Gulf of Alaska: दुनिया में बहुत सी ऐसी चीजें हैं, जिनका जवाब अब तक विज्ञान के पास भी नहीं है। अलास्का की खाड़ी में एक ऐसी जगह है, जहां इस दुनिया के दो विशाल समुद्रों का आपस में मिलन होता है, लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इनका पानी आपस में नहीं मिलता है। सोशल मीडिया में और इंटरनेट पर आपको इन दोनों समुद्रों से जुड़े हुए ढेरों वीडियोज और फोटोज देखने को मिल जाएंगे।

इन सभी वीडियोज और फोटोज में यही देखने को मिलता है कि इन दो विशाल समुद्रों का यहां आपस में मिलन तो हो रहा है, लेकिन इन दोनों समुद्रों के पानी का रंग एक-दूसरे से बिल्कुल अलग है। इससे साफ पता चलता है कि इन दोनों समुद्रों के मिलने के बावजूद इनके पानी का आपस में मिलन नहीं हो पा रहा है।

पानी चाहे किसी भी चीज का क्यों न हो, अगर आप दो अलग-अलग जगह से पानी लाकर मिलाते हैं तो वे आपस में मिल ही जाते हैं। फिर भी इन दो विशाल समुद्र के पानी का आपस में इस तरीके से नहीं मिल पाना अपने आप में एक बड़ी पहेली बना हुआ है। एक ऐसी पहेली जिसे हर कोई सुलझाना चाहता है।

अलग-अलग रंग (Two oceans Meet in Gulf of Alaska)

Gulf of Alaska
Image Credit: Hidabrut.com

यह देखना बहुत ही दिलचस्प है कि इन दोनों समुद्रों के पानी का रंग अलग-अलग है। दोनों ही समुद्रों का पानी एक जगह पर आकर मिलता तो है, लेकिन यह आपस में मिक्स बिल्कुल भी नहीं होता है। इन दोनों का अपना अलग-अलग रंग बना हुआ रहता है। इससे यह साफ देखने को मिलता है कि दो समुद्र एक-दूसरे से आकर मिल तो गए हैं, लेकिन ये दोनों एक दूसरे में समाहित नहीं हो रहे हैं।

इसमें से एक समुद्र के पानी का रंग हल्का नीला दिखता है। यह पानी ग्लेशियर से निकल कर आता है। वहीं, दूसरे समुद्र के पानी का रंग गहरा नीला नजर आता है। नदियों से आ रहा पानी इस समुद्र में मिलता है। इस तरीके से जहां ये दोनों समुद्र मिल रहे हैं, उसमें एक ओर हल्का नीले रंग का पानी, जबकि दूसरी और गहरे नीले रंग का पानी नजर आता है। यहां एक लकीर खींची हुई सी नजर आती है।

दो समुद्रों का आपस में मिलना, लेकिन इनके पानी का एक-दूसरे में नहीं मिलना एक रहस्य ही बना हुआ है। इस रहस्य को अब तक कोई वैज्ञानिक भी नहीं सुलझा सके हैं। कई वैज्ञानिकों ने इसे लेकर रिसर्च भी किया है। फिर भी अब तक इसका ठीक-ठाक और संतुष्ट कर देने वाला जवाब किसी भी वैज्ञानिक की ओर से नहीं दिया जा सका है।

अलग-अलग दावे

कुछ लोगों ने यह दावा किया है कि खारे और मीठे पानी का घनत्व अलग अलग होता है। इसमें से एक समुद्र का पानी खारा है, जबकि दूसरे का पानी मीठा है। ऐसे में अलग-अलग घनत्व होने के कारण इन दोनों समुद्रों का पानी आपस में मिल नहीं पा रहा है। वहीं, बहुत से लोग इसे धार्मिक दृष्टिकोण से भी देख रहे हैं। उनका ऐसा कहना है कि कुरान और बाइबिल में भी इसका जिक्र किया गया है कि इन दो समुद्रों का पानी आपस में नहीं मिल सकता।

दीवार सा दिखता है

दोनों समुद्रों के मिलने वाली जगह पर झाग की एक दीवार सिर्फ नजर आती है। साफ दिखता है कि दो समुद्रों के मिलने पर भी इनका पानी मिल नहीं पाता है। जुलाई 2010 में कैंट स्मिथ नाम के फोटोग्राफर ने पहली बार यहां की तस्वीर निकाली थी। अलास्का की बात की जाए तो रूस का पहले यह हिस्सा हुआ करता था, मगर रूस से अलास्का को महज 70 लाख डॉलर में अमेरिका ने खरीद लिया था और तब से अलास्का अमेरिका का हिस्सा बना हुआ है।

Facebook Comments