Hinglaj Devi Ka Mandir: हमारे भारतवर्ष में देवी देवताओं के प्रति भक्तों में काफी ज्यादा श्रद्धा और भक्ति रहती है और आमतौर पर लगभग हर पर्व या त्योहार को किसी न किसी भगवान से जोड़कर मनाया जाता है। ऐसा ही एक पर्व है नवरात्रि का जिस दौरान देश भर में मां दुर्गा के भक्त माता रानी के सभी नौ रूपों की नौ दिनों तक पूजा अर्चना करते हैं। सभी देवियों में श्रेस्ठ मां दुर्गा हैं और इसे आप इस तरह भी कह सकते हैं कि मां दुर्गा ही अलग-अलग रूपों में हर देवी में समाहित हैं। इस दौरान सभी भक्त देश के कोने कोने में मौजूद देवी मां के मंदिरों में तथा विशेष रूप से शक्तिपीठ में माता रानी की आराधना करते हैं। ऐसे में आज हम आपको ऐसे ही एक मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आपको काफी ज्यादा हैरानी हो सकती है। जी हां, हम बात कर रहे हैं देवी मां के ही एक ऐसे मंदिर के बारे में, जो हमारे देश भारत में न होकर एक मुस्लिम देश में है।hinglaj devi ka mandir

आप बिलकुल सही सुन रहे हैं, मां दुर्गा अपने 51 शक्तिपीठों के रूप में देश के विभिन्‍न स्‍थानों पर विराजकर अपने भक्‍तों की रक्षा करती हैं। मां का ऐसा ही एक शक्तिपीठ सरहद पार पाकिस्‍तान में है, जो हिंगलाज भवानी के रूप में विख्यात है। बता दें कि ये शक्तिपीठ बलूचिस्‍तान में हिंगोल नदी के किनारे बसे हिंगलाज क्षेत्र में स्थित है। मान्यता के अनुसार बताया जाता है कि मां सती का मस्तिष्क दो जगहों पर गिरा था, एक बलूचिस्तान में और दूसरा राजस्थान में। चूंकि बलूचिस्तान का वह हिस्सा अब पाकिस्तान में है और राजस्थान में जिस जगह पर दूसरा हिस्सा गिरा वहां से मां हिंगलाज की प्रतिमा को कुछ भक्त सौ साल से भी पहले छिंदवाड़ा जिले में ले आए थे। ऐसा बताया जाता है कि कई सौ वर्षों पहले राजस्थान के राजा के वंशजों को जीविकोपार्जन के लिए मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में आना पड़ा। वे सभी वहां से पलायन तो हो गए और अपने साथ-साथ हिंगलाज माता की प्रतिमा भी लेते आए। यहां पर उन्होंने छिंदवाड़ा में एक कोल माइन के पास इसे स्थापित कर दिया और फिर उसके बाद से ही यहां हिंगलाज माता को बहुत ही आस्था के साथ पूजा जाने लगा। आपको यह जानकर काफी आश्चर्य होगा कि नवरात्र के दौरान सिंध तथा कराची प्रांत के लाखों सिंधी हिंदू श्रद्धालु यहां माता के दर्शन को आते हैं। सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि भारत से भी प्रतिवर्ष एक दल यहां दर्शन के लिए जाता है। आप ये समझ लीजिये कि यह एक ऐसा मंदिर है, जो हिंदू और मुस्लिम दोनों की ही आस्था का केंद्र है।

hinglaj devi ka mandirचूंकि मां दुर्गा हिंदू समुदाय की देवी हैं और उनकी आस्था का बहुत ही बड़ा प्रतीक भी लेकिन आप यह सुनकर थोड़े हैरान हो सकते हैं कि पाकिस्तान के मुस्लिम भी हिंगलाज माता पर आस्था रखते हैं और मंदिर को सुरक्षा प्रदान करते हैं। वहां के लोग इस मंदिर को नानी का मंदिर कहते है। बता दें कि एक प्राचीन परंपरा का पालन करते हुए स्थानीय मुस्लिम जनजातियां, तीर्थयात्रा में शामिल होती हैं और तीर्थयात्रा को नानी का हज कहते हैं। आपको यह भी बता दें कि माता हिंगलाज मंदिर में पूजा-उपासना का बड़ा महत्व बताया गया है। मान्यता है कि इस विश्व प्रसिद्ध मंदिर में माता की पूजा करने स्वयं गुरु गोरखनाथ, गुरु नानक देव, दादा मखान जैसे महान आध्यात्मिक संत आ चुके हैं। आपको यह भी बता दें कि इस मंदिर तक का सफर भी काफी कठिन है। हिंगलाज मंदिर में दाखिल होने के लिए पत्थर की सीढिय़ां चढ़नी पड़ती हैं। मंदिर में प्रवेश करते ही सबसे पहले श्री गणेश भगवान के दर्शन होते हैं, जो दूर-दूर से आए भक्तों को सिद्धि देते हैं। उसके बाद सामने की ओर माता हिंगलाज देवी की प्रतिमा है, जो साक्षात माता वैष्णो देवी का रूप हैं।

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा। पसंद आने पर लाइक और शेयर करना न भूलें।

Facebook Comments