Shetphal Village Maharashtra: एक तो सांप ऊपर से कोबरा, नाम सुनकर ही कई लोगों की चीख निकल जाए। ऐसे में जरा सोचिये उस गांव का माहौल कैसा रहता होगा जहाँ हर घर में लोग कोबरा पाल कर बैठे हैं। जी हाँ, बिलकुल ठीक सुना आपने महाराष्ट्र में एक ऐसा गांव है जहाँ हर घर में आपको कोबरा देखने को मिल सकता है। साँपों की प्रजाति में कोबरा यानी कि नाग को सबसे ज्यादा विषैला माना जाता है। जिस जगह ये सांप पाए जाते हैं वहां दूर-दूर तक इंसान नजर नहीं आते। आइये जानते हैं आखिर महाराष्ट्र का कौन सा है वो गांव जहाँ हर घर में पाया जाता है कोबरा।

महाराष्ट्र के शेतपाल नाम के गांव में हर घर में मिलेगा कोबरा (Snake Village in Maharashtra)

shetphal village maharashtra
zee news

जहाँ एक तरफ सांप का नाम सुनते ही लोगों के रौंगटे खड़े हो जाते हैं वहीं महाराष्ट्र के सोलापुर जिले में शेतपाल नाम के गांव में हर घर में कोबरा पाया जाता है। आप में से बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो यह सोच रहे होंगे कि, इस गांव के लोग शायद सांप से अपना जीविकोपार्जन करते हैं। आपकी सोच को यही रोकते हुए बताना चाहेंगे कि, इस गांव के लोग साँपों को बिना किसी लालच के पालते हैं। शेतपाल में एक भी ऐसा घर नहीं है जहाँ सांप नहीं पाए जाते हैं। इस गांव में एक भी ऐसा घर नहीं है जहाँ सांप को कारोबार के लिए रखा जाता हो। शेतपाल गांव के लोग खासतौर से साँप की पूजा करते हैं और उन्हें सुख समृद्धि का कारण मानते हैं। यहाँ के लोग साँपों की पूजा करते हैं और उन्हें अपना देवता मानते हैं। आपको महाराष्ट्र के इस गांव में विशेष रूप से साँपों के बहुत से मंदिर भी देखने को मिल सकते हैं। इस अनोखे गांव को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं।

हैरान कर देगा शेतपाल गांव का ये तथ्य (Shetphal Village Snakes)

इस गांव की सबसे ज्यादा हैरान कर देने वाली बात ये है कि, यहाँ हज़ारों साँपों के होने के वाबजूद भी आजतक किसी को सांप ने नहीं काटा है। शेतपाल गांव की सबसे बड़ी ख़ासियत आप इसे कह सकते हैं। वाकई में ये हैरानी की बात है कि, हर तरफ जहाँ सांप घूम रहे हों वहां किसी को आज तक एक सांप ने काटा ना हो। इसके पीछे एक कारण यह हो सकता है कि, यहाँ के लोग सांप को मारते नहीं है। शेतपाल गांव में हर घर में सांप को पालने के पीछे एक तथ्य यह भी है कि, यहाँ कभी भी किसी ने सांप को मारा नहीं है। लोग साँपों को देवता स्वरुप मानते हैं और उन्हें मारना किसी पाप से कम नहीं समझते। शेतपाल नाम के इस गांव में बड़े बुजुर्ग के साथ ही छोटे छोटे बच्चे भी आपको इन जेहरीले साँपों से खेलते नजर आ सकते हैं। लेकिन ताज्जुब तो इस बात की है कि, आजतक किसी को भी सांप ने काटा नहीं है। इस गांव में जाने के बाद आपको स्कूल, कॉलेज तो दूर की बात है हर एक नुक्कड़ पर आपको सांप दिखाई दे सकते हैं। इसके साथ ही साथ शेतपाल गांव के हर निवासी ने अपने-अपने घरों में साँपों के रहने के लिए विशेष रूप से बिल बनाए हुए हैं। इन बिलों में सांप के रहने की व्यवस्था की गई है।

क्यों पाए जाते हैं शेतपाल में इतने सांप

shetphal village maharashtra
cocktail zindagi

इस गांव में आने वाले लोगों के मन में अक्सर ये सवाल उठता है कि, आखिर यहाँ इतने सांप क्यों पाए जाते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, इस गांव का वातावरण असल में सूखा होने की वजह से साँपों के लिए बिल्कुल अनुकूल है। इसके साथ ही साथ इस गांव का इलाका मैदानी है और इस तरह के मैदानी इलाकों में सांप सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। यहाँ लोगों के घरों में कोबरा इस तरह घूमते हैं जैसे वो उनका ही घर हो, इन घरों में सांप इंसानों के बीच खुद को सबसे ज्यादा सुरक्षित मानते हैं। महाराष्ट्र के इस गांव को साँपों का गांव भी कहा जाता है। साँपों के साथ ही इस गांव के लोग शिव जी के भी बड़े भक्त माने जाते हैं। चूँकि शिवजी नाग को अपने गले में धारण करते हैं इसलिए भी लोग यहाँ साँपों को मारते नहीं हैं बल्कि उसकी पूजा करते हैं।

Facebook Comments