Coronavirus Outbreak: कोरोना का संकट देश से ख़त्म होने का नाम नहीं ले रही है। आये दिन कोरोना के नए मामले सामने आ रहे हैं। बीते दिनों हॉकी इंडिया टीम के खिलाड़ियों के लिए खाना पकाने वाले व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाया है। इस घटना की जानकारी कुक की मौत के बाद जांच में सामने आई है। खिलाड़ियों के कुक का कोरोना पॉजिटिव निकलने के बाद टीम में खिलाड़ियों की सुरक्षा को लेकर हहाकार मच गया है। यहाँ हम आपको इस घटना के बारे में विस्तार बताने जा रहे हैं। आइये जानते हैं आखिर खिलाड़ियों की सुरक्षा के लिए कौन से जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।

हार्ट अटैक से हुई कुक की मौत (Hockey Players cook Died Through Coronavirus)

Hockey Players cook Died Through Coronavirus
Punjab Kesari

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, बीते दिनों हॉकी इंडिया टीम के लिए खाना पकाने वाले कुक की अचनाक ही हार्ट अटैक से मौत हो गई। लेकिन मौत के बाद जब उसकी जांच की गई तो कुक को कोरोना पॉजिटिव पाया गया। बता दें कि, हॉकी इंडिया के पुरुष और महिला टीम के खिलाड़ी लॉकडाउन के पहले से ही बेंगलुरु स्थित भारतीय प्राधिकरण केंद्र में रुके हैं। टीम ओलंपिक के लिए पहले ही क्वॉलिफॉय कर चुकी है, लेकिन कोरोना की वजह से ओलंपिक गेम्स को भी अभी टाल दिया गया है। जहाँ तक खिलाड़ियों में कोरोना पॉजिटिव होने की बात है तो आपको बता दें कि, कुक की मौत के बाद बोर्ड का ऐसा कहना है कि, हॉकी खिलाड़ियों में कोरोना के लक्षण नहीं है और वो कोरोना पॉजिटिव नहीं हो सकते हैं क्योंकि कुक सीधे तौर पर खिलाड़ियों के संपर्क में नहीं था। इस बारे में हॉकी टीम के अधिकारियों का कहना है कि, कुक को उसकी मौत के बाद कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। अधिकारियों ने बयान जारी कर कहा है कि, डरने की कोई बात नहीं है क्योंकि कुक को खिलाड़ियों के जगह पर जाने की अनुमति नहीं थी।

हॉकी टीम को बेंगलुरु से बाहर निकालना असंभव (Hockey Players cook Coronavirus Positive at Bengaluru Sai Centre)

गौरतलब है कि, हॉकी टॉम के रसोईये को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद भी उन्हें बेंगलुरु से निकालने की कोई बात नहीं हो रही है। इस बारे में हॉकी इंडिया टीम की सीईओ एलीना नोर्मन ने बताया कि, इस समय लॉकडाउन की वजह से टीम को बेंगलुरु से बाहर निकालना असंभव है। उन्होनें कहा कि, कुक भले ही कोरोना पॉजिटिव पाया गया हो लेकिन उसका खिलाड़ियों से कोई मेल जोल नहीं था। बता दें कि, कुक को गेट से अंदर जाने की अनुमति नहीं थी और लॉकडाउन के बाद उसे छुट्टी दे दी गई थी। इसलिए खिलाड़ियों कोरोना का कोई डर नहीं है। इस समय जहाँ हॉकी टीम के खिलाड़ियों को रखा गया है वहां किसी भी अनजान व्यक्ति को नहीं आने दिया जा रहा है और कोरोना से बचाव के लिए सभी नियमों का पालन किया जा रहा रहा। मिली जानकारी के अनुसार बेंगलुरु में खिलाड़ियों को जहाँ रखा गया है उस परिसर में कुक आखिरी बार 15 मार्च को आया था। बहरहाल हॉकी टीम के सभी खिलाड़ी इस महामारी से सुरक्षित हैं।

Facebook Comments