Swachh Bharat Abhiyan in Hindi: राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने एक सपना देखा था कि देश के समस्त नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें। महात्मा गांधी का मानना था कि अपने आसपास साफ-सफाई रखना ईश्वर की भक्ति करने के बराबर है। वह लोगों से अपने इर्द-गिर्द साफ सफाई रखने की अपील करते थें। महात्मा गांधी ने बहुत पहले ही स्वच्छ भारत का सपना देख लिया था।
महात्मा गांधी के इस सपने को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 अक्टूबर 2014 को एक अभियान की शुरुआत की, और उसका नाम दिया स्वच्छ भारत मिशन इसके तहत प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नागरिकों को एक दूसरे से जोड़ते हुए। देश को स्वच्छ रखने और बनाने की अपील की। इस अभियान के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों के सामने 5 वर्ष का लक्ष्य रखा ताकि बापू की 150वीं जयंती को इस लक्ष्य की प्राप्ति के रूप में मनाया जा सके।
इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नामी-गिरामी लोगों को भी इस मिशन से जोड़ने की कोशिश की। इसके लिए उन्होंने मृदुला सिन्हा, सचिन तेंदुलकर, बाबा रामदेव, शशि थरूर, अनिल अंबानी, कमल हासन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा जैसे कई नामचीन हस्तियों को आमंत्रित किया और साथ ही उनसे स्वच्छ भारत अभियान में अपना सहयोग देने की अपील की। प्रधानमंत्री ने स्वच्छ भारत मिशन की नींव रखते हुए। डिजिटल प्लेटफॉर्म को भी ध्यान में रखा। उन्होंने कहा कि अपने आसपास सफाई करें और सफाई अभियान की तस्वीरों को सोशल मीडिया पर साझा करें। प्रधानमंत्री ने इस दौरान हर किसी से अपील की कि वह खुद के साथ अन्य लोगों को भी इससे जोड़े ताकि स्वच्छ भारत मिशन एक श्रृंखला बन जाए। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने  #mycleanindia हैशटैग के साथ अपने सहयोग को साझा करने के लिए कहा था।
swachh bharat abhiyan in hindi
इस अभियान के तहत प्रधानमंत्री मोदी का एक ही मकसद था कि एक रचनात्मक और सहयोगात्मक मंच तैयार करके एक तरह के राष्ट्रव्यापी आंदोलन की शुरुआत की जाए। जिसके तहत नागरिकों और संगठनों को भी कंधे से कंधा मिलाकर देश को स्वच्छ करने की अपील की जाए। इस अभियान का उद्देश्य लोगों को उनके दैनिक कार्यों में से कुछ घंटे निकाल कर, देश की स्वच्छता संबंधित कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करना है।
स्वच्छ भारत अभियान का मकसद समुदाय के अधिक से अधिक लोगों को आपस में जोड़ना है। ताकि वह लोग अपने आसपास के स्थानों को स्वच्छ रखें और जल्द से जल्द भारत को गांधी जी का स्वच्छ भारत बनाया जा सके।

स्वच्छ भारत मिशन का अपग्रेड वर्जन है क्लीन इंडिया ग्रीन इंडिया

आगे चलकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से यह अपील की कि देश को केवल स्वच्छ नहीं बल्कि हरित भी बनाना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता से कहा कि स्वच्छ भारत अभियान का उद्देश्य केवल आसपास की सफाई करना ही नहीं बल्कि अपने आसपास अधिक से अधिक पेड़ लगाना और एक कचरा मुक्त वातावरण तैयार करना है।
स्वच्छ भारत मिशन के तहत लोगों से यह भी अपील किया जाता रहा है कि वह खुले में शौच करना बंद करें और शौचालय का प्रयोग करें। भारत में पर्यटन को बढ़ावा मिले इसके लिए भी स्वच्छ भारत का होना बेहद महत्वपूर्ण है। दुनियाभर में भारत की छवि अस्वच्छ भारत की रही है जो अक्सर शर्मिंदगी की वजह बन जाती है। यही कारण है कि अगर भारत की छवि को सुधारना है तो देश को स्वच्छ बनाना होगा। इसके लिए केवल अभियान चलाने से सफलता नहीं मिलेगी। बल्कि हर एक व्यक्ति को जिम्मेदारी उठानी होगी कि वह अपने आसपास स्वच्छता बनाए रखें और पेड़ पौधे लगाए।

