Unknown Facts about Parineeti Chopra: बॉलीवुड में फिल्म ‘रिकी वर्सेज रिकी बहल’ से धमाकेदार एंट्री करने वाली परिणिती चोपड़ा अब बॉलीवुड इंडस्ट्री का एक जाना माना नाम बन गई हैं। भले ही परिणिती चोपड़ा प्रियंका चोपड़ा की बहन हों लेकिन इस इंडस्ट्री में जो उनको मुकाम हासिल हुआ है उसके पीछे उनकी मेहनत और काबिलियत ही है। हालांकि, पहली फिल्म से परिणिती को कोई खास पहचान नहीं मिली थी, लेकिन इश्कजादे फिल्म ने उनके करियर को बुलंदियों पर पहुंचा दिया था।

बता दें कि फिल्म इश्कजादे में अपने धाकड़ अवतार से परिणिती ने अपने करियर को नए मुकाम पर पहुंचाया और इस फिल्म की सफलता के बाद परिणीती को इंडस्ट्री में और भी कई अच्छी फिल्मों के ऑफर भी मिलने लगे थे। लेकिन कहते हैं ना कि समय हमेशा एक सा नहीं रहता है। ऐसा ही कुछ हुआ परिणीती के साथ। उन्होंने जहां एक समय पर बेहतरीन फिल्मों में काम किया वहीं उन्होंने अपने करियर में एक समय ऐसा भी देखा, जहां पर उनके पास खाना खाने तक के पैसे नहीं थे और वो डिप्रेशन में चली गई थीं। परिणीती ने इस बात का खुलासा खुद एक इंटरव्यू के दौरान किया था।

डिप्रेशन में चली गयी थीं परिणीती

टेपकास्ट नाम के टॉक शो में परिणीती ने इस बात का खुलासा करते हुए बताया कि, “साल 2014 से लेकर 2015 तक का समय मेरी लाइफ का सबसे कठिन वक़्त था। इन डेढ़ सालों में मेरी दो फ़िल्में ‘दावत-ए-इश्क’ और ‘किल दिल’ फ्लॉप रही। मेरी इस नाकामयाबी की वजह से मेरे पास एक दिन अचानक सारे पैसे भी ख़त्म हो गए। उस दौरान मैंने अपने लिए एक घर भी ख़रीदा था। ऐसे में हालात और भी बत्तर हो गए। मैंने खाना और सोना दोनों छोड़ दिया था। दोस्तों और परिवार सभी से कांटेक्ट ख़त्म कर दिए थे। बस मैं एक कमरे में बैठे टीवी देखा करती थी और सो जाया करती थी”।

परिणीती ने आगे बताया कि, “मैं डिप्रेशन की वजह से बीमार भी पड़ गई थी। मीडिया से 6 महीने तक नहीं मिली थी। ऐसे में इस बुरे वक़्त से निकालने के लिए मेरा भाई सहज और दोस्त संजना आगे आए। इन दोनों ने मुझे हिम्मत दी और हौसला जगाया। इन दोनों की वजह से ही मैं डिप्रेशन वाले समय से बाहर निकल सकी”।

बता दें कि परिणीती फिल्मों में आने से पहले इंडिया के बाहर इन्वेस्टमेंट मैनेजर की नौकरी करती थीं। हालांकि, साल 2009 में आई मंदी के चलते वो भारत वापस लौट आईं और फिर उन्होंने फिल्मों की तरफ अपना रूख किया।

बचपन में माता-पिता से करती थीं नफरत

परिणीती ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में अपने बचपन का किस्सा शेयर करते हुए बताया कि, “उस दौर में हमारे पास इतने पैसे नहीं हुआ करते थे कि कार खरीद ले। ऐसे में मैं साईकिल से ही स्कूल जाया करती थी। पापा थोड़ी दूर तक मेरे साथ साईकिल से आते भी थे। हालांकि, वो जैसे ही जाते थे तो कुछ लड़के मेरे पीछे पड़ जाते। वे कभी मुझे चिढ़ाते थे तो कभी मेरी स्कर्ट उठाने का प्रयास करते थे। इस वजह से मैं अपने पेरेंट्स से नफरत करने लगी थी। क्योंकि वो मुझे साईकिल से स्कूल भेजा करते थे। उनका कहना था कि वो ऐसा मुझे स्ट्रांग बनाने के लिए कर रहे हैं”।

बता दें कि परिणीती ने अपनी जिंदगी का ये किस्सा ‘वुमेन सेल्फ डिफेंस ग्रेजुएशन डे’ के दौरान शेयर किया था। इस इवेंट में परिणीती अक्षय कुमार के साथ पहुंची थी। वहां पर उन्होंने कहा कि, मुझे ख़ुशी है जो आप लोगो को अक्षय सर से मुफ्त में सेल्फ डिफेन्स सीखने को मिल रहा हैं। इसके लिए आपको किसी यूनिफार्म की भी जरूरत नहीं हैं। आप सभी के पास आज ये सुविधा हैं जबकि मेरे पास तब नहीं थी।

साइना नेहवाल की बायोपिक में कर रही हैं काम

बता दें कि इन दिनों परिणीती चोपड़ा साइना नेहवाल की बायोपिक की तैयारियों में लगी हुई हैं। इस फिल्म के लिए परिणीती काफी ज्यादा मेहनत कर रही हैं। जब परिणीती से इस फिल्म की तैयारी और इस फिल्म को लेकर वह कितनी एक्साइटेड हैं, इसके बारे नें पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वो अब तक सानिया नेहवाल से नहीं मिली हैं और इसके पीछे की वजह भी उन्होंने बताई। परिणीती ने कहा कि, “मैं जान बूझकर अब तक सायना से नहीं मिली हूं। मैं पहले खुद को इतना तो तैयार करना चाहती हूं कि मैं उनके जैसा तो नहीं लेकिन उसके आस-पास खेलना सीख सकूं। मैंने जीवन में कोई खेल नहीं खेला। फिटनेस पर मेहनत तो खूब की, लेकिन प्रोफेशनल खिलाड़ी की तरह पहली बार खेलना सीख रही हूं”।

आगे बात जारी रखते हुए परी ने कहा, “यहां तक कि अपनी अगली फिल्म की शूटिंग के लिए मैं इस फिल्म के कोच को साथ ले जा रही हूं। मेरा मानना यह है कि किसी भी काम को शुरू करने से पहले उसके लिए खुद को तैयार करना बहुत जरूरी है। मौके तो जीवन में आते ही रहते हैं, जरूरी बात ये है कि जब ये मौका मिला तो आप कितनी अच्छी तरह से इस मौके को भुनाने के लिए तैयार थे। मैं अब ऐसे काम करना चाहती हूं जो जीवन में पहले मैंने कभी नहीं किए”।

परिणीती जिस तरह से इस फिल्म को लेकर के तैयारियां कर रही हैं, उससे तो यही लगता है कि यह फिल्म दर्शकों को खासा पसंद आने वाली है। अब आगे क्या होता है और दर्शकों को परिणीती की ये मेहनत कितनी पसंद आती है, यह फिल्म के रिलीज होने के बाद ही पता लगेगा।

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें।

Facebook Comments