ज्यादातर लोगो ने पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी के बारे में सुन रखा होगा और उनके मन इससे जुड़े कई सवाल भी आए होंगे। जैसे की पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी क्या होती है, कितने प्रकार होती है, किन किन कामो के लिए बनाई जाती है, कैसे बनवाए, कब तक वैध होती है।

आज हम आपको  इन सब सवाल का जवाब देंगे। इस लेख को पढ़ने के बाद आपके दिमाग में कोई भी सवाल नहीं बचेगा।

आइए जानते है पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी से जुड़े हर सवाल और जवाब

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी क्या होती है? (What is Power of Attorney)

यह एक ऐसा दस्तावेज है जिसको बनाने वाला व्यक्ति प्रिंसिपल कहलाता है और जिसके लिए बनाई जाती है। उसको एजेंट कहा जाता है।  पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी मिलने के बाद एजेंट भी वो सभी काम कर सकता है। जो एक प्रिंसिपल करता है।

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी में प्रिंसिपल एजेंट को वो सब अधिकार देता है जो खुद कर सकता है।

पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी कितने प्रकार की होती है?

यह दो प्रकार की होती है। पहली पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी जनरल, इसके अनुसार एजेंट प्रिंसिपल के सभी काम करने के लिए अधिग्रहित होता है। दूसरा पावर ऑफ अटॉर्नी स्पेशल, इसके अनुसार एजेंट प्रिंसिपल का विशेष काम करने के लिए क़ानूनी रूप से अधिग्रहित होता है।

किन किन कामो के लिए बनाई जाती है?

यह चल-अचल प्रॉपर्टी से जुड़े कामों के लिए, इनकम टेक्स रिटर्न के लिए, कॉन्ट्रैक्ट करने के लिए, अनुबंध करने के लिए तथा अन्य व्यक्तियों से व्यवहार करने के लिए भी बनवाई जाती है।

कैसे बनवाए पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी?

यह एक 100 रुपए के नॉन-ज्यूडिशियल स्टाम्प पेपर पर बनाई जाती है। इसमें इसे बनाने वाले के हस्ताक्षर, स्वीकार करने वाले व्यक्ति के हस्ताक्षर एवं दो गवाह के हस्ताक्षर जरूरी होते हैं।

कब बनवाये पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी?

गंभीर बीमारियों में परिवार को मुश्किलों से बचाने के लिए बनानी चाहिए। जब आप बिलकुल स्वस्थ और सक्षम हो तभी पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी बनानी चाहिए।

कब तक वैध होती है?

इसकी वैधता तब होती है, जब तक इसको कैंसिल नहीं किया जाए और खुद निरस्त न हो जाए। लेकिन अचल संपत्ति में बनवाई गई पावर ऑफ अटर्नी की वैधता एक साल की ही होती है।

अगर आपको ये लेख अच्छा लगा और आपके सारे सवालों के जवाब मिल गए, तो अपने दोस्तों और रिस्तेदारो के साथ इसको शेयर करे। ताकि वो लोग भी इसके बारे में जानकारी ले सके।

ये भी पढ़े: पासपोर्ट के लिए ऑनलाइन कैसे अप्लाई करे

Facebook Comments