महात्मा गांधी का नारा था “क्विट इंडिया और(or) क्लीन इंडिया”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब कभी भी स्वच्छ भारत की बात की है तो उनकी बात महात्मा गांधी के बिना कभी पूरी नहीं हुई है। नरेंद्र मोदी कहते हैं कि राष्ट्रपति ने कहा था कि क्विट इंडिया और क्लीन इंडिया। महात्मा गांधी का देश को साफ करने का सपना अधूरा है। देश के हर एक नागरिक को यह सुनिश्चित करना होगा कि देश को गंदगी से मुक्त करना उनकी जिम्मेदारी है यह सवा सौ करोड़ देशवासियों की चिंता है जो भारत माता के संतान है।

“मार्स पर पहुंच सकते हैं, तो क्या गली मोहल्ले साफ नहीं कर सकतें”

भारत को स्वच्छ बनाने को लेकर एक संबोधन के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से कहा था कि जब भारतवासी कम से कम खर्चे में मंगल तक पहुंच सकते हैं तो क्या अपना गली मोहल्ला साफ नहीं कर सकते हैं। इस दौरान उन्होंने कहा था कि मैं जानता हूं यह कठिन काम है। लेकिन हमारे पास अभी वक्त है और हम यह कर सकते हैं। नरेंद्र मोदी के इस संबोधन की काफी चर्चा हुई थी। इसके अलावा भी नरेंद्र मोदी ने कई तरीकों से देशवासियों को स्वच्छ भारत मिशन से जोड़ने का प्रयास कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसके तहत लोगों से यह अपील की है कि सोशल मीडिया के माध्यम से भी ज्यादा से ज्यादा लोगों को इस अभियान से जोड़ने के लिए प्रेरित करें। मोदी कहते हैं कि किसी गंदी जगह की फोटो को अपलोड करें फिर उसकी साफ-सफाई का वीडियो बनाए और उसे भी सोशल मीडिया पर अपलोड करें। ताकि इस अभियान को लोग राजनीति से प्रेरित होकर ना देखें। यह अभियान देश हित में है ना कि राजनीति के लिए। पीएम मोदी कहते हैं कि उनके प्रधानमंत्री बनने से पहले भी इस देश में कई सारे सामाजिक संगठन है जो कि साफ सफाई के लिए काम कर रहे हैं। महात्मा गांधी हर गली में सफाई अभियान के लिए नहीं गए थें लेकिन उनकी प्रेरणा ने ऐसा करने का मंत्र दिया।

“प्रति व्यक्ति करीब 6500 रुपए भारत में लोगों के इलाज पर खर्च होता है”

विश्व स्वास्थ्य संगठन(WHO) की एक रिसर्च के मुताबिक हमारे देश में साफ सफाई ना होने के कारण प्रति व्यक्ति करीब 6500 रुपए बीमारियों पर खर्च हो जाता है। अगर देश में सही तरीके से स्वच्छ भारत मिशन लागू किया जाता है तो इसके विपरीत लोगों को बीमारियों से निजात मिलेगी और वह पैसा भारत के अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण योगदान निभाएगा। स्वच्छ भारत मिशन के तहत देशभर में लाखों लोगों को शौचालय की सुविधा दी गई है। साथ ही यह सुनिश्चित किया गया कि वह उसका उपयोग कर रहे हैं। आज भी लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक करते हुए। उनके आसपास और गली मोहल्ले में किस तरह साफ सफाई रखी जाए इस बात की शिक्षा दी जाती है।
Facebook Comments