बिहार में होने वाले विधानसभा चुनावों(Bihar Assembly Election) को देखते हुए सभी पार्टियों की ओर से अपने-अपने उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया जा रहा है। इसी क्रम में अब भाजपा की ओर से मंगलवार देर शाम पहले चरण की 27 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी गई है। जबकि आरडेजी की ओर से भी 41 सीटों के लिए उम्मीदवारों के नाम का ऐलान किया गया है।

भाजपा की लिस्ट जारी होते ही उठा ये मुद्दा

First Phase Candidate Name Announced
Image Source – PTI

भाजपा की लिस्ट जारी होने के बाद सवर्णों की राजनीति का मुद्दा भी गरमा गया है। इसके पीछे वजह बताई जा रही है कि भाजपा(BJP) ने अपनी आधी से ज्यादा सीटों पर सवर्ण समुदाय पर दांव खेला है, जबकि आरजेडी(RJD) ने एक बार फिर से ओबीसी समुदाय को ही साधने की कोशिश की है। भाजपा के 27 उम्मीदवारों में से 16 सीटों पर सवर्ण उम्मीदवार हैं। जिसमें से 7 टिकट राजपूत प्रत्याशियों को दिए गए हैं। 6 भूमिहार और 3 ब्राह्मणों को दिए गए हैं। इसके अलावा भाजपा ने भी 3 यादव प्रत्याशियों के जरिए भी आरजेडी के वोटबैंक में सेंधमारी करने की कोशिश की है।

इसके अलावा भाजपा की लिस्ट में 3 अनुसूचित जाति, एक आदिवासी, एक वैश्य, एक बिंद, एक दांगी और एक चंद्रवंशी कैंडिडेट शामिल हैं। इनमें 5 महिला प्रत्याशी भी हैं। वहीं आरजेडी की लिस्ट की बात करें, तो इस लिस्ट में सबसे ज्यादा 23 कैंडिडेट पिछड़े समुदाय के हैं। जिनमें से 20 यादव समुदाय के प्रत्याशी हैं और 8 अनुसूचित जाति के भी उम्मीदवार इसमें शामिल हैं। इसके अलावा एक अनुसूचित जनजाति, तीन अति पिछड़े समुदाय और दो मुस्लिम प्रत्याशियों को भी आरजेडी ने अपनी लिस्ट में जगह दी है।

यह भी पढ़े

आरजेडी ने महिला प्रत्याशियों को दी टिकट

इसके अलावा आरजेडी ने भी 10 महिला प्रत्याशियों को अपनी लिस्ट में जगह दी है। इसके अलावा आरजेडी की लिस्ट में दो राजपूत, एक ब्राह्मण, एक भूमिहार और एक वैश्य समाज के उम्मीदवार को भी मैदान में उतारा गया है। आपको बता दें कि इससे पहले कांग्रेस ने भी बिहार चुनाव(Bihar Assembly Election) में सवर्ण कार्ड खेलने की कोशिश की थी। जिसमें कांग्रेस के 21 प्रत्याशियों में से 14 टिकट सवर्ण समुदाय के लोगों को दिए गए हैं। इनमें भूमिहार को 6, राजपूत को 5, ब्राह्मण को 2 और कायस्थ का एक प्रत्याशी मैदान में उतारा गया है।

Facebook Comments