Iranian Airline: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने जबरदस्त आतंक मचा रखा है। तमाम देशों ने इसको फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन कर रखा है। इसी सिलसिले में ट्र्रैवलिंग पूरी तरह से बंद है, ताकि कोरोना वायरस फैल न सके, लेकिन एक ऐसा एयरलाइन है, जिसने कोरोना पॉजिटिव लोगों को सफर कराया। इस बात का खुलासा बीबीसी के रिपोर्ट के ज़रिए हुआ।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, ईरान सरकार ने 31 जनवरी को विमानों के चीन जाने या चीन से वापस लौटने पर बैन लगा दिया था, लेकिन इसके बावजूद इस्लामिक रिवॉल्यूशनरी गार्ड कॉर्प्स से जुड़ी प्राइवेट एयरलाइन महान एयर ने अपनी उड़ान कई हफ्तों तक जारी रखी। इतना ही नहीं, इस दौरान महान एयर के विमान चीन और अन्य देशों में उड़ान भरते रहे, जिसकी वजह से कोरोना फैलने का खतरा दिन ब दिन बढ़ता ही गया।

एयरलाइन ने बोला झूठ

iranian airline mahan air
Arab News

दरअसल, जब एयरलाइन से सेवाएं जारी रखने के बारे में सवाल पूछा गया, तो उसने साफ मना कर दिया। उसके मुताबिक, उसने जनवरी के बाद अपनी सेवाएं बंद कर दी थी, लेकिन ईरान की राजधानी तेहरान और चीन के एयरपोर्ट के डाटा में यह साफ हुआ कि महान एयर के विमान फरवरी के आखिरी तक उड़ान भरते रहे, जिसकी वजह से कोरोना फैलता गया।

23 फरवरी तक भरी थी उड़ान? (Iranian Airline Mahan Air Flew Coronavirus Passengers)

बताया जाता है कि 6 फरवरी को एक विमान वुहान से 70 ईरानी छात्रों को लेकर आया और फिर उसी दिन विमान ने इराक के लिए भी उड़ान भरा। हालांकि, इन सबके बीच महान एयर का दावा है कि उसने बैन होने के बाद कोई भी उड़ान नहीं भरी, लेकिन डाटा तो कुछ और ही बयां करते हुए नजर आ रहे हैं। दरअसल, Flightradar24 के डाटा के मुताबिक, 23 फरवरी तक बीजिंग, शंघाई और गुआंझोऊ और शेनझेन से 55 और फ्लाइट्स ने उड़ान भरी, जिसमें कई लोग कोरोना पॉजिटिव भी पाए गए।

एयरलाइन ने दी ये सफाई

इन तमाम मुद्दों पर जब महान एयर की आलोचना होने लगी, तो उसने कहा कि फ्लाइट्स सिर्फ मानवीय सहायता पहुंचाने के लिए उड़ान भरी थी, जिसमें कोई यात्री नहीं था। इन सबके विपरीत अगर बीबीसी की रिपोर्ट पर गौर किया जाए तो उसमें ये सामने आता है कि ये पैसेंजर फ्लाइट्स ही थीं, जिसमें कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या भी पाई गई थी।

यह भी पढ़े:

Facebook Comments