सोशल मीडिया(Social Media) पर अक्सर ही अपने लुक्स को लेकर नव्या नवेली नंदा(Navya Naveli Nanda) चर्चा का विषय बनी रहती हैं और बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन(Amitabh Bachchan) की नातिन होने के चलते उन्हें और भी ज्यादा लाइमलाइट मिलती है। लोग भी सोशल मीडिया पर उनके पोस्ट और फोटोज को लाइक करते रहते हैं। हालांकि एक बार फिर से नव्या सोशल मीडिया पर सुर्खियों में बनी हुई हैं। हालांकि इस बार वजह कुछ और है।

दरअसल नव्या नवेली नंदा(Navya Naveli Nanda) ने इस बार आरा हेल्थ से मेंटल हेल्थ के बारे में बात की है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि नव्या नंदा भी एंग्जाइटी(Anxiety) जैसी बीमारी का शिकार रह चुकी हैं और इस बात का पता केवल उनके परिवार वालों को ही था। हालांकि अब उन्होंने थेरेपी के जरिए इससे निजात पाई है और साथ ही सोशल मीडिया(Social Media) पर यह भी बताया है कि किस तरह से उन्होंने थेरेपी की मांग की और अपनी इस बीमारी से निजात पाया।

एंग्जाइटी(Anxiety) पर बोलीं नव्या

नव्या(Navya Naveli Nanda) ने संस्था के को-फाउंडर्स से बात करते हुए बताया कि वह पहले इस थेरेपी के बारे में सहज नहीं महसूस करती थीं। हालांकि अब वह इस पर खुलकर बोल सकती हैं। नव्या ने कहा है, ‘यह चीज मेरे लिए बिल्कुल नहीं थी। मैं इसके बारे में बात करने से पहले इसका अनुभव करना चाहती थी। जाहिर है कि मेरे परिवार को मेरी थेरेपी के बारे में मालूम था लेकिन मेरे दोस्त इस बात से अवगत नहीं थे। मुझे लगा कि मैं कई बार यह महसूस कर चुकी हूं कि अब इससे बुरा कुछ नहीं हो सकता और मुझे यह भी नहीं पता था कि क्यों’।

Image Source – T2online.com

नव्या ने आगे बात करते हुए बताया, मुझे लगा कि ठीक है, किसी चीज को बदलना जरूरी है और मुझे इस पर बात करने की आवश्यकता है। अब हफ्ते में एक बार मैं इस रूटीन में हूं और मुझे नहीं लगता कि अब स्थिति उतनी बेकार है, क्योंकि सारी चीजें नियंत्रण में हैं। अब मुझे पता है कि क्या चीज है, जो बार-बार परेशान कर रही थी।’

यह भी पढ़े

सकरात्मक लोगों का साथ जरूरी

Navya Naveli Nanda Post About Anxiety
Image Source – Thequint.com

नव्या(Navya Naveli Nanda) ने एंग्जाइटी के बारे में बात करते हुए कहा, ‘मेरी जिंदगी में एक समय था जब मैं सकारात्मक लोगों से घिरी नहीं थी। मैंने देखा कि कैसे जो मैं सोचती हूं, नकारात्मकता उसे प्रभावित करती है। केवल अपने बारे में नहीं, बल्कि दुनिया के बारे में भी। मैंने उन लोगों से सीखा, जो मेरे आसपास थे और जिन्होंने मुझे खुश रहने में मदद की।’

Facebook Comments