शेयर बाजार एक ऐसा क्षेत्र है जहां हर किसी के मन में निवेश करने के बाद एक मोटी कमाई वापस आने की चाहत होती है। असल मायने में बात करें तो ऐसी चाहत रखना आसान है, लेकिन आपके निवेश की सुरक्षा और उसके साथ-साथ अच्छी कमाई करने के लिए बेहद सूझबूझ और एक परिपक्व रणनीति की आवश्यकता होती है।

अगर आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके अंदर सोचने की अच्छी शक्ति, धैर्य और विवेक होना बेहद जरूरी है। शेयर बाजार में पैसा लगाने के बाद अगर आप बेहतर रिटर्न पाना चाहते हैं तो इसका इलाज इसी मूलमंत्र में छिपा हुआ है। अगर आप धैर्य रखते हैं और सोच समझ कर शेयर बाजार में पैसे को लगाते या निकालते हैं तो यह आपको बेहतर रिटर्न तो देगा साथ ही साथ आपके पैसे को डूबने से भी बचाएगा।

शेयर बाजार में निवेश करने से पहले एक बात को समझ ले कि यहां निवेश करने के बाद सफल होने का कोई शॉर्टकट फार्मूला नहीं है। शेयर बाजार में निवेश करना आसान है, लेकिन अपने निवेश को मुनाफे में परिवर्तित करना थोड़ा मुश्किल भी है। इसके लिए आपके पास शेयर बाजार की अच्छी समझ होना बेहद जरूरी है।

चलिए जानते हैं कि शेयर बाजार में निवेश कैसे करें और निवेश करने के बाद किन पहलुओं पर ध्यान दें।

एक्सपर्ट्स का कहना है कि शेयर बाजार में निवेश करने से पहले जिस भी कंपनी के शेयर में आप निवेश कर रहे हैं। उसके बारे में पूरी जानकारी इकट्ठा कर लें। शॉर्टकट में अगर इस बात को कहें तो निवेश करने से पहले आपको अपना होमवर्क करना बेहद ही जरूरी होता है। जाने-माने वर्ल्ड लेवल के फंड प्रबंधक पीटर लिंच का कहना है, “यदि आप किसी कंपनी के बारे में अध्ययन नहीं करते हैं, तो अच्छे शेयर का चयन करना जुआ ही है. आप पत्ते देखे बिना ही अपनी चाल चल रहे हैं.” लिंच कहते हैं कि आपको निवेश केवल वही करना चाहिए जिसके बारे में आपको पता हो।

share market kya hai
share bazar

शेयर बाजार में बढ़िया मुनाफा कमाने का एक और तरीका यह है कि किसी भी कंपनी के शेयर की कीमत पर मत जाएं। बल्कि उस कंपनी के बिजनेस करने का तरीका और कंपनी कंपनी द्वारा कमाए गए पहले के नुकसान और मुनाफे के बारे में भी जानकारी इकट्ठा कर लें। एक्सपर्ट्स भी यही कहते हैं कि किसी भी बिजनेस को समझने से पहले कंपनी की रणनीति के बारे में समझना बेहद आवश्यक है इससे उस कंपनी के शेयर में निवेश करना बेहद आसान हो जाता है।

भेड़चाल से रहें दूर, निवेश रहेगा सुरक्षित

कई बार लोग शेयर बाजार में अपने परिजन या दोस्तों की बात में आकर निवेश कर देते हैं। हालांकि निवेश करना गलत नहीं है, लेकिन उनके दिए गए सलाह पर किसी कंपनी में निवेश करना गलत है। अगर आपको आपका कोई जानकार किसी कंपनी में निवेश करने की सलाह देता है तो पहले आपकी जिम्मेदारी बनती है कि आप भी उस कंपनी के बारे में पढ़ लें उसके बाद ही उसके शेयर में निवेश करें। एक दूसरे को देखकर कंपनी में निवेश करने से कई बार निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पड़ जाता है। उदाहरण के लिए आपको बता दें कि रिलायंस पावर के आईपीओ को पिछले कुछ समय पहले 14.4 गुना तक सब्सक्राइब किया गया था। इस कंपनी को अपने निवेशकों से करीब 29.5 लाख के आदेश मिले थे। इस दौरान आईपीओ का इश्यू प्राइस 450 रुपए था। लेकिन अब इस शेयर की मौजूदा कीमत महज 35 रुपया है। इससे एक बात साफ हो जाता है कि इतनी भारी संख्या में अगर इस कंपनी में निवेश हुआ है तो जाहिर सी बात है। एक दूसरे को देख कर ही निवेशकों ने पैसा लगाया होगा। बाजार में ऐसे कई सारे उदाहरण मौजूद हैं।

