Aarogya Setu Mandatory for Flight Travel: करीब 2 महीनों से पूरा देश कोरोना वायरस से जंग लड़ रहा है। सब जगह लॉकडाउन है और लोग अपने-अपने घरों में बंद हैं। लेकिन अब हालातों को सामान्य करने के लिए धीरे-धीरे जरूरी चीजें शुरू की जा रहीं हैं। देश में यातायात पूरी तरह से प्रतिबंधित था लेकिन अभी कुछ दिन पहले ट्रेनों की आवाजाही शुरू की गई और अब फ्लाइट शुरू करने का महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है। मंत्रालय ने एयरपोर्ट ऑपरेटर एवं एयरलाइंस की रजामंदी के बाद एक स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) तैयार किया है जिसमें, एयरपोर्ट ऑपरेटर और एयरलाइंस के साथ-साथ यात्रियों की जिम्मेदारियों का भी जिक्र किया गया है।

इस एसओपी के तहत कोविड-19 से बचाव के लिए एयरपोर्ट ऑपरेटर और एयरलाइंस को कुछ जरूरी बातों का खास खयाल रखना होगा। इस एसओपी में यात्रियों के लिए ‘क्‍या करें और क्‍या ना करें’ जैसे निर्देश भी दिए गए हैं। उन्‍होंने बताया कि सभी एजेंसीज की यही कोशिश है कि इस वायरस के संक्रमण से बचाव करते हुए सभी यात्रियों को सुरक्षित उनके गंतव्‍य स्थान तक पहुंचाया जाए।

फ्लाइट के समय से 2 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुँचना होगा अनिवार्य (Aarogya Setu Mandatory for Flight Travel)

aarogya setu app mandatory
Gizbot

एविएशन से जुड़े एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने बताया कि “नई एसओपी लागू होने के बाद एयरपोर्ट पर होने वाली सभी प्रक्रियाओं में पहले के मुताबिक ज्यादा समय लगेगा। इसी बात को ध्‍यान में रखते हुए, नई एसओपी में मुसाफिरों को अपनी फ्लाइट के निर्धारित समय से 2 घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचने की सलाह दी गई है”। उन्‍होंने बताया कि एयरपोर्ट पर आने-जाने वाले सभी यात्रियों के मोबाइल फोन में आरोग्‍य सेतु एप होना अनिवार्य होगा। इसके बिना एयरपोर्ट में प्रवेश करना निषेध होगा और आरोग्‍य सेतु एप में केवल ग्रीन स्‍टेटस होने पर ही पैसेंजर्स को एयरपोर्ट टर्मिनल बिल्डिंग में प्रवेश करने की अनुमति मिलेगी। इसके अलावा, यात्रियों के लिए ग्लव्स, मास्‍क और शू-कवर पहनना भी अनिवार्य होगा। कुछ एयरपोर्ट्स पर आवश्‍यकतानुसार फेस शील्‍ड और पीईपी किट पहनने की भी सलाह दी गई है।

केवल एक ही चेक-इन बैग ले जाने की मिलेगी अनुमति

नई एसओपी के तहत, मुसाफिर अब अपने साथ केबिन बैगेज कैरी नहीं कर पाएंगे। यात्री अपने साथ सिर्फ एक 20 किलो तक का चेक-इन बैग ही ले जा सकेंगे। कम से कम संपर्क रखने के लिए अब मुसाफिरों को खुद ही अपना बैग बैगेज बैल्‍ट में रखना होगा। वहीं, एक्‍सेस बैगेज की स्थिति में यात्री, सिर्फ डिजिटल मोड से ही भुगतान कर सकेंगे। एयरपोर्ट पर किसी भी कीमत पर नगद ट्रांजेक्‍शन की अनुमति नहीं दी जाएगी। एयरलाइंस को यह निर्देश भी दिए गए हैं कि एक सीमित संख्या में ही यात्रियों को चेक-इन काउंटर पर सुरक्षा जांच के लिए भेजा जाए, जिससे सोशल डिस्‍टेंसिंग का पूरी तरह से पालन हो सके। इसके अलावा, एसओपी में सभी एयरलाइंस को यह खास निर्देश दिया गया है कि एयरक्राफ्ट में प्रवेश से पहले सभी मुसाफिरों के टेंपरेचर की जांच करना भी अनिवार्य होगा।

Facebook Comments