काल करे सो आज कर
आज करे सो अब

कबीर की यह पंक्तियाँ अक्सर हम कहीं न कहीं सुनते रहते हैं जिनका अर्थ है कि हमे किसी भी कार्य को कल पर नहीं छोड़ना चाहिए । महान संत कबीरदास जी के दोहों (Kabir Dohe) का अर्थ समझ कर यदि कोई उन्हें अपनी ज़िन्दगी में अमल कर ले तो उसका जीवन सफल बन जाता है। कबीर एकता के प्रतीक थे और एक मुस्लिम परिवार में जन्म लेने के बावजूद उनका हिन्दू धर्म को अपनाना इस बात की मिसाल है।

यहाँ हम कबीर के कुछ दोहे उनके अर्थ सहित प्रस्तुत करने जा रहे हैं [Sant Kabir ke Dohe in Hindi]

1. बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय।
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।।

अर्थ : जब मैं संसार में बुराई खोजने निकला तो मुझे कोई भी बुरा न मिला, जब अपने अंदर झाँक कर देखा तो ज्ञात हुआ कि सबसे ज़्यादा बुराई तो मुझमे ही है।

2. धीरे धीरे रे मना, धीरे धीरे सब कुछ होय।
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आये फल होय।।

अर्थ: कोई भी कार्य वक़्त आने पर ही सम्पूर्ण होता है। अगर माली एक वृक्ष को सौ घड़े पानी से भी सींच दे तब भी उसमे फल तभी लगेगा जब ॠतु आएगी।

3. जाति न पूछो साधू की, पूछ लीजिये ज्ञान।
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।।

अर्थ: किसी सज्जन की जाती न पूछ उसके ज्ञान को समझिये। मूल्य केवल तलवार का होता है, न की उसे ढकने वाले म्यान का।

4. कबीरा खड़ा बाजार में, मांगे सबकी खैर।
न काहू से दोस्ती न काही से बैर।।

अर्थ: संसार में कबीर यही चाहते हैं कि हर किसी की खैर रहे। न ही किसी से दोस्ती न ही किसी से दुश्मनी।

5. माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर।
आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर।।

अर्थ: कबीर के अनुसार संसार में न माया मरती है न मन। शरीर न जाने कितनी बार मर चूका है लेकिन मोह माया कभी ख़तम नहीं होती।

6. बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंछी को छांया नहीं, फल लागे आती दूर।।

अर्थ: खजूर के पेड़ के सामान बड़ा होकर भी कोई लाभ नहीं, न ही आप किसी को छांया दे पाते हैं और न ही फल।

7. जो ऊग्या सौ अन्तबै, फूल्या सौ कुमलाहीं।
जो चिनिया सो डहि पड़े, जो आया सौ जांहि।।

अर्थ: संसार का यह नियम है की जो उदय हुआ है वो अस्त भी होगा। जो विकसित हुआ है वो मुरझायेगा, जो चिना गया है वो गिर पड़ेगा. जो आया है वो जाएगा।

कबीर ने अपना जीवन, ज़िन्दगी और उसके सही अर्थ को समझने में लगा दिया। अपने दोहों के ज़रिये उन्होंने ज़िन्दगी के सही मोल को उजागर किया है। उनके विचारों को अपना लेने से मनुष्य एक बेहतर जीवन जी सकता है।

Facebook Comments