शेयर बाजार एक अस्थिर बाजार है यहां निवेशकों को जोखिम उठाने की क्षमता रहनी चाहिए। अगर आप इसमें निवेश करते हैं तो आप अपनी मानसिक स्थिरता को बरकरार रखें। कई बार शेयर बाजार में लोग निवेश तो कर देते हैं। लेकिन संयम नहीं रख पातें और नुकसान होने पर गलत कदम उठा लेते हैं। इससे केवल आपको ही नुकसान नहीं होता है। बल्कि आपके परिवार वालों को भी नुकसान होता है। शेयर बाजार में उतना ही निवेश करें जितने में आपके सामान्य जीवन पर कोई असर ना पड़े। शेयर बाजार में निवेश करने का मतलब यह नहीं कि आप अपनी जीवन भर की कमाई को इसमें निवेश कर दें। यह एक तरह का जुआ है और जुआ हमेशा सोच समझ कर ही खेलनी चाहिए।

यह शेयर बाजार है किसी जादूगर का रंगमंच नहीं

जैसा कि हम बार-बार कह रहे हैं कि शेयर बाजार एक तरह का जुआ है। इसमें कोई रातों-रात मालामाल हो जाता है तो किसी का सारा पैसा डूब जाता है। लेकिन अगर संयम रखें तो डूबा हुआ पैसा भी आपको एक समय आने के बाद बेहतर रिटर्न दे देता है। आप यहां 100 से शून्य पर तो आ सकते हैं। लेकिन इसकी संभावना बहुत कम ही होती है। आपको नुकसान होता है लेकिन आप यहां कंगाल नहीं हो सकते। उदाहरण के तौर पर इसे ऐसे समझें कि अगर आपने किसी शेयर में 100 रुपए लगाए हैं तो आप पूरी तरह से नुकसान में तभी जाएंगे जब कंपनी बंद हो जाएगी। लेकिन इस बात की संभावना बहुत कम होती है। वहीं अगर नुकसान की बात करें तो शेयर डूबने पर ऐसा हो सकता है कि आपके 100 रुपए वाले शेयर की वैल्यू घटकर 50 रुपए हो जाए। यहां आपको नुकसान तो होता है लेकिन अगर आप धीरज रखते हैं। तो कल जब कंपनी मुनाफे में जाएगी तो आपका 50 रुपया आपको रिटर्न में 150 रुपया भी दे सकता है। जरूरत है कि मार्केट में निवेश करने के बाद अपने शेयर पर नजर बनाए रखें और लंबे समय तक धैर्य रखें। शेयर बाजार में निवेश करने का और अपने शेयर्स को बेचने का एक समय होता है। लेकिन यह समय तय नहीं रहता। इसलिए अगर आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं तो निवेश करते वक्त भी आप को थोड़ा इंतजार करना चाहिए। इसके लिए जरूरी है कि आप अपने निवेश के लिए अपने हाथ में कुछ पैसा बचा कर रखें। निवेश करने के बाद भी अगर बाजार में उथल-पुथल हो रही है तो संयम रखें।

शेयर बाजार में निवेश करने के लिए उतना ही रकम अपनी कमाई का निकालें जितना निकालने से आपके सामान्य जीवन पर फर्क ना पड़े। हमने पहले भी कहा कि आप अपनी पूरी कमाई या जिस पैसे की आपको और आपके परिवार को जरूरत पड़ सकती है उसे कभी भी शेयर बाजार में निवेश ना करें।

शेयर बाजार में केवल निवेश करके छोड़ देना ही आपके लिए बेहतर नहीं है। इसमें निवेश करने के बाद आपको लगातार अपने शेयर की कीमतों पर नजर रखनी पड़ती है। जिस कंपनी का शेयर आप खरीद रहे हैं उस कंपनी से जुड़ी हर खबर को हमेशा पढ़ते रहें। साथ ही जिस भी स्टॉक मार्केट के तहत आप पैसा लगा रहे हैं उस पर हमेशा नजर बनाए रखें।

अंततः शेयर बाजार में निवेश करने और बढ़िया रिटर्न या मुनाफा पाने का एक ही मूल मंत्र है कि निवेश करें संयम रखें और अपने निवेश पर नजर बनाए रखें।

Facebook Comments