फ्रैंच फ्राइज(French Fries) या पनीर फ्राइज(Paneer Fries) आदि तो अपने अक्सर ही बाजार में या घर पर बना कर खाए होंगे। लेकिन क्या आपने कभी कैरट फ्राइज़ (Carrot Fries) खाए हैं। अगर आपका जवाब है नहीं तो चिंता की कोई बात नहीं, क्योंकि आज हम आपको बता रहे हैं कैरट यानी गाजर फ्राइज की रेसिपी(Carrot Fries Recipe)। कैरेट फ्राईज़, गाजर को फ्राई करके बनते हैं और ये खाने में बेहद चटपटे व कुरकुरे होते हैं। आप इन्हें किसी खास ओकेजन या पार्टी में बना कर सबका दिल जीत सकते हैं। वैसे तो आप इन्हे तलकर भी बना सकते हैं लेकिन यहाँ हम आपको इसे माइक्रोवेव में बेक करके बनाना सिखाएँगे। तो आइए जाने कैसे बनते हैं कैरेट फ्राई और इन्हें बनाने में लगता है कितना समय।

  • रेसिपी क्विज़ीन : इंडियन स्नैक्स
  • मील टाइप : वेज, पार्टी
  • बनाने में कुल समय : 30 मिनट से 1 घंटा
  • कितने लोगों के लिए : 2 से 4 लोग

Carrot Fries Ingredients: कैरट फ्राइज़ बनाने के लिए आवश्यक सामाग्री

Microwave Carrot Fries Recipe
Image Source – Foodnetwork.com
  • 8 गाजर
  • 2 टेबलस्पून करी पाउडर
  • 2 टीस्पून शहद
  • 1 टीस्पून काली मिर्च पाउडर
  • 4 टेबलस्पून ऑलिव ऑयल
  • 1 टीस्पून काला नमक
  • 1 टीस्पून ऑरिगैनो

Carrot Fries Recipe: कैरट फ्राइज़ बनाने की विधि

Carrot Fries Recipe
Image Source – Delish.com
  • सबसे पहले माइक्रोवेव को 180 डिग्री सेंटीग्रेड पर प्री-हीट करने के लिए रख दें।
  • जब तक माइक्रोवेव प्री-हीट हो तब तक गाजर को छील लें और धोकर पतला-लंबा काट लें।
  • फिर एक बर्तन में गाजर, काला नमक, काली मिर्च पाउडर, करी पाउडर, ऑलिव ऑयल और ऑरिगैनो डालकर सबको आपस में अच्छी तरह मिक्स कर लें।
  • इसके बाद एक बेकिंग ट्रे लेकर उसमें गाजर रख दें और उसके ऊपर शहद भी छिड़क दें।
  • अब करीब 25-30 मिनट तक गाजर को बेक करने के लिए बेकिंग ट्रे को माइक्रोवेव में रख दें।
  • 25-30 मिनट पूरे होने के बाद ट्रे को माइक्रोवेव से बाहर निकाल लें और चैक कर लें की गाजर पक चुकी है या नहीं।
  • यदि गाजर क्रिस्पी हो गई हो तो ठीक वरना ट्रे को वापस कुछ देर के लिए माइक्रोवेव में रख दें।
  • जब गाजर क्रिस्पी हो जाएँ तो इन्हे किसी बाउल में निकाल लें।
  • आपके कैरट फ्राइज़ (Carrot Fries) तैयार हैं। अब आप इसे हरे धनिये की चटनी या टोमैटो कैचअप के साथ सर्व करें और सबके साथ मजे से खाएं।

यह भी पढ़े

Facebook Comments