WHO: वैश्विक महामारी का रूप ले चुका कोरोना वायरस का प्रकोप कम होने का नाम नहीं ले रहा है। विश्व स्तर पर 4.35 मिलियन लोग अब तक इस वायरस से संक्रमित हैं, जिनमें से कई हज़ार लोग अपनी जान भी गंवा चुके हैं। आए दिन इस खतरनाक वायरस से बचाव के लिए वैक्सीन के निर्माण की बात तो होती है लेकिन ये वैक्सीन कब बनकर तैयार होगा इसकी अभी कोई जानकारी नहीं है। अब ताजे रिपोर्ट के अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस के कभी ना खत्म होने की आशंका जतायी है। आइये आपको बताते हैं आखिर क्या है ये पूरी खबर।

कोरोना वायरस के खात्मे पर क्या कहना है WHO का

विश्व स्वास्थ्य संगठन की ये रिपोर्ट आपके होश उड़ा सकती है। मिली जानकारी के अनुसार विश्व स्वास्थ्य संगठन के हेल्थ इमरजेंसी के डायरेक्टर माइकल रयान का कहना है कि, कोरोना वायरस पाए किये गए तमाम रिसर्च और रिपोर्ट के आधार पर ऐसी आशंका जताई जा रही है कि, भविष्य में कोविड 19 कभी ख़त्म ना हो। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, इस रिपोर्ट में डॉक्टर माइकल ने कहा है कि, हो सकता है कोरोना वायरस भी एचआईवी की ही तरह हमेशा के लिए खत्म ना हो पाए। जिस तरह से एचआईवी से पीड़ित लोग भी काफी समय तक सेहतमंद रह सकते हैं उसी प्रकार कोरोना वायरस के मरीज भी सभी सावधानियों को बरत कर जिन्दा रह सकते हैं। बता दें कि, माइकल रयान ने साफतौर पर यह कहा है कि, ये वायरस का खत्म होगा इस बारे में अभी कुछ कहा नहीं जा सकता। WHO की ये रिपोर्ट वाकई में बेहद चिंताजनक है , देखा जाए तो अब लोगों को इस बीमारी से बचाव के लिए सुरक्षा के मानकों को अपनी जीवन का हिस्सा बनाना होगा।

वैक्सीन बनने से हो सकता है कोरोना का खात्मा

WHO said coronavirus ‘may never go away’
Image Source: bbc

जहाँ एक तरफ विश्व स्वास्थ्य संगठन के माइकल रयान ने कोरोना के कभी ना खत्म होने की बात कही है, वहीं दूसरी तरफ उन्होनें वैक्सीन के जरिए इसके खत्म होने का जिक्र भी किया है। डाक्टर रयान के अनुसार यदि कोरोना वायरस का वैक्सीन वक़्त रहते सफलता पूर्वक बन जाता है तो, केवल उसी स्थिति में इस वायरस का खत्मा व्यक्ति के शरीर से किया जा सकता है। लेकिन फिर से वहीं सवाल खड़ा होता है कि, वैक्सीन कब बनकर तैयार होगा। इसकी जानकारी फिलहाल विश्व स्वास्थ्य संगठन के पास भी पुख्ते तौर नहीं है। WHO के डायरेक्टर ने इस दौरान बच्चों को लेकर ख़ास चिंता व्यक्त की है।

यह भी पढ़े:

चूँकि इस समय किसी भी देश का बाहरी देश से किसी प्रकार का कनेक्शन नहीं हो पा रहा है। ऐसे में बच्चों के लिए बनाई जाने वाले वैक्सीन भी उन्हें नहीं मिल पा रही है। जानकारी हो कि, जन्म के बाद बच्चों को कई प्रकार के वैक्सीन लगाएं जाते हैं लेकिन इसके ना मिल पाने की स्थिति में बच्चों को स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं हो सकती हैं। हर देश का बॉर्डर बंद होने की वजह से दवाईयों की सप्लाई भी रुक गई है। ऐसे में केवल उम्मीद की जा सकती है कि, ये स्थिति जल्द से जल्द खत्म हो।

Facebook Comments