Hyderabad Hospital: देश में कोरोना का कहर कम होने का नाम नहीं ले रहा है। अब तक देश में 719,665 कोरोना वायरस के मामले पॉजिटिव आ चुके हैं। ऐसे में अस्पतालों में इस बढ़ती संख्या के साथ साथ व्यवस्था की भी संख्या बढ़ाई गई है। सरकार हर मुमकिन कोशिश कर रही है जिससे सभी मरीज़ों को बैड, ऑक्सीजन समेत बाकी व्यवस्थाएं मिल सकें। लेकिन वहीं कुछ प्राइवेट अस्पताल ऐसे हैं जो इस मुश्किल घड़ी में मुनाफा कमाने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे। जानते हैं पूरा मामला-

ये है पूरा मामला

हैदराबाद (Hyderabad) से खबर आ रही है कि कुछ अस्पतालों में मरीज़ के इलाज के लिए अधिक रकम वसूली जा रही है। यहां की सरकारी अस्पताल की एक डॉक्टर कोरोना वायरस से संक्रमित हो गई थीं। इन्हें प्राइवेट ह़स्पिटल में एडमिट कराया गया था। उन्होंने आरोप लगाया है कि हॉस्पिटल ने उनसे एक दिन के 1.19 लाख रुपए, इलाज के लिए चार्ज किए। साथ ही उन्हें किसी और अस्पताल में नहीं जाने दिया। हॉस्पिटल के खिलाफ डॉक्टर ने शिकायत दर्ज कराई है जिसके बाद इस बात का खुलासा हुआ है।

dr asra sultana
Image Source: Newsable.asianetnews.com

हैदराबाद के गवर्नमेंट फीवर अस्पताल (Hyderabad Hospital) की असिस्टेंट सिविल सर्जन असरा सुल्ताना ने बताया कि उन्हें 1 जुलाई को सांस में तकलीफ हुई। वह अगले दिन थाम्बे अस्पताल चेकअप के लिए गईं। सुल्ताना ने दो हफ्ते पहले ही कोविड टेस्ट कराया था जिसके बाद वह पॉजिटिव निकलीं। वह अपने घर पर ही क्वारंटीन थीं। लेकिन सांस में तकलीफ होने पर उन्होंने प्राइवेट अस्पताल का रुख किया। उन्होंने बताया कि अस्पताल ने उनसे 40 हज़ार रुपए भर्ती होने की फीस मांगी, जो उन्होंने दे दी। इसके बाद जैसे ही वह अगले दिन अस्पताल से अपनी छुट्टी लेना चाह रही थीं तो उनसे 79 हज़ार रुपए देने के लिए कहा गया। उन्हें बिना पैसे चुकाए अस्पताल से जाने भी नहीं दिया जा रहा था।

कोविड पॉजिटिव भाई ने चुकाई रकम

उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि उनको बेहतर इलाज नहीं मिला। अस्पताल की नर्स और डॉक्टर बहुत गैर जिम्मेदार हैं। नर्स उनको दवा देने के लिए भी नहीं आती थी। असरा ने आगे बताया ”मेरे पास बाकी के रुपये नहीं थे. ऐसे में अस्‍पताल के कर्मचारियों ने मुझे कई घंटों तक बंधक बना लिया था. मुझे तब ही वहां जाने दिया गया जब मेरा भाई वहां आया और उसने बाकी के रुपये चुकाए”।

वहीं अस्पताल इन सभी आरोपों को झुठला रहा है। अस्पताल के अनुसार, असरा को यह बिल उनके दी गई दवाओं और सेवा के आधार पर ही बनाया गया है। असरा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी काफी वायरल हो रहा है।

Facebook Comments