IPL 2020 DC Vs KXIP: इंडियन प्रीमियर लीग 2020 के सीजन का दूसरा मुकाबला बीते रविवार को दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब(Delhi Capitals Vs Kings XI Punjab) के बीच खेला गया था। जिसमें दिल्ली कैपिटल्स ने सुपर ओवर में बेहद रोमांचक जीत दर्ज की और पंजाब को इस सीजन की शुरुआत हार से करनी पड़ी। हालांकि अब इस मैच को लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है। इस विवाद को लेकर टीम के फैंस भी काफी गुस्से में हैं।

दरअसल अंपायर ने शॉर्ट रन देकर किंग्स इलेवन पंजाब(Kings XI Punjab) का एक रन काट लिया था लेकिन जब बाद में री-प्ले देखा गया, तो बल्ला क्रीज के अंदर था। ऐसे में फैंस का आरोप है कि अंपायर के एक गलत फैसले से किंग्स इलेवन पंजाब को कल के मैच में हार का मुंह देखना पड़ा। यही नहीं अंपायर के इस फैसले पर अब किंग्स इलेवन पंजाब की मालकिन प्रीति जिंटा को भी गुस्सा आ गया है। उन्होंने बीसीसीआई से नए रूल्स की मांग की है।

दरअसल प्रीति जिंटा(Preity Zinta) ने वीरेंद्र सहवाग(Virender Sehwag) के ट्वीट पर लिखा है, ‘मैंने एक महामारी के दौरान उत्साहपूर्वक यात्रा की, 6 दिन क्वारंटीन और 5 कोविड परीक्षण मुस्कुराहट के साथ दिए लेकिन उस एक शॉर्ट रन ने मुझे हिलाकर रख दिया। यदि तकनीक का सही इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है तो इसके होने का मतलब क्या है? यह समय है बीसीसीआई नए रूल्स बनाए। ऐसा हर साल नहीं हो सकता है।’

इसके अलावा प्रीति जिंटा(Preity Zinta) ने एक और ट्वीट कर लिखा है, ‘मैं हार या जीत को खेल की भावना से स्वीकार करने में विश्वास रखती हूं। लेकिन नीतिगत बदलावों के लिए पूछना भी महत्वपूर्ण है, जो भविष्य में सभी के लिए सही होगा। जो हुआ सो हुआ। अब आगे बढ़ने की बारी है। इसलिए आगे देख रही हूं। हमेशा सकारात्मक हूं।’

यह भी पढ़े

ये है मामला

आपको बता दें कि बीते रविवार को किंग्स इलेवन पंजाब(Kings XI Punjab) और दिल्ली कैपिटल्स के बीच हुए मैच में जब पंजाब की बल्लेबाजी चल रही थी। इसी दौरान कगिसो रबाडा गेंदबाजी करने आए। उस समय पंजाब को 12 गेंद पर 25 रन बनाने थे। मयंक अग्रवाल शानदार बल्लेबाजी कर रहे थे। पहली गेंद को उन्होंने डिफेंड किया और दूसरी गेंद पर चौका जड़ दिया। इसके बाद उन्होंने तीसरी गेंद पर शॉट खेला और दो रन के लिए भागे। लेकिन एक रन अंपायर ने शॉर्ट बताकर रन ही नहीं दिया। जिसके बाद आखिरी गेंद पर पंजाब को जीत के लिए एक रन चाहिए था लेकिन मैच टाई हो गया।

Facebook Comments