Coronavirus India Cases: कोरोना वायरस का संक्रमण भारत में भी तेजी से बढ़ता जा रहा है। अब तक कोरोना मरीजों की संख्या भारत में लगभग 580 के करीब पहुंच गई है। साथ ही देश में 11 लोग अब तक कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि यदि इसी रफ्तार से देश में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ता रहा तो मई के दूसरे हफ्ते तक देश में 13 लाख लोग कोरोना वायरस के संक्रमण की जद में आ जाएंगे।

इन्होंने की स्टडी

एक समाचार एजेंसी की ओर से इस बारे में रिपोर्ट प्रकाशित की गई है। भारत में जो मौजूदा आंकड़े हैं, उन्हें आधार बनाते हुए COV-IND-19 स्टडी ग्रुप की ओर से यहां अध्ययन किया गया है। इसमें बताया गया है कि संक्रमण के बढ़ते मामलों की एक प्रमुख वजह यह है कि यहां टेस्टिंग की संख्या बहुत ही कम है। बीते 18 मार्च को ही देश में केवल 11 हजार 500 सैंपल मिले थे। इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि जांच कराने के लिए लोग भी आगे नहीं आना चाह रहे हैं।

विनाशकारी होंगे परिणाम

COV-IND-19 स्टडी ग्रुप  के एक शोधकर्ता वैज्ञानिक की ओर से बताया गया है कि अब तक COVID-19 के इलाज के लिए न तो कोई टीका विकसित हो सका है और न ही कोई दवाई ही बन सकी है। ऐसे में भारत यदि फेज 2 से फेज 3 में प्रवेश कर जाता है तो इसके बड़े ही विनाशकारी परिणाम इस देश में देखने को मिलेंगे, क्योंकि यहां का हेल्थकेयर सिस्टम पहले से ही भारी दबाव का सामना कर रहा है।

अमेरिका व इटली वाले हालात

शोधकर्ताओं की ओर से अपने शोध में बताया गया है कि कुछ इसी तरह की स्थिति अमेरिका और इटली जैसे देशों में भी देखने को मिली थी, जहां कि शुरुआत में तो बहुत ही कम मामले को कोरोना वायरस के संक्रमण के सामने आए थे, मगर बाद में इनमें बेतहाशा बढ़ोतरी होने लगी। COV-IND-19 के वैज्ञानिकों का कहना है कि भारत में भी शुरुआत में कम मामले देखने को मिले हैं। हमने अपने शोध में अनुमान मौजूदा आंकड़ों के आधार पर लगाया है। मामले कम इसलिए हैं, क्योंकि टेस्टिंग कम हो रही है।

Facebook Comments