Om Banna ka Mandir: राजस्थान अपने प्रख्यात किलों, परंपराओं और मंदिरों के लिए जाना जाता है। यहां की सबसे खास बात यह है कि यहां हर किले या मंदिर का अपना एक इतिहास है, जो कई रोचक कहानियां समेटें है। कुछ कहानियां इतनी अजीब और हैरान कर देने वाली होती हैं जिन पर शायद यकीन करना मुश्किल हो। आज हम आपको एक ऐसे ही मंदिर की कहानी के बारे में रोचक बात बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आपको विश्वास नहीं होगा।

बुलेट बाबा का रहस्यमयी मंदिर (Bullet Baba Mandir Rajasthan Story in Hindi)

राजस्थान के पाली जिले में बुलेट बाबा नाम से प्रसिद्ध एक मंदिर है जिसमें किसी देवता की नहीं बल्कि एक दो पहिया वाहन की पूजा-अर्चना की जाती है। जी हां, आपने सही पढ़ा। राजस्थान के इस मंदिर में एक बुलेट बाइक की पूजा की जाती है। यह जोधपुर पाली हाईवे से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। सड़क के किनारे जंगल में यहां लगभग बहुत सी दुकानें आपको प्रसाद व पूजा के सामान से सजी मिल जाएंगी और साथ ही यहां आपको एक चबूतरा नज़र आएगा जिस पर ओम बन्ना की एक बड़ी तस्वीर लगी होगी।

क्या है ओम बन्ना व बुलेट बाइक की कहानी (Bullet Baba Mandir)

bullet baba mandir
patrika

बुलेट बाइक की पूजा का संबंध ओंम बन्ना (Om Banna) से है। ओम बन्ना यानी ओम सिंह राठौड़ पाली शहर के पास स्थित चोटिला गांव के ठाकुर के पुत्र थे। 1991 में जब वह रात को अपनी बुलेट 350 बाइक से गांव जा रहे थे तो एक सड़क हादसे में उनकी मृत्यू हो गई। ऐसा कहा जाता है कि हादसे के बाद जब पुलिस इस मोटरसाइकिल को थाने लेकर आई तो अगले ही दिन सुबह ये बाइक अपने आप गायब हो गई। पुलिस ने जब इस बाइक की तफ्तीश की तो वो बाइक उन्हें दुर्घनास्थल पर ही मिली।

कहा जाता है कि पुलिस कई बार इस बाइक को थाने लेकर आई लेकिन ये बाइक अगले दिन तलाश करने पर दुर्घटना स्थल पर ही पाई गई। ओम बन्ना के परिवार वालों का कहना था कि उन्हें अपनी बाइक अति प्रिय थी।

गांव वालों ने बनवा दिया मंदिर

bullet baba mandir
Youtube

धीरे-धीरे ये हैरान कर देने वाला किस्सा आग की तरह पूरे गांव में फैल गया। हर कोई इस हैरतअंगेज़ किस्से को सुनकर भौचक्का रह गया। जिस स्थान पर ओम बन्ना का निधन हुआ था, गांववालों ने उसी स्थान पर एक चबूतरा बनवाकर ओम बन्ना का मंदिर बनवा दिया। इस मंदिर में किसी देवता की तस्वीर की जगह, ओम बन्ना की बाइक खड़ी की गई, जिसकी पूजा गांववालों रोज़ाना करते हैं।

पुलिसवालों और ओम बन्ना के पिता ने इसे उनकी इच्छा समझ, उस मोटर साइकिल को दुर्घटनास्थल से नहीं हटाया और लोगों ने वहा उनके नाम का मंदिर बनवा दिया। मान्यता है कि रात्रि में अक्सर वाहन चालकों को ओम बन्ना दुर्घटना से बचाने के उपाय करते व चालकों को रात्रि में दुर्घटना से सावधान करते दिखाई देने लगे।

ओम बन्ना की आत्मा करती है रक्षा

गांववालों द्वारा बताया जाता है कि ओम बन्ना की आत्मा दुर्घटना संभावित स्थान तक जाने वाले वाहन को जबरदस्ती रोक देती है या धीरे कर देती हैं ताकि उनकी तरह किसी की भी अकस्मात मौत, दुर्घटना के कारण न हो। ऐसी कई किवदंतियां है जो यहां रहने वाले लोगों के मुंह से सुनी जा सकती हैं। कुछ का तो दावा है कि बन्ना ने उनकी जान बचाई है। आज यह बुलेट बाबा मंदिर देश में काफी प्रसिद्ध है। पर्यटक यह मंदिर दूर-दूर से देखने आते हैं।

Facebook Comments