दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आ गए हैं। अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को इस चुनाव में बहुत बड़ी जीत हासिल हुई है, क्योंकि 70 सीटों वाली दिल्ली विधानसभा चुनाव में उन्हें 62 सीटों पर जीत मिली है। मुख्य विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी को केवल 8 सीटों पर ही संतोष करना पड़ा है, जबकि कांग्रेस तो दोबारा अपना खाता तक खोल पाने में नाकाम रही है। खास बात यह है कि आम आदमी पार्टी की इस जीत में जिन उम्मीदवारों ने जीत का स्वाद चखा है, उनमें एक पंचर बनाने वाले का बेटा भी शामिल है। दूसरी बार उनके बेटे को दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत मिली है। जानिए जंगपुरा विधानसभा से चुने गए आम आदमी पार्टी के के पिता आज भी क्या करते है काम? (AAP MLA’s Father’s Job)

अन्ना आंदोलन से आगाज

Know About AAP MLA Candidate Praveen Kumar Fathers Job
RapidLeaks

प्रवीण कुमार को दिल्ली की जंगपुरा विधानसभा चुनाव से जीत हासिल हुई है। उन्होंने वर्ष 2011 में तब अपनी नौकरी छोड़ दी थी, जब अन्ना हजारे का आंदोलन चल रहा था। वे भी आंदोलन में कूद पड़े थे। बाद में जब आम आदमी पार्टी गठित हुई तो वे पार्टी में शामिल हो गए। उन्होंने दिल्ली विधानसभा का चुनाव जंगपुरा सीट से ही लड़ा था। यहां से उन्हें जीत भी हासिल हुई और वे विधायक बन गए। इस बार फिर से उन्होंने जंगपुरा विधानसभा सीट से ही चुनाव लड़ा और इस बार भी उन्होंने जीत का स्वाद चखा है।

कौन हैं प्रवीण कुमार?

AAP MLA's Father's Job
AajTak

मूल रूप से प्रवीण कुमार मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के रहने वाले हैं। पढ़ाई में वे बचपन से ही काफी अच्छे रहे थे। इसलिए उनके पिता ने भी पढ़ाई करने से उन्हें कभी भी नहीं रोका। वर्ष 2008 में प्रवीण कुमार ने एमबीए की पढ़ाई पूरी कर ली। इसके बाद नौकरी करने के लिए वे दिल्ली पहुंच गए। यहां 2 से 3 वर्षों तक उन्होंने नौकरी की, लेकिन जब वर्ष 2011 में अन्ना हजारे ने भ्रष्टाचार के खिलाफ अपना आंदोलन शुरू किया तो प्रवीण कुमार उससे बेहद प्रभावित हुए। उन्होंने अपनी नौकरी को इसके लिए लात मार दी और आंदोलन का हिस्सा बन गए।

नेतृत्व क्षमता से मिली पहचान

Know About AAP MLA Candidate Praveen Kumar Fathers Job
PunjabKesari

प्रवीण कुमार ने महसूस किया कि अन्ना हजारे द्वारा छेड़ा गया आंदोलन देश में बहुत बड़ा बदलाव लाने जा रहा है। इसीलिए वे पूरे जी-जान से इस में कूद पड़े। उनकी पढ़ाई-लिखाई और उनकी नेतृत्व क्षमता को देखते हुए उनका नाम अरविंद केजरीवाल की लिस्ट में भी उसी समय जुड़ गया था। जब बाद में आम आदमी पार्टी का गठन हुआ तो इसका लाभ भी उन्हें मिला।

आप ने बनाया अपना उम्मीदवार

AAP MLA's Father's Job
PunjabKesari

वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी ने जंगपुरा विधानसभा क्षेत्र से प्रवीण कुमार को अपना उम्मीदवार बनाया। इसके बाद प्रवीण कुमार ने यहां अपनी जमीन बनाने के प्रयास शुरू कर दिए। घर-घर जाकर उन्होंने लोगों से मिलना शुरू किया। लोगों को उन्होंने यह भरोसा दिलाया कि चुने जाने के बाद किस तरह से वे उनके लिए समर्पित होकर काम करेंगे। अपनी बात आमजनों तक पहुंचाने में प्रवीण कुमार पूरी तरह से सफल रहे। इसका नतीजा यह हुआ कि उन्हें इस चुनाव में करीब 20 हजार मतों के अंतर से जीत हासिल हुई।

अबकी फिर मिली जीत

Know About AAP MLA Candidate Praveen Kumar Fathers Job
PunjabKesari

विधानसभा चुनाव में जब प्रवीण कुमार को जीत मिल गई तो इसके बाद अगले 5 वर्षों तक उन्होंने हर उस वादे को निभाया, जो उन्होंने अपने क्षेत्र की जनता से किया था। उनके काम को देखते हुए और जनता के बीच उनकी लोकप्रियता को देखते हुए अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर से वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव के लिए जंगपुरा से उन्हें आम आदमी पार्टी का प्रत्याशी बना दिया। जनता ने प्रवीण कुमार पर भरोसा जताते हुए दुबारा उन्हें इस बार भी जंगपुरा से चुनाव जीता दिया है।

यह भी पढ़े:
दिल्ली में बीजेपी के राष्ट्रवाद की निकली हवा और केजरीवाल के स्वस्थ , शिक्षा और विकास को मिला जनता का जनादेश|

पिता ने नहीं छोड़ा अपना काम (AAP MLA’s Father’s Job)

AAP MLA's Father's Job
PunjabKesari

सबसे खास बात और प्रेरणा देने वाली बात तो यह है कि प्रवीण कुमार भले ही अब दूसरी बार विधायक बन गए हैं, लेकिन उनके पिता जिनका नाम पीएन देशमुख है, उनकी स्थिति में वर्ष 2011 से अब तक किसी भी तरह का कोई बदलाव नहीं आया है। वे उस दौरान जैसे थे, आज भी बिल्कुल वैसे के वैसे ही है। जी हां, उनके बेटे प्रवीण कुमार भले ही दूसरी बार विधायक चुन लिए गए हैं, लेकिन उनके पिता ने अपनी पंचर की दुकान आज तक बंद नहीं की है। उनके मुताबिक इसी की कमाई से उन्होंने अपने बेटे को एक काबिल इंसान बनाया है, जो आज विधायक बनकर जनता की सेवा कर रहा है। भोपाल के जिंसी चौराहे के समीप बोगदा पुल के पास प्रवीण के पिता की ज्योति टायर वर्क्स के नाम से जो दुकान है, आज भी प्रवीण कुमार के पिता वहां रोज जाते हैं और पंचर बनाने का काम करते हैं।

Facebook Comments