Betaal Review: ऐसा लगता है मानो इन दिनों नेटफ्लिक्स लोगों को लुभाने की हर कोशिश कर रहा है लेकिन बार-बार उसके हाथ नाक़ामयाबी ही लग रही है। विशेष रूप से नेटफ्लिक्स इंडिया के कंटेंट दर्शकों को पिछले कुछ समय से पसंद नहीं आ रहे हैं खास करके अगर हम बात करें हॉरर जॉनेरा की। 24 मई को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ हुई हॉरर वेब सीरीज़ “बेताल” से लोगों को काफी उम्मीदें थी। पैट्रिक ग्राहम के निर्देशन में बनी इस वेब सीरीज़ में मुख्य किरदार में नजर आए हैं मुक्केबाज़ के विनीत कुमार और बहुत से वेब सीरीज़ में लीड रोल कर चुकी अभिनेत्री आहना कुमरा। आइये जानते हैं घोस्ट स्टोरीज के बाद ये नई हॉरर सीरीज़ दर्शकों को डराने में कितनी क़ामयाब और कितनी नाक़ामयाब रही।

दर्शकों को नहीं डरा पाई “बेताल” 

betaal review netflix series failed to scare people
Image Source: Netflix

हिंदी हॉरर सीरीज़ के मामले में नेटफ्लिक्स को एक बार फिर से मुँह की खानी पड़ी है। जी हाँ इससे पहले नेटफ्लिक्स पर आ चुकी हॉरर वेब सीरीज “घोस्ट स्टोरीज” को भी दर्शकों ने कुछ खास पसंद नहीं किया था। अब बेताल के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। दर्शकों को बेताल किसी भी एंगल से डराने में कामयाब नहीं रही। आपको बता दें कि, बेताल निर्देशक पैट्रिक ग्राहम हैं उन्होनें इससे पहले नेटफ्लिक्स के लिए घोस्ट स्टोरीज बनाई थी। पैट्रिक एक बार फिर से अपनी हॉरर सीरीज के माध्यम से दर्शकों को डरने में बुरी तरह से विफल रहे हैं। महज तीन घंटे की इस वेब सीरीज को चार पार्ट में बनाया गया है। शाहरुख खान के प्रोडक्शन हाउस रेड चिली के तहत बनी इस वेब सीरीज़ का निर्देशन निखिल महाजन ने किया है। इसकी कहानी पैट्रिक ग्राहम और सुहानी कनवर ने मिलकर लिखी है।

क्या है इस वेब सीरीज़ की कहानी

betaal review netflix series failed to scare people
Image Source: Netflix

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, इस वेब सीरीज़ में प्लाट को छोड़कर कुछ भी ख़ास नहीं है। बेताल की कहानी भी किसी अन्य ज़ॉम्बी फिल्मों की तरह घिसी पीटी है, इसे इंडियन टच देने की कोशिश की गई है। इस वेब सीरीज की कहानी एक आदिवासी गांव की हैं जहाँ एक पुराने टनल को खोलकर हाईवे बनाने का काम एक कांट्रेक्टर को सौंपा जाता है। इस टनल को खाली करवाने का काम आर्मी के स्पेशल टास्क फोर्स को सौंपा जाता है।

इस टीम को लीड करते हैं विनीत कुमार, जब वो अपनी टीम के साथ गांव पहुंचते हैं तो आसपास के लोग उन्हें उस टनल से दूर रहने को कहते हैं। इसके बाद ही शुरू होती है हॉरर की कहानी। जहाँ कुछ सीन में आप भरसक डर भी जाए लेकिन कहानी आपको कहीं से भी यूनीक नहीं लगेगी। बेताल के लीड एक्टर विनीत कुमार अपने अभिनय का जलवा गैंग्स ऑफ़ वासेपुर और मुक्केबाज जैसी फिल्मों में दिखा चुके हैं। लेकिन यहाँ अच्छा अभिनय करने के वाबजूद भी उन्हें सफलता नहीं मिली।

यह भी पढ़े:

बात करें आहना कुमरा की तो, उन्हें बेताल में अभिनय करने का मौका नहीं मिल पाया है। आहना के हिस्से बहुत ही कम सीन्स आए हैं। बाकी यदि आप घर बैठे बोर हो रहे हैं तो टाइम पास के लिए एक बार आप इस सीरीज़ को देख सकते हैं। बाकी की कहानी आप खुद देखें तो ज्यादा बेहतर है। यहाँ हम कुछ सस्पेंस आपके लिए छोड़ रहे हैं ताकि आप अपनी राय खुद बना सकें।

Facebook Comments