Lockdown Covid-19: भारत में जिस तरीके से कोरोना वायरस का संक्रमण अपने पांव पसारता जा रहा है और जिसने हर किसी को चिंतित कर दिया है, वैसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से घोषित 21 दिनों के लॉकडाउन का गंभीरता से पालन किया जाना और भी जरूरी हो गया है। बीते 24 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी की ओर से जो 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की गई थी। इसकी मियाद 14 अप्रैल को समाप्त होने वाली है। ऐसे में देश के अधिकतर इलाकों में इसका व्यापक असर देखने को मिल रहा है। इसी क्रम में उत्तर प्रदेश के देवरिया में एक अनोखी घटना घटी है, जो कि पीएम मोदी के संकल्प को और मजबूत करने वाली है।

इसलिए रखा नाम (Lockdown Covid-19)

new born baby gets name lockdown covid-19
Maharashtratimes

देवरिया में एक घर में एक महिला ने बेटे को जन्म दिया है। लॉकडाउन के चौथे दिन इस बच्चे का जन्म हुआ। इसके बाद इसके माता-पिता ने अपने बच्चे का नाम लॉकडाउन रख दिया है। बच्चे के मां-बाप का कहना है कि उन्होंने अपने बेटे का नाम लॉकडाउन इसलिए रखा है, क्योंकि यह लॉकडाउन के दौरान पैदा हुआ है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राष्ट्रहित में 21 दिनों के लॉकडाउन का फैसला लिया है। देश को कोरोना वायरस से बचाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक मजबूत संकल्प लिया है। ऐसे में उन्होंने अपने बेटे का नाम इसलिए लॉकडाउन रखा है, ताकि लोगों को इसके महत्व का पता चले। लोग इससे लॉकडाउन का गंभीरता से पालन करने के लिए प्रेरित हों और कोरोना वायरस हमेशा के लिए यहां से चला जाए।

यह भी पढ़े भूत बनकर लॉकडाउन के नियमों को तोड़ने वालों को डराया जा रहा गोवा में? ये रही सच्चाई

बीते 28 मार्च को

पवन कुमार और नीरजा देवरिया के खुखुंदू गांव के रहने वाले हैं। नीरजा ने बीते 28 मार्च को इसी गांव के एक सामुदायिक केंद्र में बेटे को जन्म दिया था। बेटे का जन्म ऐसे समय में हुआ है, जब देशभर में लॉकडाउन चल रहा है। ऐसे में इन दोनों ने अपने बेटे का नाम लॉकडाउन रखने का ही निर्णय कर लिया।

मजाक भी उड़ा

पवन और नीरजा के मुताबिक पहले तो लोगों ने इसका मजाक उड़ाया, लेकिन अब उन्होंने इसकी वाहवाही शुरू कर दी है। पवन का कहना है कि उनका बेटा प्रधानमंत्री मोदी के अभियान का प्रतीक है। लॉकडाउन को सफल बनाकर हमें कोरोना वायरस के खात्मे में अपना योगदान देना चाहिए।

Facebook Comments