Nirmala Sitharaman: कोरोना वायरस भारत में तेजी से संक्रमित हो रहा है। इस बड़े खतरे को मद्देनजर रखते हुए भारत सरकार ने 21 दिन का लॉक डाउन जनहित में जारी किया। 21 दिनों में देश की सभी सेवाएं स्थगित की गई है। सभी प्राइवेट एवं सरकारी दफ्तर बंद है।  सभी रेल रोडवेज एवं एयरलाइन सेवाएं भी निरस्त की जा चुकी है। यह सारी चीजें करने का उद्देश्य एक ही है कि भारत में कोरोनावायरस को और फैलने से रोका जा सके।

वित्त मंत्री का बड़ा बयान,आर्थिक पैकेज का किया ऐलान

जहां एक तरफ वर्तमान में कोरोनावायरस जन जीवन के लिए बड़ा खतरा है , वहीं दूसरी तरफ यह भविष्य में भारत को एक बड़ा आर्थिक झटका देने वाला है| इकोनामिक विशेषज्ञों की मानें तो भारत बड़े इकोनामी लॉस में जा सकता है। 21 दिन के लॉक डाउन में सबसे ज्यादा चिंतित गरीब परिवार के लोग हैं। ऐसे में आशा की किरण की तरह सरकार की तरफ से उन्हें मदद का ऐलान किया गया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने उन्हें राहत की सांस देते हुए यह बताया कि गरीब कल्याण योजना के तहत गरीबों को 1.7 लाख करोड़ की मदद दी जाएगी।
उन्होंने यह भी बताया कि इस ऐलान का फायदा गरीब वर्ग मजदूर वर्ग महिला वर्ग के अलावा दिव्यांग विधवा और बुजुर्ग वर्ग को मिलेगा।

लॉक डाउन में बड़ी राहत, गरीब वर्ग के लोगों को पैकेज का ऐलान

यह खबर गरीब वर्ग के लोगों के लिए किसी बड़ी राहत से कम नहीं। लॉक डाउन का असर भारत की आर्थिक व्यवस्था पर कितना पड़ता है यह तो वक्त ही बताएगा। फिलहाल तो हम सभी को इस लॉक डाउन का सख्ती से पालन करना चाहिए और कोरोना को अपने देश से जल्द से जल्द खत्म कर देना चाहिए।

Facebook Comments