Rajasthan Labourers Corona Positive: घर से दूर फंसे लोगों की वापसी के लिए सरकार द्वारा ट्रेन चलाने का फैसला किया गया, ताकि हर कोई अपने अपने घर पहुंच सके, लेकिन अब इसका बुरा असर भी देखने को मिल रहा है। जी हां, प्रवासी मजदूरों के घर पहुंचने से उन इलाकों में भी कोरोना पहुंच गया, जहां इससे पहले नहीं था। इतना ही नहीं, जो जिले कोरोना मुक्त हुए थे, वहां फिर से संक्रमण ने धावा बोल दिया। दरअसल, मामला राजस्थान से सामने आ रहा है, जहां कोरोना ने एक बार फिर से वापसी कर ली है।

बाहर से आए प्रवासी मजदूरों की वजह से राजस्थान के कोरोना मुक्त जिलों में भी संक्रमण का बोलबाला हो गया है। मिली जानकारी के मुताबिक, अब तक ग्रीन जोन में रहे राजस्थान के 4 जिलों में कोरोना आ धमका है, तो वहीं मुक्त हुए 2 जिलों में भी उसने एक बार फिर से दस्तक दे दी है। बताया जा रहा है कि राजस्थान में अब तक 33 गांव और 22 कस्बों में 180 से अधिक प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव निकले हैं, जिसकी वजह से संक्रमण का खतरा तेज़ी से बढ़ गया।

करीब तीन लाख प्रवासी मजदूरों की घर हुई वापसी

rajasthan migrant labourers coronavirus positive
Image Source: ANI

मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो अब तक करीब तीन लाख प्रवासी मजदूर राजस्थान आए हैं। इसके अलावा अनधिकृत रूप से दो लाख से ज्यादा प्रवासी राजस्थान आ चुके हैं। बता दें कि इनकी घर वापसी से कई जिलों में कोरोना का खतरा बढ़ गया है और लोगों के बीच डर का माहौल भी देखने को मिल रहा है।

ग्रीन जिलों में भारी पड़ी मजदूरों की घर वापसी

बता दें कि राजस्थान के जालोर-सिरोही, बारा, बाड़मेर और राजसमंद जैसे जिले ग्रीन जोन में थे, लेकिन यहां अब प्रवासी मजदूरों की वजह से कोरोना पहुंच गया है, ऐसे में यह सभी के लिए चिंता का विषय बन गया है।

यह भी पढ़े:

फिर हुई कोरोना की एंट्री

सरकारी आकड़ों की माने तो चूरू और भीलवाड़ा जिले में कोरोना खत्म हो गया था, लेकिन दूसरे राज्यों से आए प्रवासी मजदूर कोरोना पॉजिटिव पाए गए, जिसकी वजह से एक बार फिर से जिले में संक्रमण का खौफ देखने को मिल रहा है। बताया जा रहा है कि जालोर में तो बुधवार को 28 प्रवासी कोरोना लेकर 16 गांवों में पहुंच चुके थे। इतना ही नहीं, गुजरात बॉर्डर पर सैकड़ों लोग अपने घर जाने के लिए खड़े हुए और उनकी स्क्रीनिंग में लगे हुए नर्सिंग कर्मी भी कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं।

पूरे राज्य में अगर कोरोना के मामलों की बात की जाए तो अभी आंकड़ा 4,400 से ऊपर चला गया है और स्वास्थ्य विभाग को इस बात का डर है कि यदि इसी तरह प्रवासी मजदूर कोरोना लाते रहें, तो आकड़ों में तेज़ी से उछाल देखने को मिलेगा।

Facebook Comments