Softbank Partners Bid For TikTok Assets: पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प के बाद भारत ने चीन के 58 ऐप्स पर बैन लगा दिया था। जिसमें भारत में सबसे ज्यादा चर्चित वीडियो ऐप टिकटॉक(TikTok) भी शामिल था। यह बैन इसलिए लगाया गया था, क्योंकि चीन के साथ हुई हिंसक झड़प में भारतीय सेना के एक अफसर समेत 20 जवान शहीद हो गए थे। हालांकि अब यह जानकारी सामने आ रही है कि टिकटॉक जल्द ही भारत में वापसी कर सकता है।

TikTok In India
Image Source – Pixabay

जानकारी के मुताबिक टिकटॉक(TikTok) के भारतीय एसेट को जापानी कंपनी सॉफ्टबैंक(SoftBank) खरीदने की तैयारी कर रही है। अगर ऐसा होता है, तो टिकटॉक दोबारा भारत में वापसी कर सकता है। सूत्रों के मुताबिक इस डील के लिए वह भारतीय साझेदार भी तलाश रही है। यही नहीं रिलायंस जियो और भारती एयरटेल से कंपनी की बात भी हो रही है।

टिकटॉक(TikTok) को खरीदने के फिराक में कंपनियां

TikTok Assests In India
Image Source – PIXABAY

जानकारी के मुताबिक भारत के अलावा अमेरिका में भी टिकटॉक(TikTok) पर बैन है और वहां भी इसके कारोबार को खरीदने की कोशिश कई टेक कंपनियों की ओर से की जा रही है। जबकि भारत और अमेरिका ने टिकटॉक पर इसलिए बैन लगा दिया था, क्योंकि इन ऐप्स के जरिए चीन पर लोगों का डेटा चुराने का भी आरोप लगा था।

यह भी पढ़े

रेस में शामिल हैं ये भारतीय कंपनियां

SoftBank Bid For TikTok
Image Source – Pixabay

गौरतलब हो कि टिकटॉक(TikTok) की चीनी पैरेंट कंपनी बाइटडांस में जापानी समूह सॉफ्टबैंक(SoftBank) की पहले से ही हिस्सेदारी है। रिपोर्ट के मुताबिक उसने टिकटॉक का भारतीय कारोबार खरीदने के लिए कोशिश शुरू कर दी है और रिलायंस जियो इन्फोकॉम और भारती एयरटेल को भी साझेदार बनाने के लिए बातचीत की जा रही है। हालांकि रिलायंस जियो और एयरटेल की ओर से इस मामले को लेकर अभी कोई भी आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

आपको बता दें कि टिकटॉक(TikTok) पर बैन के दौरान भारत में टिकटॉक के 30 फीसदी यूजर भारतीय ही थे। यही नहीं इसी लगभग 10 फीसदी कमाई भी भारत से ही होती थी। ऐसे में भारत टिकटॉक के जरिए चीन का एक बड़ा बाजार था लेकिन इस ऐप पर बैन लगने से चीन की कमर टूट गई थी। अप्रैल 2020 तक गूगल प्ले स्टोर और ऐप्पल ऐप स्टोर से टिकटॉक के 2 अरब डाउनलोड किए गए थे। जिसमें से लगभग 30 फीसदी यानी 61.1 करोड़ डाउनलोड भारत से थे।

Facebook Comments