Coronavirus Latest Update: कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर चीन में हाल ही में एक शोध किया गया है, जिसमें बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी सामने आई है। इस शोध में यह पता चला है कि A ब्लड ग्रुप वालों को कोरोना वायरस सबसे अधिक अपने संक्रमण का शिकार बना रहा है। इस शोध को चीन के वुहान और शेंजान में अंजाम दिया गया है, जो कि कोरोना वायरस के गढ़ माने जा रहे हैं। इन दोनों जगहों पर 2000 से भी अधिक मरीजों के ब्लड ग्रुप का अध्ययन किया गया है, जिसमें इस बात का खुलासा हुआ है।

A और O की तुलना

शोधकर्ताओं ने चीन में पाया है कि वुहान में कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण जो मरीज भर्ती थे, उन मरीजों में जिनका ब्लड ग्रुप A था, उनमें कोरोना वायरस के संक्रमण के सर्वाधिक गंभीर लक्षण देखे गए हैं। वहीं जिन मरीजों का ब्लड ग्रुप O था, उनमें कोरोना वायरस के लक्षण बहुत ही कम देखने को मिले हैं। वुहान यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता वैंग शिंघुआन ने A ब्लड ग्रुप वालों को संक्रमण का अधिक खतरा देखते हुए उन्हें ज्यादा सावधानी बरतने की सलाह दी है।

शोध में पाया (Coronavirus Latest Update)

शोधकर्ताओं ने अपने शोध में पाया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वाले 206 मरीजों में जहां 85 मरीजों का ब्लड ग्रुप A था, वहीं मरने वाले 52 लोगों का ब्लड ग्रुप O था। हालांकि, शोधकर्ता गाओ यिंगडई ने कहा है कि ब्लड ग्रुप A होने पर भी लोगों को घबराने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि यह जरूरी नहीं कि 100 फ़ीसदी वे कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार हो ही जाएंगे। साथ ही जिन का ब्लड ग्रुप O है, उन्हें भी इसे लेकर निश्चिंत होने की जरूरत नहीं है कि वे कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार नहीं होंगे। इससे बचने के लिए बार-बार हाथ धोते रहना और सरकार की ओर से जारी किए गए गाइडलाइंस का पालन करना बहुत ही जरूरी है।

यह भी पढ़े

कोरोना वायरस पर WHO के चीफ़ ने दिया नया बयान, कहा इस तक़नीक से रोक सकते हैं वायरस का प्रसार !

किस ब्लड ग्रुप के कितने लोग?

शोध में यह पाया गया है कि वुहान में सर्वाधिक संख्या O ब्लड ग्रुप वाले लोगों की है। यहां 34 प्रतिशत लोगों का ब्लड ग्रुप O, 31 फीसदी लोगों का A, 24 प्रतिशत का ब्लड ग्रुप-B और 9 फीसदी का ब्लड ग्रुप AB और  है।

Facebook Comments