सुनील दत्त के साथ महमूद ने काम किया था। यह फिल्म उनकी बहुत ही सुपरहिट रही थी।

Facebook Comments