Lockdown Coronavirus: देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने 31 मार्च तक लॉकडाउन के निर्देश दिए हैं। कोरोना वायरस के चलते रविवार को 3 मौंते हुई हैं। इस महामारी के बढ़ते प्रकोप के कारण अब मानो पूरा भारत बंद है। करीब 75 ज़िलों में केंद्र द्वारा लॉकडाउन करने के बाद, अब दिल्ली, हरियाणा, बंगाल, महाराष्ट्र और केरल की राज्य सरकारों ने सावधानी बरतते हुए लॉकडाउन की घोषणा की है। वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इसका पूर्ण रूप से पालन नहीं कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस लाहपरवाही के प्रति नाराज़गी जताते हुए अब कड़े एक्शन लेने के निर्देश दिए हैं। वहीं बात करें कुछ ऐसे लोगों की भी जिन्हें शायद लॉकडाउन के बारे में जानकारी नहीं है कि ये होता क्या है और इसमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं। आज इस आर्टिकल में हम इन्हीं प्रश्नों के उत्तर देंगे। आईए जानते हैं कि

लॉकडाउन होता क्या है? (Lockdown Coronavirus)

आसान भाषा में कहें तो लॉकडाउन वह स्थिति है जब आपको किसी इलाके, बिल्डिंग या राज्य तक सीमित कर दिया जाता है। यू कहें कि आपको बाहर जानें से रोक दिया जाता है। पूरी तरह से लॉकडाउन होने का मतलब है आप जहां है, वहीं रहें। लॉकडाउन होने से आप किसी संक्रमित वयक्ति के संपर्क में आने से बच सकते हैं और देश में कोरोना के बढ़ते मामलों पर काबू पाया जा सकता है।

क्या लॉकडाउन में सब बंद हो जाता है?

लॉकडाउन के दौरान सामान्य तौर पर सभी ज़रूरी चीज़ों की सप्लाई चालू रहती है। जैसे किराने के दुकानें, मेडिकल से जुड़ी चीज़ें और बैंक। लॉकडाउन में गैर ज़रूरी चीज़ों पर रोक लगा दी जाती है। इसमें विशेषकर यात्रा पर रोक लगाई जाती है। और प्राइवेट व सरकारी सार्वजनिक साधन भी बंद कर दिए जाते हैं।

क्या करना है आपको?

लॉकडाउन के दौरान, आप अपने घरों से तभी निकलें, जब बहुत ज़रूरी हो या कोई आपातकाल स्थिति हो। इसके अलावा लॉकडाउन में कामकाज की इजाज़त नहीं है। लॉकडाउन के दौरान आवश्यक सेवाओं के दायरे में न आने वाली कोई कंपनी खुली रहती है, तो उस पर सख्त एक्शन के निर्दश हैं।

यह भी पढ़े

घर पर रहेंगे तो नौकरी कैसे करेंगे?

सरकार ने सभी प्राइवेट कंपनियों को सख्त ऑर्डर दिए हैं कि वे अपने कर्मचारियों से घर से काम करवाएं। रही बात दिहाड़ी मज़दूरों की तो केंद्र और राज्य सरकार ने अपनी ओर से इन्हें आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है। कंपनियों को यह भी आदेश है कि वर्क फ्रॉम होम के दौरान वे सैलरी नहीं काट सकती।

75 जिलों में लॉकडाउन

मोदी सरकार ने फैसला किया कि कोरोना वायरस पर रोक लगाने के लिए जनता कर्फ्यू के दिन 75 जिलों में लॉकडाउन किया जाएगा। इसमें वे जिले आते हैं जहां कोरोना के मामले पॉडिटिव पाए गए हैं। इसमें देश के ज्यादातक बड़े शहर शामिल हैं।

राज्य सरकार ने किया लॉकडाउन

दिल्ली सरकार ने 31 मार्च तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। इस दौरान मैट्रो की आवाजाही पर पूर्ण रूप से रोक लगा दी गई है। सभी प्राइवेट कैब सर्विस और फूड डिलवरिंग जैसी सर्विसें भी बंद कर दी गई हैं। महाराष्ट्र ने भी सभी शहरों में धारा 144 लगा दी है। इसके बाद मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, उत्तराखंड, राजस्थान, पंजाब में भी 31 मार्च तक लॉकडाउन रहेगा।

लॉकडाउन से डरें नहीं

लॉकडाउन होने से घबराए नहीं। लोग लॉकडाउन के नाम से पैनिक होकर ज़रूरत की चीज़ें जैसे राशन वगैरह इक्ट्ठा करने में जुट गए हैं। बता दें कि सरकार ने रोज़मर्रा में काम आने वाली चीज़ों पर रोक नहीं लगाई है। राशन की सप्लाई को सरकार ने नहीं रोका है, वहीं किराने की दुकानों को खोलने की अनुमति भी दी है। हां ऐसा हो सकता है कि आपको स्टॉक कम मिलेगा क्योंकि यातायत पर प्रतिबंध होने के कारण दुकानों पर सीमित माल की ही सप्लाई की जा सकेगी।

Facebook Comments