Iran Issues Arrest Warrant For Donald Trump: अमेरिका सहित दुनिया के हर देश के लिए यह खबर बहुत बड़ी है। ईरान ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है और इंटरपोल से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और अन्य दर्जनों लोगों को हिरासत में लेने के लिए मदद मांगी है। आइये आपको बताते हैं अमेरिका जैसे शक्तिशाली देश के राष्ट्रपति के खिलाफ ईरान ने गिरफ़्तारी वारंट क्यों निकला है। इस बारे में विस्तृत जानकारी यहाँ हम आपको दे रहे हैं।

ईरान पर हमले में 30 अन्य लोगों के साथ शामिल हैं ट्रंप

Iran Attack
Image Source – Businessinsider.in

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, तेहरान के अभियोजक अली अलकासीमहर ने सोमवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने 30 से अधिक अन्य लोगों के साथ ईरान पर 3 जनवरी को हुए हमले में शामिल थे। उन्होनें यह आरोप भी लगाया है कि, इस हमले में जनरल कासिम सोलेमानी को भी मार डाला गया। इस वजह से ईरान ने ट्रंप पर हत्या और आतंकवाद का आरोप लगाया है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, अलकासीमहर ने फिलहाल ट्रम्प के अलावा किसी और की पहचान नहीं की, लेकिन जोर दिया कि ईरान राष्ट्रपति पद समाप्त होने के बाद भी अपने अभियोजन को जारी रखेगा। हालाँकि फ्रांस के ल्योन में स्थित इंटरपोल ने ईरान के इस अनुरोध का अभी कोई जवाब नहीं दिया है। इसके साथ ही अलकासीमहर ने बताया कि, उन्होनें इंटरपोल से ट्रंप सहित अन्य संलिप्त लोगों को “रेड नोटिस” जारी करने का भी अनुरोध किया है। बता दें कि, रेड नोटिस इंटरपोल द्वारा जारी किया जाने वाला सबसे उच्च नोटिस होता है। जानकारी हो कि, इंटरपोल द्वारा किसी व्यक्ति के खिलाफ रेड नोटिस जारी करने के बाद स्थानीय अधिकारी उस देश की तरफ से व्यक्ति की गिरफ़्तारी के मामले को आगे बढ़ाते हैं। हालाँकि इस रेड नोटिस के जारी होने के बाद भी संदिग्ध व्यक्ति की गिरफ्तारी नहीं की जा सकती लेकिन संदिग्ध को किसी अन्य देश जाने और उसकी क्रियाकलापों पर नजर जरूर रखा जा सकता है।

क्या इंटरपोल ईरान के अनुरोध को मानेगा ?

Notice Issued By Interpol Requesting
Image Source – Metro.co.uk

सबसे पहले आपको बता दें कि इंटरपोल किसी भी देश से अनुरोध प्राप्त करने के बाद, इंटरपोल समिति से मिलता है और चर्चा करता है कि अपने सदस्य राज्यों के साथ जानकारी साझा करना है या नहीं। इंटरपोल को किसी भी नोटिस को सार्वजनिक करने की कोई आवश्यकता नहीं है, हालांकि वो अपनी वेबसाइट पर प्रकाशित सकते हैं। जहाँ तक इंटरपोल के ईरान की मदद करने की बात है, तो इस बात की संभावना कम ही है।

यह भी पढ़े

जानकारी हो कि , अमेरिका ने जनरल सोलेइमानी को मार डाला, जिन्होंने रिवोल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स के अभियान दल के सदस्य और अन्य को बगदाद अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास जनवरी में हुए हमले में मार डाला। दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ाने वाली घटनाओं के महीनों बाद हत्या हुई और अंततः ईरान ने एक बैलिस्टिक मिसाइल हमले के साथ इराक में अमेरिकी सैनिकों को निशाना बनाते हुए जवाबी कार्रवाई की।

News Source – Aljazeera

Facebook Comments