Coronavirus UK: दुनियाभर में कोरोना वायरस का संक्रमण फैला हुआ है। अब कोरोना वायरस के संक्रमण में आने की चपेट से ब्रिटेन में सबसे बुजुर्ग महिला की मौत की खबर सामने आ रही है। इस महिला की उम्र 108 साल की बताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया है कि इस महिला ने वर्ष 1918 में फैले स्पेनिश फ्लू को भी झेल लिया था। यही नहीं, दोनों विश्वयुद्धों की त्रासदी भी यह महिला जेल गई थी, लेकिन जब यह महिला कोरोना वायरस का शिकार हुई तो इसके कुछ ही घंटों के भीतर वह जिंदगी की जंग हार गई।

साल्फोर्ड में ली अंतिम सांस

इस बारे में सन नामक अखबार में एक रिपोर्ट प्रकाशित की गई है। इसमें बताया गया है कि बीते मंगलवार को हिल्डा चर्चिल की मौत हुई है। यह महिला आगामी 5 अप्रैल को अपना जन्मदिन भी मनाने वाली थी, लेकिन इससे पहले ही अखबार के मुताबिक वह कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार हो गई। बताया जा रहा है कि साल्फोर्ड शहर में इस महिला को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती तो कराया गया, मगर इसे बचाया नहीं जा सका। कोरोना वायरस के संक्रमण के 24 घंटे के अंदर ही महिला ने दम तोड़ दिया। ऐसा माना जा रहा है कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस की वजह से जिन मरीजों की मौत हुई है, उनमें यह सबसे उम्रदराज मरीज रही है।

यह भी पढ़े कोरोना वायरस से इटली का बुरा हाल, एक दिन में गई इतने हज़ार लोगों की जान !(1000 Death Case Italy)

दुखी हैं पोते

कोरोना वायरस की वजह से ब्रिटेन में अब तक 17 हजार से भी अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और इनमें से एक हजार से अधिक लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं। महिला के पोते एंथनी चंचल के हवाले से बताया गया है कि उन्हें इस बात का बहुत ही दुख है कि वे जहां हमेशा उनके साथ खड़ी रहीं, लेकिन वे उनकी अंतिम समय में उनके साथ नहीं खड़े हो सके। अगले कुछ दिनों में उनका जन्मदिन मनाने को लेकर वे बहुत ही उत्साहित थे, पर अफसोस कि ऐसा हो ना सका।

बची थीं स्पेनिश फ्लू से

एंथनी ने बताया है कि बचपन में स्पेनिश फ्लू से बचने के लिए के बाद हिल्डा साल्फोर्ड आ गई थी दर्जी का काम ढूंढते हुए, क्योंकि उस वक्त मंदी फैल गई थी। स्पेनिश फ्लू भी दुनियाभर में फैला था और इसकी वजह से करीब 5 करोड़ लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी। हिल्डा की बहन भी इसकी वजह से मर गई थी। बाद में हिल्डा ने दोनों विश्वयुद्ध भी झेला था।

Facebook Comments