नवरात्रि आते ही फैशनेबल परिधानों व आभूषणों के बाजार सजने लगते हैं। बड़े-बड़े गरबा मंडपों में व्यापक स्तर पर गरबों का आयोजन होता है। जिनमें गरबे की पारंपरिक वेशभूषा के साथ-साथ पारंपरिक आभूषण भी पहने जाते हैं।

Garba-Dandiya
abtakmedia.com

आभूषणों से सजी-धजी महिलाएँ पारंपरिक चणिया-चोली में गरबा रास करती हैं तो हर किसी की नजरें उन पर टिक जाती हैं। सचमुच पारंपरिक वस्त्रों और आभूषणों के बगैर डांडिया अधूरा सा लगता है।

चणियाचोली के साथ पहनने के लिए विशेष प्रकार के आभूषण फैशन के बाजार में आते हैं। कल तक पारंपरिक गुजराती आभूषण जिनमें चीड़ (मोती) व कौड़ियों का प्रयोग होता था केवल वही पहने जाते थे। लेकिन आजकल बाजार में ऑक्सीडाइज, सिल्वर-मेटल, गोल्ड मेटल ज्वेलरी का चलन है।

गरबा आभूषणों के प्रकार (Navratri Jewellery)

गरबा ज्वेलरी में मुख्य रूप से गले का हार, टीका, कानों की बालियाँ, सीप के चूड़े, कमरबंद, कमर के झुमके व पाइजेब प्रमुख होते हैं, जो पारंपरिक चणिया-चोली के साथ पहने जाते हैं।

antique-silver-jewellery
mirraw fashion times

आभूषण– गले का हार चीड़ और कौड़ी का गरबा ज्वेलरी में विशेष रूप से प्रयोग होता है। रंग-बिरंगे बारिक-बारिक मोती व रंगीन ऊन को अलग-अलग प्रकार से गूथ-जोड़कर हार बनाया जाता है जो पूरे गले को कवर करता है। इस पारंपरिक हार की कीमत 50 रुपए से लेकर 500 रुपए तक होती है।

पारंपरिक आभूषणों से कुछ हटकर पहनने वाले राजस्थानी ज्वेलरी पहन सकते हैं। जिसमें आपको सिल्वर पॉलिश के लंबे हार कान के झुमकों के साथ मिल सकते हैं और वो भी कम दाम में। इसकी कीमत 100 रुपए से 300 रुपए तक होती है। आजकल गिलेट धातु पर चाँदी की पॉलिश करके आकर्षक आभूषण बनाए जाते हैं। गले में पहनने के लिए आप चाहें तो पारंपरिक हसली (गले का फिट कड़ा) खरीद सकते हैं।

कमरबंद: यह कमर में पहना जाता है। यह भी दो तरह का होता है। एक वो जो पूरी कमर को कवर करता है और एक आधी कमर को। बाजार में आपको मोती, कौड़ी, सिल्वर-मेटल, ऑक्सीडाइज, गोल्ड-मेटल आदि के कमरबंद आसानी से मिल जाएँगे। जिनकी कीमत 25 रुपए से 700 रुपए तक होती है।

बाजूबंद

बाजूबंद को बाजू में पहना जाता है। यह भी मोती, काँच, चीड़, लाख, सिल्वर व गोल्डन मेटल आदि अलग-अलग वैरायटियों में मिलता है। जिसकी कीमत 60 रुपए से 300 रुपए तक होती है। आप अपनी ड्रेस के रंग व वर्क से मिलता-जुलता बाजूबंद खरीद सकते हैं।

टिप्स :-

* रंग-बिरंगी काचली-कुर्ती पर मल्टी कलर की ज्वेलरी ट्राय करें।

* ड्रेस के वर्क से मेचिंग ज्वेलरी का चयन करें।

* हमेशा एक सी ज्वेलरी ही पहनें। गोल्डन सिल्वर ज्वेलरी मिक्स करने से अच्छा लुक नहीं आता है।

* पैरों में पायल पहनना न भूलें।

Facebook Comments