भारत को यूँ ही अद्भुत देश नहीं कहा जाता है, यहाँ बहुत से ऐसे टैलेंट हैं जिनकी बात अगर हम करें तो शब्द काम पड़ जाएंगे। एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के अनुसार हैदराबाद की एक लॉ स्टूडेंट ने एक ऐसा कमाल कर दिखाया है जिसके बारे में आप सोच भी नहीं सकते हैं। इस स्टूडेंट ने चावल के दानों पर पूरी की पूरी भगवद गीता लिख डाली है। आइये जानते हैं इस बारे में विस्तार से।

देश की पहली माइक्रो आर्टिस्ट बनना चाहती हैं ये महिला

जानकारी हो कि, हैदराबाद की लॉ स्टूडेंट ने 4042 चावल के दानों पर पूरी भगवद गीता लिख डाली है। इस महिला का कहना है कि, वो देश की पहली माइक्रो आर्टिस्ट बनना चाहती हैं। रामागिरी स्वारिका(Ramagiri Swarika) नाम की इस महिला ने चावल के दानों पर पूरी भगवद गीता लिखा कर अपना माइक्रो आर्ट प्रोजेक्ट तैयार किया है। उन्हें इस प्रोजेक्ट को तैयार करने करीबन एक हफ्ते का समय लगा। रामागिरी ने अब तक करीबन दो हज़ार से भी ज्यादा माइक्रो आर्ट प्रोजेक्ट बनाएं हैं। इसके साथ ही वो पेपर कार्विंग, मिल्क आर्ट और टिल के बीज आदि पर ड्राइंग भी करती हैं।

बालों पर लिखी संविधान की प्रस्तावना

आपको जानकार हैरानी होगी की जो बाल खुद ही काफी सूक्ष्म होते हैं उस पर कोई लिख कैसे सकता है। लेकिन हैदराबाद की रामागिरी स्वारिका(Ramagiri Swarika) ने यह कारनामा भी कर दिखाया है। चावल पे भगवद गीता लिखने से पहले स्वारिका ने बालों पर संविधान की प्रस्तावना भी लिखी है, इसके लिए उन्हें तेलांगना के गवर्नर ने सम्मानित भी किया था। रामागिरी स्वारिका हिन्दुस्तान में अपनी पहचान बनाने के बाद अपनी इस कला का प्रदर्शन इंटरनेशनल प्लेटफार्म पर भी करना चाहती हैं। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होनें बताया कि, उन्हें हमेशा से ही संगीत और कला में रुचि रही है और इसके लिए उन्हें बचपन से ही काफी पुरूस्कार भी मिल चुके हैं।

यह भी पढ़े

गौरतलब है कि, रामागिरी(Ramagiri Swarika) ने चार साल पहले चावल के दाने पर गणेश जी की चित्र बनाने से माइक्रो आर्ट की शुरुआत की थी। पिछले साल उन्हें दिल्ली सांस्कृतिक आकदमी ने भारत की पहली माइक्रो आर्टिस्ट के रूप में सम्मानित भी किया है।

Facebook Comments